सूर्य उपासना का महापर्व मकर संक्रांति
Sadhana Path|January 2021
मकर संक्रांति सूर्य उपासना का विशेष पर्व है, इस दिन से सूर्य उत्तरायण होना शुरू होते हैं। इस पर्व को समस्त भारत में बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है। क्या है इस पर्व का महात्म्य ? आइए लेव से विस्तारपूर्वक जानें।
प्रभु शरणम

मकर संक्रांन्ति भारत के प्रमुख त्योहारों में से एक है। यह पर्व प्रत्येक वर्ष जनवरी के महीने में समस्त भारत में मनाया जाता है। इस दिन से सूर्य उत्तरायण होता है, जब उत्तरी गोलार्ध सूर्य की ओर मुड़ जाता है। इस त्योहार का संबंध प्रकृति, ऋतु परिवर्तन और कृषि से है। ये तीनों चीजें ही जीवन का आधार हैं।

भारतीय पंचांग पद्धति की समस्त तिथियां चन्द्रमा की गति को आधार मानकर निर्धारित की जाती हैं, किन्तु मकर संक्रांन्ति को सूर्य की गति से निर्धारित किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार, दक्षिणायण को देवताओं की रात्रि अर्थात् नकारात्मकता का प्रतीक तथा उत्तरायण को देवताओं का दिन अर्थात् सकारात्मकता का प्रतीक माना गया है। इसीलिए इस दिन जप, तप, दान, स्नान, श्राद्ध, तर्पण आदि धार्मिक क्रियाकलापों का विशेष महत्त्व है। ऐसी धारणा है कि इस अवसर पर दिया गया दान सौ गुना बढ़कर पुनः प्राप्त होता है। अतः मकर संक्रांन्ति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर अग्रसर होना माना जाता है। प्रकाश अधिक होने से प्राणियों की चेतनता एवं कार्य शक्ति में वृद्धि होगी। ऐसा जानकर सम्पूर्ण भारतवर्ष में लोगों द्वारा विविध रूपों में सूर्यदेव की उपासना, आराधना एवं पूजन कर, उनके प्रति अपनी कृतज्ञता प्रकट की जाती है। मकर संक्रांन्ति के दिन ही गंगाजी भगीरथ के पीछे-पीछे चलकर कपिल मुनि के आश्रम से होती हुई सागर में जाकर मिली थीं।

प्रकृति के कारक के तौर पर इस पर्व में सूर्य देव को पूजा जाता है, जिन्हें शास्त्रों में भौतिक एवं अभौतिक तत्त्वों की आत्मा कहा गया है। परम्परा से यह विश्वास किया जाता है कि इसी दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है। यह वैदिक उत्सव है। इस दिन खिचड़ी का भोग लगाया जाता है। गुड़, तिल, खड़ी, गजक का प्रसाद बांटा जाता है। इन्हीं की स्थिति के अनुसार ऋतु परिवर्तन होता है और धरती अनाज उत्पन्न करती है, जिससे जीव समुदाय का भरण-पोषण होता है। पृथ्वी सूर्य के चारों ओर एक चक्कर है, उस अवधि को 'सौर वर्ष' कहते हैं। पृथ्वी का गोलाई में सूर्य के चारों ओर घूमना 'क्रांन्तिचक्र' कहलाता है। इस परिधि चक्र को बांटकर बारह राशियां बनी हैं। सूर्य का एक राशि से दूसरी राशि में प्रवेश करना 'संक्रांन्ति' कहलाता है। इसी प्रकार सूर्य के मकर राशि में प्रवेश करने को 'मकर संक्रांन्ति' कहते हैं। सूर्य देव आप सारे संसार के आरम्भ का मूल हो, सूर्य का प्रकाश जीवन का प्रतीक है। चन्द्रमा भी सूर्य के प्रकाश से आलोकित है। सूर्य का मकर रेखा से उत्तरी कर्क रेखा की ओर जाना 'उत्तरायण' तथा कर्क रेखा से दक्षिणी मकर रेखा की ओर जाना 'दक्षिणायन' है। वैदिक काल में उत्तरायण को देवयान तथा दक्षिणायन को पितृयान कहा जाता था।

धर्म ग्रंथों में मकर संक्रांति का महत्व

धर्म ग्रंथों में उल्लेख-ईसा से एक सहस्त्र वर्ष पूर्व ब्राह्मण एवं औपनिषदिक ग्रंथों में उत्तरायण के छ: मासों का उल्लेख है में 'अयन' शब्द आया है जिसका अर्थ है'मार्ग' या 'स्थल। गृह्यसूत्रों में 'उदगयन' उत्तरायण का ही द्योतक है जहां स्पष्ट रूप से उत्तरायण आदि कालों में संस्कारों के करने की विधि वर्णित है। किंतु प्राचीन श्रौत, गृह्य एवं धर्म सूत्रों में राशियों का उल्लेख नहीं है, उनमें केवल नक्षत्रों के संबंध में कालों का उल्लेख है। याज्ञवल्क्यस्मृति में भी राशियों का उल्लेख नहीं है, जैसा कि विश्वरूप की टीका से प्रकट है 'उदगयन' बहुत शताब्दियों पूर्व से शुभ काल माना जाता रहा है, अतः मकर संक्रांति, जिससे सूर्य की उत्तरायण गति आरम्भ होती है, राशियों के चलन के उपरान्त पवित्र दिन मानी जाने लगी।

मत्स्यपुराण ने संक्रांति व्रत का वर्णन किया है। एक दिन पूर्व व्यक्ति (नारी या पुरुष) को केवल एक बार मध्याह्न में भोजन करना चाहिए और संक्रांति के दिन दांतों को स्वच्छ करके तिल युक्त जल से स्नान करना चाहिए। व्यक्ति को चाहिए कि वह किसी संयमी ब्राह्मणगृहस्थ को भोजन सामग्रियों से युक्त तीन पात्र तथा एक गाय यम, रुद्र एवं धर्म के नाम पर दे और चार श्लोकों को पढ़े, जिनमें से एक यह है'यथा भेदं न पश्यामि शिवविष्ण्वर्कपद्मजान्। तथा ममास्तु विश्वात्मा शंकर:शंकरः सदा।।', अर्थात् 'मैं शिव एवं विष्णु तथा सूर्य एवं ब्रह्मा में अन्तर नहीं करता, वह शंकर, जो विश्वात्मा है, सदा कल्याण करने वाला है। दूसरे शंकर शब्द का अर्थ हैशं कल्याणं करोति। यदि हो सके तो व्यक्ति को चाहिए कि वह ब्राह्मण को आभूषणों, पर्यंक, स्वर्णपात्रों (दो) का दान करें। यदि वह दरिद्र हो तो ब्राह्मण को केवल फल दे। इसके उपरान्त उसे तेल-विहीन भोजन करना चाहिए और यथा शक्ति अन्य लोगों को भोजन देना चाहिए। स्त्रियों को भी यह व्रत करना चाहिए। संक्रांति, ग्रहण, अमावस्या एवं पूर्णिमा पर गंगा स्नान महापुण्यदायक माना गया है और ऐसा करने पर व्यक्ति ब्रह्मलोक को प्राप्त करता है। प्रत्येक संक्रांति पर सामान्य जल (गर्म नहीं किया हुआ) से स्नान करना नित्यकर्म कहा जाता है, जैसा कि देवीपुराण में घोषित है'जो व्यक्ति संक्रांति के पवित्र दिन पर स्नान नहीं करता वह सात जन्मों तक रोगी एवं निर्धन रहेगा, संक्रांति पर जो भी देवों को हव्य एवं पितरों को कव्य दिया जाता है, वह सूर्य द्वारा भविष्य के जन्मों में लौटा दिया जाता है।

पौराणिक कथाएं

कहा जाता है कि इस दिन भगवान सूर्य अपने पुत्र शनि से मिलने स्वयं उनके घर जाया करते हैं। शनिदेव चूंकि मकर राशि के स्वामी हैं, अतः इस दिन को मकर संक्रांति के नाम से जाना जाता है। यह भी कहा जाता है कि गंगा को धरती पर लाने वाले महाराज भगीरथ ने अपने पूर्वजों के लिए इस दिन तर्पण किया था। उनका तर्पण स्वीकार करने के बाद इस दिन गंगा समुद्र में जाकर मिल गई थी। इसलिए मकर संक्रांति पर गंगा सागर में मेला लगता है। महाभारत काल के महान योद्धा भीष्म पितामह ने भी अपनी देह त्यागने के लिए मकर संक्रांति का ही चयन किया था। इस दिन भगवान विष्णु ने असुरों का अंत कर युद्ध समाप्ति की घोषणा की थी व सभी असुरों के सिरों को मंदार पर्वत में दबा दिया था। इस प्रकार यह दिन बुराइयों और नकारात्मकता को खत्म करने का दिन भी माना जाता है। यशोदा जी ने जब कृष्ण जन्म के लिए व्रत किया था तब सूर्य देवता उत्तरायण काल में पदार्पण कर रहे थे और उस दिन मकर संक्रांति थी। कहा जाता है तभी से मकर संक्रांति व्रत का प्रचलन हुआ।

पुण्यकाल के नियम

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SADHANA PATHView All

गर्मी नाशक, रोग रक्षक-मट्ठा

पुराने जमाने से ही मट्ठा (छाछ) हमारे खान-पान का एक अहम हिस्सा रहा है, क्योंकि यह पाचन में हल्का, शक्तिदायक और रोगनाशक पेय है। इसीलिए हमारे प्राचीन चिकित्सा ग्रन्थों में इसे अमृत तुल्य बताया गया है। मट्ठे की कढ़ी बड़ी स्वादिष्ट और पाचक होती है। उत्तर भारत में मट्टे की स्वादिष्ट और पौष्टिक लस्सी बड़े चाव से पी जाती है। स्वास्थ्य की दृष्टि से इसकी उपयोगिता देखते हुए आजकल मट्ठा पीने का प्रचलन इतनी तेजी से बढ़ रहा है कि कई शहरों में इसकी दुकानें खुलने लगी हैं।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

अयोध्या-अपराजेय आस्था की नगरी

श्री राम जन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विध्वंस कांड इस सदी की प्रमुस्वतम महत्त्वपूर्ण धार्मिक-राजनैतिक घटना मानी जाती है लेकिन सच तो यह है कि अयोध्या, जिसका अर्थ ही है 'वह स्थल जिसके विरुद्ध कभी युद्ध न किया जा सके', उसका हृदय स्थल सदियों से ध्वंस एवं निर्माण का इतिहास रचते रहे हैं।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

पर्यटन के माध्यम से भगवान श्रीराम को जानें

श्रीराम से जुड़े धार्मिक पर्यटन स्थलों के दर्शन और पर्यटन दोनों का ही आनंद लेना चाहते हैं तो आईआरसीटीसी के स्पेशल ट्रेन 'श्री रामायण एक्सप्रेस' में टिकट कराइए और भारत ही नहीं श्रीलंका और नेपाल में भी श्रीराम से जुड़े धार्मिक स्थलों के दर्शन करिए।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

शक्ति का स्वरूप और नवरात्री

नवरात्र देवी के शक्ति रूपों का महापर्व है। समस्त संसार को आलोकित, ऊर्जामय करने वाली देवी संसार की पालनहार हैं। चैत्र शुक्ल पक्ष के नवरात्र महोत्सव भी हमको देवी भगवती के विशाल स्वरूप और शक्ति का अनुभव कराते हैं।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

मानव जाति के आदर्श श्रीराम

आदर्श, करुणा, दया, त्याग, शौर्य और साहस इन सारे गुणों का प्रतिबिम्ब है एक नाम, श्री राम', जिनका सम्पूर्ण जीवन ही जनमानस के समक्ष एक आदर्श प्रस्तुत करता है तथा हमें प्रतिपल कुछ नई सीरव अवश्य देता है। कौन हैं श्री राम, क्यों कहलाए वह मर्यादा पुरुषोत्तम राम व जनता के आदर्श? जानते हैं इस लेव के माध्यम से।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

श्री राम से जुड़े प्रमुख तीर्थ व मंदिर

प्रभु राम ने अपने जीवन चरित्र से इस धरा पर रहने वाले मनुष्यों के लिए आदर्शों की स्थापना की। अपने सभी संबंधों में वह आदर्श की कसौटी पर पूर्णतः खरे उतरे। देश के हर कोने में उन्हें पूजा जाता है, न केवल भगवान राम बल्कि उनके जीवन से जुड़े क्षेत्रों को भी तीर्थ के समान ही समझा जाता है। यहां हम आपको राम जी से जुड़े ऐसे ही तीर्थ व मंदिरों से रूबरू करवा रहे हैं।

1 min read
Sadhana Path
April 2021

उत्साह, उमंग और रंग...

फागुन के शुरू होते ही पूरा देश होली की मस्ती में डूब जाता है। लोकगीतों के सुरों पर झूमने का दौर शुरू हो जाता है। बेशक देश के अलग-अलग हिस्सों में होली अलग-अलग ढंग से बनाई जाती है पर उद्देश्य सबका एक ही हैरंगों और गीतों की मस्ती में सरोबार रहना।

1 min read
Sadhana Path
March 2021

आपके अपनों के लिए भी घातक है धूमपान

आज के बदलते माहौल में सिगरेट पीना यानी कि धूम्रपान करना लोगों के लिए स्टेटस सिंबल बन गया है। इसके चलते आज अधिक से अधिक युवा और खासकर महिलाएं भी इस लत का शिकार होती जा रही हैं। लेकिन धूम्रपान की ये लत आपके लिए जानलेवा भी साबित हो सकती है। ये आपके स्वास्थ्य के लिए अत्यंत हानिकारक है। धूम्रपान से होने वाली स्वास्थ्य हानि तथा इसके नकारात्मक पहलू को समझें इस लेख से।

1 min read
Sadhana Path
March 2021

होली के रंग रंगीन पकवानों के संग

कोई भी त्योहार पकवानों के बिना अधूरे हैं और हर त्यौहार के अपने विशेष पकवान होते हैं। होली के त्योहार को आप कैसे बनाएं पकवानों से रवास एवं उसे बनाने की रेसिपी चलिए जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
March 2021

रम जाइए 'कच्छ के रण में'

गुजरात की लोक संस्कृति और परंपरा का मेल देवना हो तो आइए कच्छ के रण महोत्सव में, जहां का प्रमुख आकर्षण है 'ग्रेट रण ऑफ कच्छ', जिसका नाम सुनते ही ऊंट, रेगिस्तान, रेत और रंग-बिरंगी पोशाकों से सजे-धजे स्थानीय निवासी और पर्यटकों का ध्यान आता है जो इस उत्सव को महोत्सव में बदलते हैं और इसे विश्व प्रसिद्ध बनाते हैं।

1 min read
Sadhana Path
February 2021
RELATED STORIES

Reincarnation And Realpolitik

China, India, and the U.S. are vying to influence the selection of the next Dalai Lama

5 mins read
Bloomberg Businessweek
April 19, 2021

An Exclusive Interview With Nandakumar Narasimhan

The Little Red Train

10+ mins read
Lens Magazine
March 2021

A Room for Dad

Before Mom passed, I made a promise to her

8 mins read
Guideposts
April 2021

THE DANGAL IN THE JUNGLE, PART 1

YOU KNOW YOU’RE SOMEBODY WHEN YOU’VE APPEARED ON AN INDIAN DANGAL POSTER — IN OTHER WORDS, IN A WRESTLING ADVERTISEMENT.

6 mins read
Black Belt
April/May 2021

WOUNDS AND THE WOMB

JULIE PETERS explores how to heal a relationship with the sacred womb, a place of death, life, and possibilities.

8 mins read
Spirituality & Health
Mar/Apr 2021

BE SQUIRRELY

Giant squirrels, giant lessons? Animal chaplain SARAH BOWEN explores what squirrels can show us about mindfulness.

4 mins read
Spirituality & Health
Mar/Apr 2021

E8 Caste and the Indian Tech Ivies

IIT grads are highly sought after in Silicon Valley. Are they bringing deep-rooted prejudices with them?

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
March 15, 2021

Life Changing

I was happily married, happily employed, just plain happy. Until the accident

8 mins read
Guideposts
February 2021

IN SEASON Chickpeas (GARBANZO BEANS)

Chickpeas appear in early recordings in Turkey well over 5000 years ago. India produces the most chickpeas worldwide but they are grown in more than 50 countries. An excellent source of carbohydrates, protein, fiber, B vitamins, and some minerals, they are a nutritious staple of many diets. The name chickpea comes from the Latin word cancer, referring to the plant family of legumes, Fabaceae. It is also known by its popular Spanish-derived name, the garbanzo bean. Kidney beans, black beans, lima beans, and peanuts are other familiar foods found in this legume family.

1 min read
Alternative Medicine
February 2021

When the Signal Goes Out

Government-ordered internet shutdowns are becoming more frequent

3 mins read
Bloomberg Businessweek
February 15 - 22, 2021