विश्वास का भयंकर अंजाम
Satyakatha|February 2021
पूनम ने अपनी पक्की सहेली अंजलि सिकरवार के प्यार पर डाका डाल कर उस के प्रेमी अर्जुन शर्मा को अपने वश में कर लिया. यह सच्चाई जब अंजलि को पता लगी तो वह घायल शेरनी की तरह इतनी खतरनाक हो गई कि...
नितिन कुमार शर्मा

18 वर्षीया अंजलि सिकरवार ताजनगरी आगरा के बड़ागांव की रहने वाली थी. उसके पिता का नाम रोहतान सिंह और मां का नाम श्यामा देवी था. अंजलि 4 भाईबहनों में सब से बड़ी थी. अंजलि से छोटा एक भाई और 2 छोटी बहनें थीं.

अंजलि ने हाईस्कूल में फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी. भले ही पढ़ाई में उस का मन नहीं लगा लेकिन वह फैशनेबल थी. वह अकसर मौडर्न कपड़े पहनती थी और अपने को सजासंवरा बनाए रखती थी.

सुंदर चेहरे वाली अंजलि की आकर्षक देह पर मौडर्न कपड़े खूब फबते थे, जिस से देखने में वह अच्छी पढ़ीलिखी जान पड़ती थी. वह स्वभाव से चंचल और समय के हिसाब से काफी तेज थी.

अंजलि के पिता रोहतान सिंह नोएडा में रह कर प्राइवेट जौब करते थे. यहां गांव में अंजलि अपनी दादी के साथ 'सिकरवार टेंट हाउस' नाम से टेंट हाउस के सामान का काम करती थी. उस के परिवार में पैसों का किसी तरह से अभाव नहीं था. अंजलि की होशियारी और कर्मठता से टेंट हाउस का काम खूब फलफूल रहा था. रोहतान सिंह को अपनी बेटी अंजलि पर नाज था.

अंजलि के घर से चंद कदम की दूरी पर उस की एक सहेली रहती थी पूनम, पूनम के पिता का नाम ईश्वरी प्रसाद था. ईश्वरी प्रसाद एक फैक्ट्री में काम करते थे. पूनम का एक बड़ा भाई अमन, 2 छोटे भाई अंकित व आरव और एक छोटी बहन विनीता थी. विनीता आरव से बड़ी थी. 18 वर्षीय पूनम ने भी हाईस्कूल में फेल होने के बाद पढ़ाई छोड़ दी थी.

अंजलि और पूनम बचपन की सहेलियां थीं. इसलिए उन दोनों का एकदूसरे के घर आनाजाना था. दोनों में इतनी गहरी दोस्ती थी कि वे दोनों एकदूसरे से कोई बात नहीं छिपाती थीं.

शमशाबाद कस्बा के मोहल्ला गोपालपुरा में अर्जुन शर्मा उर्फ अर्जुन पंडित रहता था. उस के पिता कांता प्रसाद का निधन हो चुका था. अर्जुन 4 भाईबहनों में सबसे छोटा था. अर्जुन से बड़ा भाई अजय और अजय से छोटी 2 बहनें थीं, जिन का विवाह हो चुका था.

अर्जुन का बड़ा भाई अजय एक लड़की को भगा कर ले गया था. 5 साल बाद उसे वापस ले कर लौटा था. अर्जुन एक कार धुलाई सेंटर पर कार धोने का काम करता था. 22 वर्षीय अर्जुन काफी हैंडसम और स्मार्ट था. उसे भी दूसरे युवकों की तरह अपने लिए एक गर्लफ्रेंड की तलाश थी.

अर्जुन और अंजलि की खामोश मोहब्बत को जुबान मिल गई. उन की मोहब्बत दिनप्रतिदिन बढ़ने लगी. अंजलि ने अर्जुन से अपनी मोहब्बत की बात अपनी सहेली पूनम को भी बता दी. एक दिन अंजलि ने पूनम को अर्जुन से मिलवा भी दिया.

इसी तलाश के दौरान उस की नजरें एक दिन अंजलि पर आ कर टिक गईं. दरअसल वह बड़ागांव में रहने वाले अपने एक दोस्त के पास मिलने आता रहता था. इसी आनेजाने में गांव में उस की नजर अंजलि पर पड़ी. अंजलि की सुंदरता और मौडर्न रहनसहन उस की आंखों को भा गया. उस के दिल में अंजलि के लिए प्यार का अंकुर पनपने लगा.

अर्जुन ने अंजलि के सामने कई बार अपना प्रेम प्रस्ताव रखना चाहा, लेकिन वह अपने दिल की बात उस से कहने का साहस नहीं कर सका.

एक रोज शाम को अंजलि बाजार से घर लौट रही थी तो गांव के सुनसान और निर्जन रास्ते पर अंजलि को अकेली देख कर एक शराबी राहगीर उसे छेड़ने लगा. रास्ते में अचानक शराबी युवक को देख कर अंजलि घबरा गई और तेजी से डग भरती हुई घर की ओर जाने लगी.

शराबी युवक नशे की पिनक में था. उस ने अंजलि का पीछा कर के उसे पकड़ लिया और उस का हाथ खींच कर जबरन उसे रास्ते के किनारे झाड़ियों की ओर ले जाने की कोशिश करने लगा. उस की कामुक हरकत देख कर अंजलि उस का नापाक इरादा भांप गई.

शराबी युवक की इस हरकत से अंजलि बेहद भयभीत हो गई. उस ने मदद के लिए चारों तरफ नजर दौड़ाई, लेकिन कहीं भी कोई नजर नहीं आया. इस पर अंजलि स्वयं शराबी से धक्कामुक्की कर के अपने आप को उस के चंगुल से छुड़ाने की कोशिश करने लगी.

संयोग से तभी अचानक अर्जुन उस रास्ते से बाइक से गुजरा. अर्जुन को देख कर अंजलि की हिम्मत बढ़ गई और वह मदद के लिए चीखने लगी. अंजलि की चीख सुन कर अर्जुन पल भर में ही सारा माजरा समझ गया. वह अंजलि की इज्जत बचाने के लिए बाज की तरह उस शराबी युवक पर टूट पड़ा.

अर्जुन ने लातघूसों से उस शराबी की जमकर पिटाई कर दी. वह लहूलुहान हो गया और उस का सारा नशा हिरन हो गया. अर्जुन के कहने पर उस शराबी युवक ने बाकायदा अंजलि से हाथ जोड़ कर माफी मांगी.

अर्जुन का गुस्सा अभी शांत नहीं हुआ था. उस ने शराबी युवक के बाल खींच कर उसे धमकी देते हुए कहा कि आज के बाद अगर उस ने गांव की किसी भी लड़की के साथ ऐसी शर्मनाक हरकत करने की कोशिश की तो वह उसे जान से मार देगा. अर्जुन की धमकी सुन कर शराबी युवक सिर पर पैर रख कर वहां से भाग गया.

चूंकि इस घटना में अर्जुन ने फिल्मी हीरो की तरह अचानक प्रकट हो कर अंजलि की इज्जत बचाई थी, इसलिए अंजलि का रोमरोम अर्जुन का एहसानमंद हो गया. उस के दिल में अर्जुन के लिए खास जगह बन गई.

अंजलि अर्जुन का आभार जताते हुए कृतज्ञता भरे स्वर में बोली, "अर्जुनजी, आज आप ने ऐन वक्त पर आ कर मेरी इज्जत बचा ली. अगर आप नहीं होते तो वह शराबी न जाने मेरा क्या हाल करता. मैं आप का यह अहसान कभी नहीं भूल सकती."

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SATYAKATHAView All

चापड़, आग और हथौड़े से बाल काटने वाला नाई

दुनिया में ऐसे लोगों की कमी नहीं है जो अपना काम करने के लिए अलग रास्ते बनाते हैं और मशहूर हो जाते हैं. यह बात बाल काटने वालों पर भी लागू होती है.

1 min read
Satyakatha
April 2021

45 लाख का खेल

रिश्ते से रिश्ते जोड़ कर हंसा ने योजना तो अच्छी बनाई थी.योजना सफल रही और 45 लाख रुपए भी मिल गए.लेकिन उस के अपने बेटे प्रियांशु ने पुलिस के सामने मुंह खोल दिया. नतीजतन, 45 लाख तो गए ही, रिश्ते भी दरक गए.हवाला लूट के इस मामले में...

1 min read
Satyakatha
April 2021

अपनी शादी खुद से

सन 2013 में कंगना रनौत की एक सुपरहिट फिल्म आई थी 'क्वीन',जिसे नैशनल अवार्ड भी मिला था. इस फिल्म में कंगना का एक डायलौग था, 'मैं इंडिया से आई हूं, राजौरी. राजौरी सुना है?

1 min read
Satyakatha
April 2021

जिद्दी बीवी

अर्चना और चेतन के बीच का झगड़ा गंभीर नहीं था. दोनों चाहते तो समझदारी से निपटा सकते थे. लेकिन अर्चना के जिद्दी स्वभाव ने ऐसा नहीं होने दिया. इस का जो नतीजा निकला...

1 min read
Satyakatha
April 2021

खतरनाक सेल्फी वाली लड़की

शौक बड़ी चीज है, किसी को किसी चीज का शौक होता है किसी को किसी का. दुनिया में ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो जान की परवाह न करते हुए खतरों के खिलाड़ी बनने का शौक पाल बैठते हैं. क्योंकि खतरों से जूझने का रोमांच उन के लिए जान से बढ़ कर होता है.

1 min read
Satyakatha
March 2021

एक औरत की कीमत

2 बच्चों की मां बनने के बावजूद भी सरिता का शारीरिक आकर्षण बरकरार था. तभी तो जब उस का पति अरविंद दोहरे काम करने कुछ दिनों के लिए घर से बाहर गया तो वह पति के दोस्त दलबीर सिंह की बांहों में चली गई. इस का स्वामियाजा सरिता को ही इस तरह भुगतना पड़ा कि...

1 min read
Satyakatha
March 2021

20 फीट लंबी छलांग लगाने वाली रंगबिरंगी गिलहरी

यहां आप जिस इंद्रधनुषी गिलहरी की फोटो देख रहे हैं, महाराष्ट्र में उसे जायट गिलहरी कहा जाता है, जिसे राजकीय जीव का दर्जा मिला हुआ है. मराठी में इस गिलहरी को शेकारु कहते हैं. खास बात यह है कि यह एक पेड़ से दूसरे पेड़ पर 20 फीट की छलांग लगा सकती है.

1 min read
Satyakatha
February 2021

शाहरुख खान की पठान

शाहरुख खान पिछले 2 सालों से फिल्मी परदे से दूर हैं. कह सकते हैं, एक हिट के लिए तरस रहे हैं, अब जल्दी ही वह सिद्धार्थ आनंद निर्देशित फिल्म ‘पठान' में नजर आएंगे. फिल्म की हीरोइन होंगी दीपिका पादुकोण, जिन्होंने 2007 में अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत उन के साथ 'ओम शांति ओम' जैसी सुपर हिट फिल्म से की थी.

1 min read
Satyakatha
February 2021

विश्वास का भयंकर अंजाम

पूनम ने अपनी पक्की सहेली अंजलि सिकरवार के प्यार पर डाका डाल कर उस के प्रेमी अर्जुन शर्मा को अपने वश में कर लिया. यह सच्चाई जब अंजलि को पता लगी तो वह घायल शेरनी की तरह इतनी खतरनाक हो गई कि...

1 min read
Satyakatha
February 2021

सोनू का आनंद लोक

सोनू जानती थी कि अमीन के पद पर कार्यरत आशीष शुक्ला शादीशुदा ही नहीं बल्कि 2 बच्चों का पिता है. इस के बावजूद लालची सोनू ने उसे अपने प्यार के जाल में फांस लिया. इसी दौरान महत्त्वाकांक्षी सोनू ने ऐसी चाल चली कि...

1 min read
Satyakatha
February 2021