अयोध्या-अपराजेय आस्था की नगरी
Sadhana Path|October 2021
श्री राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड इस सदी की प्रमुखतम महत्त्वपूर्ण धार्मिक-राजनैतिक घटना मानी जाती है लेकिन सच तो यह है कि अयोध्या, जिसका अर्थ ही है वह स्थल जिसके विरूद्ध कभी युद्ध न किया जा सके', उसका हृदय स्थल सदियों से ध्वंस एवं निर्माण का इतिहास रचते रहे हैं।
सुशील सक्सेना

कल-कल बहती सरयू के जल में अटखेलियां करती नावों की लम्बी सी पंक्ति, किनारे दूर-दूर तक फैले घाटों की सीढ़ियों पर पूजाअर्चना के उपक्रम में लगे साधु एवं गृहस्थ और सरयू किनारे बने ढेर सारे प्राचीन मंदिरों से उठकर नदी की लहरों से टकराती घंटो-घंटियों की मधुर ध्वनि, सचमुच अयोध्या का नैसर्गिक सौन्दर्य 1992 के बाबरी मस्जिद काण्ड के बाद भी फीका नहीं पड़ा है।

उत्तर प्रदेश के फैजाबाद जिले में बसी, अवध प्रदेश की इस प्राचीन राजधानी, मुस्लिम काल में अवध प्रान्त के गवर्नर की सीट रह चुकी अयोध्या को गौतम बुद्ध के काल में तत्कालीन पाली भाषा में अयोझा कहा जाता था।

इतिहास की बात करें तो 127 ईसवीं में कुणाल वंश के सफल शासक कनिष्क ने साकेत नाम से प्रसिद्ध इस अयोध्या नगरी पर विजय प्राप्त की और इसे अपनी पूर्वी राजसत्ता का प्रशासनिक केन्द्र बनाया था लेकिन पौराणिक दृष्टि से राजा मनु द्वारा निर्मित राजधानी के रूप में प्रतिष्ठित यह नगरी सूर्यवंशीय राजाओं द्वारा शासित विश्व की प्राचीनतम हिन्दू नगरियों में से एक थी। इसे मोक्षदायिनी नगरी का सम्मान प्राप्त था। इस नगरी का क्षेत्रफल 250 कि.मी. तक फैला हआ था। राजा दशरथ सूर्यवंशीय पीढ़ी के 63वें शासक थे, जिनके घर श्रीराम का जन्म हुआ, जिन्हें विष्णु का 7 वां अवतार माना गया।

जैन धर्म के प्रवर्तक ऋषभदेव सहित यह 5 तीर्थकरों की जन्मभूमि भी मानी जाती है। मौर्य एवं गुप्त साम्राज्य-काल में यहां कई बौद्ध मंदिरों के होने के प्रमाण भी मिलते हैं। स्वामीनारायण सम्प्रदाय के संस्थापक स्वामीनारायण जी का बचपन भी इसी नगरी में बीता और उन्होने नीलकंठ के रूप में अपनी 7 वर्षीय यात्रा यहीं से प्रारम्भ की। 600 ईसा पूर्व यह नगरी व्यापार का प्रमुख केन्द्र थी। यह स्थल बौद्ध धर्म का केन्द्र भी रहा और यहां गौतम बुद्ध का कई बार आगमन हुआ। फाहियान ने यहां बौद्ध धर्म का जिक्र किया है। भारत के प्रथम चक्रवर्ती राजा भरत एवं सत्यवादी राजा हरिशचन्द्र भी इसी नगरी में जन्में।

तथ्यों के अनुसार अवध के लीन नवाव ने 10 वीं शताब्दी में यह भूमि दान में दी और उसके ही एक हिन्दू दरबारी ने इस मन्दिर का निर्माण करवाया। बाद में अंग्रेजी शासन काल में नवाव मंसूर अली ने अपने दरबारी टिकैत राय के द्वारा इसे गढ़ी (किले जैसा) रूप दिया। जन मान्यता है कि जन्मभूमि अथवा रामकोट की रक्षार्थ पवनपुत्र हनुमान यहां सूक्ष्म रूप में निवास करते हैं।

इसमें रामघाट महत्त्वपूर्ण है। रामनवमी अर्थात् श्री राम अवतरण दिवस पर यहां स्नान अत्यन्त पुण्य दायक माना जाता है। सभी नर, नाग, यक्ष, गन्धर्व एवं देव सूक्ष्म रूप में इस अवसर पर यहां स्नान कर श्री राम के भव्य स्वरूप का दर्शन पाते हैं, ऐसा विश्वास जन-जन में व्याप्त है। गुरू वशिष्ट ने भी इस पर्व के स्नान को मोक्षदायी स्नान बताया है। प्रत्येक वर्ष कार्तिक शुक्ल नवमी को लगने वाली चौदह कोसी परिक्रमा एवं कार्तिक शुल्क एकादशी को लगने वाली पंचकोसी परिक्रमा के बाद यहां स्नान की सदियों पुरानी परम्परा है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SADHANA PATHView All

मानवता के महान उपासक गुरु नानक देव

सिरवों के प्रथम गुरु नानक देव जी का रुझान बचपन से ही अध्यात्म की तरफ था। नानक जी ने समाज में व्याप्त कुरीतियों और रूढ़ियों को तोड़ा आइए नानक देव जी की आध्यात्मिक यात्रा को इस लेख से जानें।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

यूं निबटें कैंसर से

कैंसर रोग लोगों को इतना भयाक्रांत करता है कि वे जीवन के प्रति आशा छोड़ मृत्यु के दिन गिनने लगते हैं, लेकिन अब कैंसर लाइलाज रोग नहीं रह गया है। आइए कैंसर से बचने के उपायों पर नजर डालें।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

महिलाएं और कैंसर

आज बड़ी संख्या में महिलाएं भी कैंसर के रोग से पीड़ित हो रही हैं। महिलाओं में कैंसर होने के क्या हैं कारण, लक्षण व निवारण तथा इसके विभिन्न प्रकार? आइए जानें इस लेख से।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

वास्तु अनुसार हो दिवाली की तैयारी

दिवाली के पावन अवसर पर हम सभी की यही कोशिश होती है कि पूजा व अन्य प्रकार की तैयारियों में किसी प्रकार की कमी न होने पाएं ऐसे में वास्तुशास्त्र के कुछ नियम हमारे लिए बहुत लाभकारी सिद्ध हो सकते हैं।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

मिठाइयों में मिलावट को इस तरह से जांचे

त्योहारों की रौनक मिठाइयों से बढ़ती है, लेकिन मिलावटी मिठाइयां त्योहार की चमक फीकी भी कर सकती हैं। इसलिए मिठाइयों में मिलावट की जांच जरूर करें, आरिवर मामला हमारी सेहत का जो है।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

सांस है तो आस है

दीपावली में अगर पटारवों का शोर ना गूंजे तो कुछ ' कमी सी लगती है। लेकिन पटाखों से निकलने वाले हानिकारक धुओं से सांस संबंधी तकलीफें बढ़ जाती हैं, वासकर अस्थमा के रोगियों के लिए। इनसे बचने और देखभाल करने के कुछ सुझाव जानें इस लेख से।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

दीपावली में रंग भरती रंगोली

लोकजीवन का एक बहुत ही अभिन्न अंग है। देश के विभिन्न हिस्सों में रंगोली सजाने का अपना अलग-अलग स्वरूप है। दीपावली के मौके पर इसका महत्त्व और भी बढ़ जाता है।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

पंच पर्वो का महापर्व-दीपावली

भारतीय संस्कृति के सबसे महान पर्व दीपावली को पंच पर्व भी कहा जाता है। जो धनतेरस से शुरू होकर भैया दूज तक समस्त भारत में बड़े हर्षों उल्लास के साथ मनाया जाता है।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

क्यों मनाते हैं भैया दूज?

दीपावली के पंच पर्यों में एक है भैया दूज। भाईबहन के प्यार भरे रिश्ते का यह पर्व भारत में अनेक नामों से जाना जाता है। भैया दूज क्यों मनाया जाता है, साथ ही क्या है इसका महत्त्व? आइए जानते हैं लेख से।

1 min read
Sadhana Path
November 2021

कैसे करें दिवाली पूजन?

दीपावली का पर्व खुशियों व रोशनी का पर्व है तथा हम इसे बड़ी धूमधाम से भी मनाते हैं पर क्या आप जानते हैं कि इस त्योहार पर विधिपूर्वक लक्ष्मी पूजन करके आप अपनी खुशियां चौगुनी कर सकते हैं। आइए हम सभी लक्ष्मी पूजन की सही विधि जानते हैं, जिससे दीपावली के अवसर पर जगमगाती रोशनी के साथ-साथ आप पर लक्ष्मी जी की कृपा हो जाए और आपके जीवन में धन की वर्षा होने लगे।

1 min read
Sadhana Path
November 2021
RELATED STORIES

CM flags off 1st free pilgrimage train to Ayodhya from Capital

‘CENTRE STOPPED US FROM HOLDING AN EVENT TO MARK THE OCCASION’

2 mins read
Millennium Post Delhi
December 04, 2021

Train for Ayodhya pilgrimage to leave city on Dec 3: Kejriwal

AAP supremo and Delhi chief minister Arvind Kejriwal said that his government has added Tamil Nadu’s Velankanni Church in the list of pilgrimage sites under the scheme, which caters to senior citizens of the national capital.

2 mins read
Hindustan Times
November 25, 2021

TN church finds place in govt's pilgrimage scheme

Vailankanni Church in TN added to Delhi government's free pilgrimage scheme for senior citizens

1 min read
The Morning Standard
November 25, 2021

Uttarakhand polls: Kejriwal promises free pilgrimage scheme

AAP CHIEF Arvind Kejriwal Sunday promised a free pilgrimage scheme for people from different communities in Uttarakhand if his party comes to power in next year's Assembly elections.

1 min read
The Indian Express Delhi
November 22, 2021

Free pilgrimage service if voted to power: AAP

Aam Aadmi Party (AAP) national convener and Delhi chief minister Arvind Kejriwal on Sunday promised to introduce a free pilgrimage service for senior citizens in Uttarakhand if the party was voted to power in the assembly elections next year.

2 mins read
Hindustan Times Delhi
November 22, 2021

हे राम! हमारे राम

आसन्न विधानसभा चुनावों को देखते हुए अयोध्या में राम मंदिर निर्माण को लेकर प्रतिबद्धता एक निर्णायक मुद्दा बनने लगी. भाजपा इसे लेकर खासे आक्रामक मूड में तो आम आदमी पार्टी और बसपा भी भक्तिभाव में. सपा और कांग्रेस ने फिलहाल बना रखी है सतर्क दूरी

1 min read
India Today Hindi
November 24, 2021

All In The Name Of Ram

The fifth edition of the ‘Deepotsav’, organised in Ayodhya on the occasion of Chhoti Deepavali, also had Uttar Pradesh chief minister Yogi Adityanath issuing the clarion call for the 2022 assembly election from the stage.

4 mins read
India Today
November 22, 2021

रामभक्तों को लेकर अयोध्या पहुंची रामायण सर्किट ट्रेन

रामभक्तों को लेकर दिल्ली के सफदरगंज से चली रामायण सर्किट एक्सप्रेस ट्रेन मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की नगरी अयोध्या पहुंच गई है।

1 min read
Dakshin Bharat Rashtramat Chennai
November 09, 2021

अयोध्या से विधानसभा का चुनाव लड़ सकते हैं योगी

गोरखपुर में कहा था, पार्टी जहां से कहेगी वहां से लड़ेंगे

1 min read
Hindustan Times Hindi
November 07, 2021

Pro-change or no change

HISTORY IS REPLETE with examples of battles between pro-changers and no changers. After the curtain raiser of 2021, the year 2022 promises to witness another epic battle.

3 mins read
Financial Express Mumbai
November 07, 2021