विदेशों में भी लोकप्रिय दीपावली
Sadhana Path|November 2020
दीपावली के अवसर पर कश्मीर से कन्याकुमारी तक दीपों की जगमगाहट और पटारवों की गूंज होती है। लेकिन यह त्योहार सरहद और सात समंदर पार भी उसी उत्साह और उमंग से मनाया जाता है। कहां और कैसे, जानें लेख से।
डॉ. हनुमान प्रसाद उत्तम

दीपावली का नाम सुनते ही पटाखों का धूम-धड़ाका, दीपों की लंबी कतार से सजे घर तथा विभिन्न किस्मों की मिठाइयों के मनभावन स्वाद का ध्यान हो आता है लेकिन क्या आप जानते हैं कि जिस शानदार और जानदार तरीके से हम लोग दीपावली मनाते हैं, उसी शान के साथ अनेक देशों के लोग भी अपने-अपने देश में ज्योति पर्व मनाते हैं। बस, इसे मनाने का तरीका अवश्य हमसे कुछ भिन्न है। आइए, जानें भारत के अलावा किन देशों में रहती है दीपावली की धूम-

श्रीलंका- श्रीलंका दीपावली को एक राष्ट्रीय त्योहार के रूप में मनाता है। वहां पर दीप पर्व का नाम दीपावली ही है। इस पर्व की रात्रि को वहां प्रत्येक घर छोटे-छोटे दीपकों से सजाए जाते हैं तथा आतिशबाजी छोड़ते हैं। श्रीलंका में इस मौके पर खांड से निर्मित विभिन्न पशु-पक्षियों तथा मानव आकृति में मिठाइयां निर्मित की जाती हैं। वहां भी यह दिन राष्ट्रीय अवकाश का होता है।

म्यांमार- म्यांमार के लोग इस त्योहार को 'तैगीजू' नाम से नवम्बर मास में मनाते हैं। म्यांमार वासियों में यह मान्यता प्रचलित है कि भगवान बुद्ध ने ज्ञान का प्रकाश पाने के बाद इसी दिन भूमि पर अवतरण किया था। प्रत्येक घर को इस दिन रोशनी से खूब सजाया जाता है और लोग इस दिन नए वस्त्र पहनना शुभ मानते हैं। इस दिन मंदिरों में भक्तों की बड़ी भीड़ होती है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SADHANA PATHView All

सूर्य उपासना का महापर्व मकर संक्रांति

मकर संक्रांति सूर्य उपासना का विशेष पर्व है, इस दिन से सूर्य उत्तरायण होना शुरू होते हैं। इस पर्व को समस्त भारत में बड़े हर्षोल्लास से मनाया जाता है। क्या है इस पर्व का महात्म्य ? आइए लेव से विस्तारपूर्वक जानें।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

विश्व भर में नववर्ष का स्वागत

पूरी दुनिया में नए साल के स्वागत की तैयारी कई दिन पहले से ही शुरू हो जाती है। सभी देशों में इसे मनाने की अपनी-अपनी परम्पराएं हैं, पूरी दुनिया में नए साल का स्वागत कैसे होता है। आइए जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

मेवों में छिपा है सेहत का राज

सर्दियों के आते ही रवांसी, जुकाम, बुरवार जैसी छोटी-मोटी बीमारियां परेशान कर देती हैं। महज गरम कपड़े पहनना और चाय-कॉफी पीना ही पर्याप्त नहीं होता। सर्दियों में सूरवे मेवे आपको फ्लू, सर्दी, कफ आदि कई रोगों से बचाते हैं और रोग प्रतिरोधक क्षमता विकसित करते हैं। जानें सेहत से जुड़े इनके लाभ इस लेख से।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

हर्ष, उमंग एवं सद्भावना का त्योहार- लोहड़ी

लोहड़ी की बात करते ही आंखों के सामने छा जाती है आग, मूंगफली और रेवड़ी की तस्वीर और साथ ही उभर आता है ढोल और भंगडे का शोर, क्यों? आइये जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

भारतीय संविधान का प्रतीक गणतंत्र दिवस

गणतंत्र दिवस का नाम लेते ही हमारे मन मस्तिष्क में 26 जनवरी को राजपथ पर चलती परेड का दृश्य उभर आता है। जबकि इसका संबध हमारे देश के संविधान से है जो इस दिन पारित हुआ था। क्या है इस संविधान का इतिहास व महत्त्व आइए जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021

ओशो ने कभी अपने अधिकारों का स्वामित्व नहीं किया

ओशो की शिष्या एवं एडवोकेट, मा प्रेम संगीत नियमित रूप से 'विहा कनेक्शन' और 'ओशो न्यूज' के लिए लिखती हैं। आपको पता ही होगा कि अमेरिका में करीब दस साल तक चले मुकदमे में दिल्ली की 'ओशो वर्ल्ड' नामक संस्था की विजय घोषित करते हुए, न्यायाधीश ने स्पष्ट निर्णय दिया था कि 'ओशो' शब्द को कॉपीराइट कराने का अधिकार किसी को भी नहीं हो सकता है। तब यू.एस.ए. से पराजित होकर ओशो इंटरनेशनल फाउंडेशन (ओ.आई.एफ.) ने नया षड्यंत्र रचायूरोप में कॉपीराइट कराने की कोशिश की। वहां पर 'ओशो लोटस' नामक संस्था ने विरोध में आपत्ति उठाते हुए मुकद्दमा दायर किया। किंतु ओ.आई.एफ.की जीत हुईसत्य की नहीं, झूठ-फरेब की जो कि शीघ्र ही उजागर होने लगे।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

ऐसे रहें सर्दियों में भी फिट

सर्दियों के मौसम में जितना खुद को ठंड से बचाना जरूरी है, उतना ही जरूरी है खुद को फिट ररवना भी। कैसे रख सकते हैं आप अपने को इन सर्दियों में फिट? आइए लेख से जानें।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

पृथ्वी पर घटा चमत्कार था रजनीशपुरम

अमेरिका के ओरेगोन में बना रजनीशपुरम आज एक बार फिर चर्चा में है, और चर्चा का कारण नेटफ्लिक्स पर आई डॉक्यूमेंट्री 'वाइल्ड-वाइल्ड कंट्री' है। जिसमें ओशो के अमेरिका में बसने और वहां रजनीशपुरम के बनाने और मिटाने की कहानी को दर्शाया गया है। आरिवर रजनीशपुरम था क्या, क्या रजनीशपुरम की हकीकत वही थी जिसे फिल्म में दिरवाया गया या कुछ और? अमेरिका में ओशो को जेल क्यों जाना पड़ा? क्या रजनीशपुरम ओशो की असफलता का कारण था? इन सभी प्रश्नों के उत्तर आइए ओशो की जुबानी ही जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

ठण्डी हवाएं और स्वास्थ्य समस्याए

सर्दी के इस मौसम में हमारा शरीर स्वस्थ रहे उसके लिए कई सावधानियां बरतनी जरूरी है वरना आप रोग की चपेट में आ सकते हैं। ऐसी ही कुछ सावधानियों को आइए जानें लेख से।

1 min read
Sadhana Path
December 2020

शीला की कहानी ओशो की जुबानी

फिल्म 'वाइल्ड-वाइल्ड कंट्री' भले ही ओशो के हर प्रेमी व विरोधी ने न देवी हो पर सवाल देर-सबेर उभर ही गए हैं या भविष्य में उभर ही जाएंगे। सवाल, बवाल न बने, इसके लिए जरूरी है, शीला के बयानों पर ओशो के जवाब।

1 min read
Sadhana Path
December 2020