रुमा देवी: झोपड़ी से यूरोप तक
Saras Salil - Hindi|September First 2021
फैंशन शो यानी तरहतरह के कपड़ों को नए अंदाज में पेश करने का जरीया. इसी तरह का एक फैशन शो चल रहा था, जिस में अनोखी कढ़ाई से सजे कपड़े पहन कर फैशनेबल मौडल रैंप पर आ कर सधी चाल में चल रही थीं.
वीरेंद्र बहादुर सिंह

आखिर में इन कपड़ों की डिजाइन तैयार करने वाली राजस्थानी अंदाज में सजीधजी मुसकराते हुए एक औरत स्टेज पर आई. यह वही औरत थी रूमा देवी, जिस ने अपनी क्षेत्रीय कला को मौडर्न रूप दे कर दुनियाभर में नाम दिलाया है.

रूमा देवी का जन्म नवंबर,1988 में राजस्थान के जिले बाड़मेर के एक छोटे से गांव रातवसर में एक सामान्य परिवार में हुआ था. उन के पिता का नाम खेतारम तो मां का नाम इमरती देवी था.

जब रूमा देवी 5 साल की थीं, तभी उन की मां की मौत हो गई थी. मां की मौत के बाद पिता ने दूसरी शादी कर ली.

सौतेली मां के साथ रहने के बजाय रूमा देवी अपने चाचा के साथ रहने लगीं. 7 बहनों और एक भाई में रूमा देवी सब से बड़ी थीं.

राजस्थान में तब पीने के पानी की बड़ी किल्लत थी. रूमा देवी ने वे दिन भी देखे हैं, जब पीने के लिए पानी 10 किलोमीटर दूर बैलगाड़ी से लाया जाता था.

8वीं जमात पास करने के बाद रूमा देवी की पढ़ाई छुड़वा दी गई. स्कूल छूटने के बाद वे अपनी चाची के साथ घरगृहस्थी के कामकाज सीखते हुए घर के कामों में मदद करने लगी.

17 साल की ही छोटी उम्र में रूमा देवी की शादी बाड़मेर के ही गांव बेरी के रहने वाले टिकूराम से कर के उन्हें ससुराल भेज दिया गया.

टिकूराम नशामुक्ति संस्थान, जोधपुर के साथ मिल कर काम करते हैं. उसी छोटी उम्र में रूमा देवी ने एक बेटे को जन्म दिया, पर उन का मासूम बेटा उचित इलाज न मिलने की वजह से महज 48 घंटे बाद ही काल के गाल समा गया.

इस आघात से निकलना रूमा देवी के लिए आसान नहीं था, पर उन के घर की माली हालत काफी खराब थी, इसलिए उन्होंने घर से कुछ ऐसा करने के बारे में विचार किया, जिस से वे भी चार पैसे कमा कर घर वालों की मदद कर सकें.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARAS SALIL - HINDIView All

गहना को मिली राहत

अभी हाल ही में पोर्न फिल्में बनाने के आरोप में फंसे शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को अदालत से जमानत मिली, तो वे 2 महीने जेल में बिता कर घर वापस लौटे.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

क्रिकेट: बिना खेले ही कर दिया खेल

18 साल के लंबे अरसे बाद पाकिस्तान गई न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम और मेजबान टीम के बीच 17 सितंबर, 2021 से 3 मैचों की वनडे सीरीज का पहला मैच खेला जाना था, लेकिन मैच शुरू होने से ठीक पहले सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया. इस दौरे पर न्यूजीलैंड को 5 मैचों की टी20 सीरीज भी खेलनी थी.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

21वीं सदी का बड़ा मुद्दा है बढ़ता बांझपन

चाहे तनाव हो, मोटापा हो, वायु प्रदूषण हो या देर से शादी होना, कुछ भी वजह हो, पिछले तकरीबन 50 सालों में मर्दो के शुक्राणुओं की तादाद में 50 फीसदी तक की कमी पाई गई है. इस में बेऔलाद जोड़ों के लिए स्पर्म डोनेशन का एक नया रास्ता तैयार हुआ है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

टोक्यो पैरालिंपिक, 2020 कल तक अनजान आज हीरो

भारत जैसे देश में जहां खेलों को सरकारी नौकरी पाने का जरीया माना जाता है, वहां खेल के प्रति इज्जत और खेल प्रेमी बहुत कम ही हैं. उन के लिए वही खिलाड़ी बड़ा है, जो ओलिंपिक खेलों में मैडल जीते.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

कांग्रेस: मुश्किल दौर में भी मजबूत

पिछले कुछ साल से कांग्रेस पार्टी में भीतरी कलह कुछ ज्यादा ही दिखाई दे रही है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव जीतने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने तो ठान ही लिया था कि वह देश को 'कांग्रेस मुक्त' कर देगी.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

फिल्म इंडस्ट्री में भाईभतीजावाद उभरते कलाकारों के लिए खतरनाक

फिल्म इंडस्ट्री एक ऐसी जगह है, जहां हर कोई अपने सपने पूरे करना चाहता है, लेकिन वहां की चकाचौंध के पीछे का अंधेरा वे लोग ही महसूस कर पाते हैं, जो यहां पर आ कर जद्दोजेहद करते हैं और सालों बाद मिली कामयाबी को भी ठीक से संभाल नहीं पाते. इस की साफ और सीधी वजह है यहां पर सालों से चल रही गंदी राजनीति, गुटबाजी और भाईभतीजावाद.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

रुमा देवी: झोपड़ी से यूरोप तक

फैंशन शो यानी तरहतरह के कपड़ों को नए अंदाज में पेश करने का जरीया. इसी तरह का एक फैशन शो चल रहा था, जिस में अनोखी कढ़ाई से सजे कपड़े पहन कर फैशनेबल मौडल रैंप पर आ कर सधी चाल में चल रही थीं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

पकड़ौवा विवाह बंदूक की नोक पर शादी

कहते हैं कि शादी ऐसा लड्डू है, जो खाए वह पछताए और जो न खाए वह भी पछताए. लेकिन वहां आप क्या करेंगे, जहां जबरन गुंडई से आप की मरजी के खिलाफ आप के मुंह में यह लड्डू टूंसा जाने लगे? हम बात कर रहे हैं 'पकड़ौवा विवाह' की, जो बिहार के कुछ जिलों में आज भी हो रहे हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

हिंदू धर्म में गोवर की पूजा इनसानों से छुआछूत

हिंदू धर्म में पेड़पौधे की पूजा की जाती है. तुलसी के पौधे में रोजाना जल दिया जाता है. पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाया जाता है और पूजा की जाती है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

गांव की औरतें: हालात बदले सोच वही

राज कपूर ने साल 1985 में फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली'बनाई थी, जो पहाड़ के गांव पर आधारित थी. इस में हीरोइन मंदाकिनी ने गंगा का किरदार निभाया था, फिल्म का सब से चर्चित सीन वह था, जिस में मंदाकिनी झरने के नीचे नहाती है. वह एक सफेद रंग की सूती धोती पहने होती है. पानी में भीगने के चलते उस के सुडौल अंग दिखने लगते हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021