शेर की खाल वाला सामंत शूरवीर
Samay Patrika|November 2020
जैसे इंग्लैंड में शेक्सपीयर हैं, इटली में दांते, रुस में पुश्किन; इसी तरह पोलैंड के पास अद्वितीय व बेजोड़ प्रतिम है —मित्स्किएविच। इसी तरह जॉर्जिया में जहां काव्यात्मक विरासत लगभग हज़ारों सालों से फैली हुई है, फिर भी प्रभावी रुप से इस देश के एकमात्र बेजोड़ कवि हैं -शोथा रुस्थावेली।
शोथा रुस्थावेली

इस महान कवि का दर्जा सबसे ऊंचा है और सारे राष्ट्र पर इनका अधिकार है। इनकी कविता 'शेर की खाल वाला सामंत शूरवीर' एक कसौटी है जिस पर अन्य उच्च कोटि के कवियों की काव्यात्मक प्रतिभा को परखा और जांचा जाता है।

रुस्थावेली बारहवीं व तेरहवीं सदी के जॉर्जियायी पुनर्जागरण में उभरे, जिस समय नव-अफलातूनी दर्शन जॉर्जिया में समकालीन ईरान की काव्यात्मक विरासत से सुपरिचित पेत्रित्सी के माध्यम से जॉर्जिया में दाखिल हुआ। रुस्थावेली के जीवन संबंधी कोई ठोस जानकारी उपलब्ध नहीं है। हकीकत यह है कि हमें जानकारी के लिए लोक परंपरा पर ही निर्भर रहना पड़ता है जो बहुत सीमित है, जैसे कि कविता के आमुख व उपसंहार में उन्होंने अपने बारे में जो कुछ कहा है या बाद के अनुकारक की जानकारी ही हमारा मुख्य स्रोत है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SAMAY PATRIKAView All

यशस्वी भारत - राष्ट्रीयता हो संवाद का आधार

जिस समाज में संवाद नहीं है, वह आदि समाज कैसे आगे बढ़ेगा। संवाद उत्पन्न होने के लिए गंतव्य की स्पष्टता चाहिए। मैं कौन हूँ, इसकी स्पष्टता चाहिए, मुझे कहाँ जाना है और मैं कौन हूँ, उसके संदर्भ में परिस्थितियों का कैसे हमें विचार करना है, इसकी स्पष्टता चाहिए।

1 min read
Samay Patrika
March 21

प्यार, परिवार और मर्डर

आपको पता है, दुनिया में ऐसी कौन-सी इमोशन है, जिसको क़बूल करना सबसे मुश्किल होता है? वह है जलन। लेकिन मेरे लिए यह मुश्किल नहीं। ये सच है कि मुझे उससे जलन होती थी। बचपन से ही उसने जैसी जिंदगी जी, जैसा प्यार उसे फैमली और बाद में सौरभ से मिला, जितनी आसानी से उसके लिए सबकुछ हुआमुझे इससे जलन होती थी। उसके अंदर एक एनटाइटलमेंट था, जैसे कि यह सब उसी का हक़ था। मुझे इससे घिन आती थी। मैं भीतर ही भीतर घुटती रहती थी। लेकिन आज वो सब ख़त्म होने वाला था।

1 min read
Samay Patrika
March 21

आरएसएस के सफ़र का एक ईमानदार दस्तावेज़

उस वक़्त मैं दिल्ली के राजेन्द्र प्रसाद मार्ग पर सांसद वाले बंगले में सुन्दर सिंह भंडारी के साथ बैठा चाय पी रहा था। खबरिया चैनलों पर ब्रेकिंग न्यूज़ चल रही थी, “सुन्दर सिंह भंडारी को राज्यपाल नियुक्त किया गया।” मैंने उनसे पूछा, “अब तो राजभवन जाने की तैयारी करनी पड़ेगी?”

1 min read
Samay Patrika
March 21

ख़ानज़ादा मेवाती अस्मिता और शौर्य का दस्तावेजी प्रमाण

चौदहवीं सदी के मध्य में तुगलक, सादात, लोदी और मुगल राजवंशों द्वारा दिल्ली और उसके आसपास जो तबाही मचाई, मेवातियों ने उसका जिस शौर्य के साथ ऐसी ताकतों का मुकाबला किया और भारी संख्या में बलिदान दिए। उन्हें इतिहास में वह स्थान नहीं दिया गया, तो दिया जाना चाहिए था। बल्कि उसे भुलाने की कोशिश की गयी

1 min read
Samay Patrika
March 21

यादों का एक खूबसूरत बस्ता

यादों का बस्ता बहुत यादों से भरा होता है। हर याद संजो कर नहीं रखी जा सकती, लेकिन कुछ ऐसी यादें होती हैं, जिन्हें भुलाये भुला नहीं जा सकता। अंजनी कुमार पाण्डेय ने संस्मरण लिखा है जिसमें उन्होंने खुद को, खुद से जुड़े लोगों को, इलाहाबाद के नुक्कड़-गलियों को, अपने संघर्ष को याद किया है। 'इलाहाबाद ब्लूज' एक ऐसी किताब है जिसमें अंजनी ने ईमानदारी से प्रतापगढ़ से, इलाहाबाद से, यूपीएससी के सफर को दर्ज किया है।

1 min read
Samay Patrika
March 21

मोदी, भाजपा और जीत की रणनीति

23 मई 2019 को जब आम चुनावों के परिणाम घोषित किये गये तो नरेन्द्र मोदी और भाजपा के नेतृत्व वाले राष्ट्रीय लोकतान्त्रिक गठबंधन ने प्रचण्ड बहुमत के साथ सत्ता में पुनर्वापसी की थी। कुछ लोगों के लिए ये आश्चर्यचकित करने वाले परिणाम थे, जबकि कुछ लोगों की दृष्टि में भाजपा की यह जीत सरकार और उनकी नीतियों पर आम जनता की आस्था की मुहर का प्रतीक थी।

1 min read
Samay Patrika
February 2021

कोई निंदौ कोई बिंदौ

मीरां के जीवन और समाज पर एकाग्र पुस्तक पचरंग चोला पहर सखी री 2015 में आयी और अब 2020 में इसका प्रदीप त्रिखा द्वारा अनूदित अंग्रेजी संस्करण मीरां वर्सेस मीरां प्रकाशित हुआ है।

1 min read
Samay Patrika
February 2021

बोसकीयाना और गुलज़ार

मशहूर शायर और फिल्मकार गुलज़ार का घर। बेटी बोसकी के नाम पर अपना पाए 'बोसकीयाना' का मतलब गुलज़ार के अनगिनत चाहनेवालों के लिए उस मरकज़ की तरह है जिसकी ऊष्मा से वे हर पल अपने-आपको और अमीर बनाते रहते हैं। ये सब जिस शख्स से है, उसका अपना फ़लसफ़ा क्या है? उनसे ये बातें यहीं हुई हैं और जो बातें अगर यहाँ-वहाँ हुई हैं तो उनकी तस्दीक भी यहीं-कहीं हुई है।

1 min read
Samay Patrika
February 2021

सफलता पाने के आसान तरीके

जब आप टॉप करनेवाले मार्ग पर चल पड़ते हैं तो हमेशा के लिए आप इसी रास्ते को पसंद करेंगे.यह आपके आदत में आ जाएगा, फिर आपको यही रास्ता सबसे सरल दिखाई पड़ेगा, हो सकता है दूसरों को यह रास्ता बड़ा मुश्किल जान पड़े.

1 min read
Samay Patrika
February 2021

चुनौतियों के लिए तैयार रहना जरूरी है

बिज़नेस स्कूल उत्तीर्ण करने के बाद फ़िल नाइट ने अपने पिता से पचास डॉलर उधार लिए और एक साधारण उद्देश्य के साथ एक कंपनी की शुरुआत की. जापान से उच्च गुणवत्ता वाले, कम कीमत के रनिंग शूज़ आयात किये. नाइट ने अपने व्यापार के पहले वर्ष यानी 1963 में जूते बेचकर 8000 डॉलर कमाए. आज नाइकी की वार्षिक बिक्री 30 बिलियन डॉलर से अधिक है और उसकी पहचान उसके लोगो से कहीं बढ़कर है. लेकिन इस महान उपलब्धि से हटकर नाइट हमेशा एक रहस्य बने रहे.

1 min read
Samay Patrika
December 2020
RELATED STORIES

Pandemic Writing Group

Finding Creativity, Community, and Play

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
March - April 2021

A Life in Poetry

Our sixteenth annual look at debut poets

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
January - February 2021

Akbar Edits Poetry of the Nation

In September the Nation, a bastion of progressive journalism since 1865, welcomed Kaveh Akbar as its newest poetry editor, succeeding Stephanie Burt and Carmen Giménez Smith.

3 mins read
Poets & Writers Magazine
January - February 2021

A New Chapter

The board is very pleased that Melissa accepted our invitation to lead the organization forward.a

3 mins read
Poets & Writers Magazine
January - February 2021

Button Chair

The magic of sitting down to play

8 mins read
Poets & Writers Magazine
January - February 2021

Children's literature – Six-Pack

Scott Hobbs Bourne Proposes An Act Of Imagination

3 mins read
JUXTAPOZ
Winter 2021

The Art of the Author Photo

How to make a lasting image

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
September - October 2020

What We Found in Writing

ON THE evening Denver went into lockdown, I was fishing. The South Platte runs right through the city, and if you’re into urban fly-fishing, you can cast for huge carp among the wrecked grocery carts and old tires.

10+ mins read
Poets & Writers Magazine
July - August 2020

Kuipers Leads Poetry Northwest

In January the oldest literary magazine in the Pacific Northwest welcomed a new editor to the helm.

3 mins read
Poets & Writers Magazine
July - August 2020

At Home With Elizabeth Bishop

We consider its lines to be the most elegant thing in Key West,” wrote poet Elizabeth Bishop to a friend upon purchasing the house at 624 White Street, where she would primarily live in Florida’s southernmost city from 1938 to 1946.

4 mins read
Poets & Writers Magazine
March - April 2020