मोबाइल गेमिंग का बढ़ता नशा
Mukta|April 2021
जब कोई व्यक्ति किसी चीज का एडिक्ट हो जाता तो वह अच्छा महसूस करने के लिए अपना एडिक्शन नहीं दोहराता बल्कि सामान्य महसूस करने के लिए एडिक्शन को दोहराता है.
शाहनवाज

21 वीं शताब्दी की शुरुआत को टैक्नोलौजी की आमजन तक पहुंच का समय माना जाता है. यह वही समय है जिस के बाद से मोबाइल, कंप्यूटर, लैपटौप जैसी चीजें आमजन भी अफोर्ड कर पाया और अपने जीवन को मुख्यधारा से जोड़ पाया. शुरुआती समय में लोग मोबाइल का उपयोग सिर्फ एकदूसरे से कम्यूनिकेट करने के लिए किया करते थे लेकिन समय बीतने के साथसाथ मोबाइल की उपयोगिता बढ़ती ही चली गई. पहले साधारण फोन हुआ करते थे, लेकिन एक समय बाद 'स्मार्टफोन' की ईजाद हुई जिस ने लोगों के स्टेटस को बदल कर रख दिया.

स्मार्टफोन, नौर्मल फोन की तुलना में कहीं ज्यादा काम करने में सक्षम हैं. आजकल के समय में लोग मोबाइल सिर्फ एकदूसरे से संपर्क साधने के लिए नहीं खरीदते बल्कि कई तरह के काम करने के लिए खरीदते हैं, जैसे वीडियो देखने के लिए, गाने सुनने के लिए गेम्स खेलने के लिए आदि. वास्तव में आजकल तो स्मार्टफोन का निर्माण ही मोबाइल गेमिंग को ध्यान में रखते हुए किया जा रहा है.

गेम्स खेलना किसे पसंद नहीं होता. हर कोई हलके फुलके मनोरंजन के लिए थोडाबहुत गेम खेल कर दिमाग में चल रही भागदौड़ से खुद को शांत महसूस करता है. जब तक व्यक्ति अपने स्मार्टफोन में गेम्स खेल रहा होता है उस समय तक वह अपनेआप को शेष दुनिया से काट लेता है. कुछ पल के लिए ही सही, लोग अपनी नजरें अपने स्मार्टफोन में गढ़ा कर गेम्स खेल कर मानो सारी चिंताओं से खुद को मुक्त कर लेते हैं. लेकिन गेमिंग तब समस्या बन कर उभरती है जब लोग इस के एडिक्ट हो जाते हैं. गेमिंग का एडिक्शन इतना खतरनाक और इस के परिणाम इतने भयानक हो सकते हैं कि ये इंसान को पागलपन की ओर ले जा सकता है.

ऐसे लगती है लत

दिल्ली के जनकपुरी में रहने वाला 15 वर्षीय हर्षित 10वीं क्लास में पढ़ाई करता है. लौकडाउन के चलते स्कूल बंद हो जाने के कारण वह पिछले साल मार्च से ही अपने घर में कैद हो गया. स्कूल की तरफ से औनलाइन क्लास का प्रबंध किया गया और हर्षित के पेरैंट्स ने उसे औनलाइन क्लास अटैंड करने के लिए एक हलकी रेंज का ठीकठाक स्मार्टफोन खरीद कर दिया. जब तक औनलाइन क्लास होती तब तक तो ठीक, लेकिन उस के बाद हर्षित अपने नए स्मार्टफोन में पबजी गेम खेलने लगता. हर्षित अपनी क्लास में एवरेज मार्क्स लाने वाले स्टूडेंट्स में था. हर्षित के पेरैंट्स भी उसे फोन में गेम्स खेलने से टोकते नहीं थे, सोचते थे कि बच्चा घर बैठे खुद को इसी तरह से ही एंटरटेन कर सकता है.

शुरुआती दिनों में तो हर्षित गेम में अपना हाथ सैट करने के लिए एकाध घंटा ही गेम खेलता था. लेकिन जैसेजैसे वह गेम सीखता जा रहा था और अच्छा परफौर्म करता जा रहा था वैसेवैसे उस की पबजी गेम खेलने की ललक बढ़ती गई. गेम खेलने के दौरान उस के आसपास क्या घट रहा है, उसे किसी बात की सुध न होती. वह बस, अपने फोन में गेमिंग में व्यस्त रहता और मस्त रहता. समय बीता, तो हर्षित के पेरेंट्स उसे ले कर चिंता करने लगे. क्योंकि अब वह गेमिंग के लिए स्कूल की तरफ से चलने वाली अपनी औनलाइन क्लासेज भी मिस करने लगा था. जब कभी उस के मम्मीपापा इस बात पर उसे डांटफटकार लगाते तो वह उसे एक कान से सुन कर दूसरे से निकाल देता. उसे किसी बात का मानो फर्क पड़ना बंद हो गया था.

समय बीतने के साथसाथ हर्षित का पबजी खेलने का समय भी बढ़ता जा रहा था. एक घंटे से शुरुआत करने वाला हर्षित अब एक जगह बैठ कर बिना कुछ खाएपिए 5-6 घंटे गेम में बिता देता था. जब यह सबकुछ ज्यादा होने लगा तो सजा के तौर पर उस के पापा ने उस से एक दिन के लिए उस का फोन छीन लिया. हर्षित की गेमिंग एडिक्शन इतनी खतरनाक स्तर पर पहुंच चुकी थी कि अपने पास फोन न होने पर उस का मन बेचैन होने लगा. वह छोटीछोटी बातों पर चिढ़ने लगा. फोन छीने जाने की वजह से उस का मन इतना विचलित हो गया था कि गुस्से में उस ने खाना ही छोड़ दिया. मजबूरन उस के पिता को उसे फोन लौटाना पड़ा.

यह स्थिति आगे और भी भयावह होने लगी जब हर्षित रात को डिनर करने के बाद सोते वक्त नींद में भी 'इस को मार', 'उस को मार' बड़बड़ाने लगा. सुबह आंख खुलती तो ब्रश करने से पहले गेम खेलता. जहां कहीं भी जाता, अपना फोन हमेशा अपने साथ रखता. घर में अपने पेरेंट्स से छिपछिपा कर गेम खेलने का समय निकालता. टीनएज की इस उम्र में उस की आंखों के नीचे गहरे काले गड्ढे बन गए थे जोकि पूरी नींद न ले पाने की निशानी थी. समय से न खानेपीने से वजन में लगातार गिरावट आने लगी थी. हर्षित का सोशल इंटरैक्शन तो जैसे खत्म ही हो गया था.

हर्षित जैसे कई ऐसे बच्चे और कई ऐसे युवा हैं जो हमारे आसपास दिखाई दे जाएंगे. हो सकता है आप भी किसी ऐसे ही व्यक्ति को जानते हों जो बिलकुल हर्षित जैसा तो नहीं लेकिन गेम्स खेलने को ले कर पागल रहता हो.

मोबाइल मार्केटिंग एसोसिएशन्स पावर की 'मोबाइल गेमिंग इन इंडिया रिपोर्ट' के अनुसार, भारत में हर 4 में से 3 गेमर्स हर दिन कम से कम 2 बार गेम खेलते हैं. रिपोर्ट के अनुसार, "भारत 2 50 मिलियन (25 करोड़) मोबाइल गेमर्स के साथ दुनिया में शीर्ष 5 गेमिंग देशों में से एक है." इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि भारत में नेटफ्लिक्स या अन्य स्ट्रीमिंग प्लेटफौर्स से बिंज वौचिंग (वैब सीरीज देखने की आदत) से भी ज्यादा लोग अपने स्मार्टफोन में गेमिंग करना पसंद करते हैं.

2014 की फ्लरी की मोबाइल एनालिटिक रिसर्च के अनुसार, 2014 तक भारत में एक एंड्रोयड गेमर रोजाना औसतन 33.4 मिनट अपने स्मार्टफोन या टेबलैट पर गेम खेलते हुए खर्च करता था. लेकिन 2020 की साइबर मीडिया रिसर्च की रिपोर्ट के अनुसार, यह आंकड़ा बढ़ कर 7 घंटे प्रतिसप्ताह हो चुका है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MUKTAView All

प्यार जताने से बढ़ती है रिश्तों की महक

प्यार ऐसी चीज है जिसे जताना जरूरी है, अन्यथा उस की अहमियत समझ नहीं आती. पतिपत्नी हों या प्रेमीप्रेमिका, उन्हें अपने प्यार का इजहार करना चाहिए और खुल कर अपने दिल की बात बता देनी चाहिए.

1 min read
Mukta
September 2021

टोक्यो ओलिंपिक खेल को अर्श और फर्श पर ले जाने वाले 2 खिलाड़ी

टोक्यो ओलिंपिक में इस बार कई किस्से ऐसे रहे जिन्हें कई वर्षों तक याद रखा जाएगा. उन में से दो किस्से ऐसे रहे जिन्होंने खिलाड़ी को अर्श और फर्श पर पहुंचाया है.

1 min read
Mukta
September 2021

नए कपड़े पहनते समय रखें ध्यान

नए कपड़े खरीदना व पहनना सामान्य बात है पर जब बात कोरोनाकाल की हो तो खरीदे हुए कपड़े पहनने में सावधानी बरतने की बेहद जरूरत है, वरना अनचाही दिक्कत खड़ी हो सकती है.

1 min read
Mukta
September 2021

फ्लर्टिंग करिए, खुश रहिए

फ्लर्टिंग बातचीत करने की एक कला है, जिस के लिए अच्छे सैंस औफ ह्यूमर की जरूरत होती है. यह मन को खुश रहना सिखाता है. इसे सैक्सुअल हैरासमैंट से दूर रखे जाने की जरूरत है.

1 min read
Mukta
September 2021

Style OF THE MONTH

सुहाना खान की मदमस्त अदा

1 min read
Mukta
September 2021

औनलाइन गेम्स का भयावह जंजाल

कोरोनाकाल में सबकुछ औनलाइन होने से बच्चों में औनलाइन गेम खेलने की लत भी बढ़ गई है, इस कारण कई तरह की दिक्कतें सामने आने लगी हैं. ऐसे में मातापिता को खासा आगाह होने की जरूरत है.

1 min read
Mukta
September 2021

इंजीनियर बन कर भी हैं युवा बेरोजगार

सरकार की गलत नीतियों के चलते देश में इंजीनियरिंग की पढ़ाई किए लाखों छात्र बेरोजगार हैं. उन्हें नौकरी मिली भी तो आधेपौने वेतन पर. इंजीनियरिंग सैक्टर का यह हश्र और घटती युवाओं की दिलचस्पी कहीं देश के लिए घातक न साबित हो.

1 min read
Mukta
September 2021

“मुझे बोल्ड सीन करने से परहेज नहीं" वामिका गब्बी

शोहरत रातोंरात नहीं मिलती, इस के लिए तपना पड़ता है, अलग राह बनानी पड़ती है. 'ग्रहण' सीरीज देखने के बाद जिस भूरी आंख वाली खूबसूरत मनु यानी वामिका गब्बी की ऐक्टिग पर सब की नजर टिकी, वह यों ही यहां तक नहीं पहुंची.

1 min read
Mukta
September 2021

कैसे हो कालेज में पर्सनैलिटी डेवलपमैंट

कहते हैं सीखने की कोई उम्र नहीं होती, लेकिन पढ़ाईलिखाई करते हुए जो सीख लिया वही भविष्य की बुनियाद बनता है. ऐसे में पर्सनैलिटी डेवलपमैंट के लिए सब से उपयुक्त उम्र यही होती है.

1 min read
Mukta
August 2021

गूगल प्लेस्टोर टिप्स एंड ट्रिक्स

बिना ऐप इंस्टौल किए ऐप को चेक करना, प्लेस्टोर पर रुपए वेस्ट करने से बचना जैसे हैक्स आप को प्लेस्टोर में मिल जाएंगे. यहां यह जानिए कि उन्हें कैसे पता करें?

1 min read
Mukta
August 2021
RELATED STORIES

De-radicalizing the Extremists

Parents for Peace enlists ex-believers to help families win back loved ones drawn to Islamism, QAnon, and other ideologies. Demand has never been higher

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
October 18 - 25, 2021

THE GAME CHANGER

INSIDE DHD’S RECORD-SETTING DURAMAX

2 mins read
Diesel World
November 2021

Building Community Through Education

KIRAN BIR SETHI is changing the experience of childhood in Indian cities through her education curriculum and initiatives to build healthy relationships between students and their communities. Here she is interviewed by KASHISH KALWANI.

10+ mins read
Heartfulness eMagazine
September 2021

Granny Chic Galore!

A homeowner’s holiday décor is an homage to Christmas at her grandma’s house.

5 mins read
Cottages and Bungalows
FMD Christmas 21

INDIANA NOTIFYING 750K AFTER COVID-19 TRACING DATA ACCESSED

Indiana health officials said they are notifying nearly 750,000 state residents that a cybersecurity company “improperly accessed” their personal data from the state’s online COVID-19 contact tracing survey — a description the company disputed as a “falsehood.”

2 mins read
Techlife News
Techlife News #512

What is My Stereo's Gender?

Readers will recall, distressingly, that I have tried their patience on just about every topic that marginally relates to audio. LP grooves, CD bumps, flat response, boomy bass, warm recordings, cold binary bits—I have waxed philosophically on all of them. Which bring us to today’s audio topic: gender.

3 mins read
Sound & Vision
August - September 2021

Love marriage

One of my closest friends in my hometown had a love marriage, which many considered to be a rebellious act against our small society.

2 mins read
Heartfulness eMagazine
August 2021

Contentment - THE ART OF REMOVING AND CREATING HABITS

DAAJI continues his series on refining habits, in the light of Patanjali’s Ashtanga Yoga and current scientific and yogic principles and practices. Last month, he explored the first Niyama of purity, shaucha. This month he shares his insights on that pivotal human quality – contentment, which is known in Yoga as santosh.

10+ mins read
Heartfulness eMagazine
August 2021

Carlyle's Goyal Brings India Lessons to Infrastructure, Energy Investing

POOJA GOYAL, 41, brings a unique personal insight to Carlyle Group Inc., where she leads the renewable and sustainable energy team and co-heads the infrastructure group.

7 mins read
Bloomberg Markets
August - September 2021

Building a Work of Art

To celebrate the release of the 2022 Indian Chief the legend-ary motorcycle company got together two of the world’s most sought after builders, Paul Cox and Keino Sasaki, to customize a bike for celebrated tattoo artist Nikko Hurtado.

10+ mins read
Inked
Summer lifestyle 2021