पकड़ौवा विवाह बंदूक की नोक पर शादी
Saras Salil - Hindi|September First 2021
कहते हैं कि शादी ऐसा लड्डू है, जो खाए वह पछताए और जो न खाए वह भी पछताए. लेकिन वहां आप क्या करेंगे, जहां जबरन गुंडई से आप की मरजी के खिलाफ आप के मुंह में यह लड्डू टूंसा जाने लगे? हम बात कर रहे हैं 'पकड़ौवा विवाह' की, जो बिहार के कुछ जिलों में आज भी हो रहे हैं.
मिनी सिंह

22 साल के शिवम का सेना के टैक्निकल वर्ग में चयन हो गया था और वह 17 जनवरी को नौकरी जौइन करने वाला था. हमेशा की तरह एक सुबह जब वह अपने कुछ दोस्तों के साथ सैर पर निकला, तभी कार में सवार कुछ लोगों ने उसे अगवा कर लिया.

शिवम के दोस्तों ने बताया कि उन पांचों लोगों के हाथों में हथियार थे, इसलिए वे कुछ कर वे नहीं पाए.

शिवम को अगवा कर के वे बदमाश एक मंदिर में ले गए और जबरन उस की शादी एक लड़की से करा दी. शादी की तसवीरें सोशल मीडिया पर भी वायरल हुई थीं.

क्या है 'पकड़ौवा विवाह'

बिहार में इसे 'पकड़वा' या 'पकड़ौवा ' विवाह' या फिर 'फोर्ड मैरिज' भी कहते हैं. इस में लड़के का अपहरण कर के मारपीट और डराधमका कर उसे शादी करने के लिए मजबूर किया जाता है.

इस शादी में कम पढ़ेलिखे, नाबालिग से ले कर नौकरी करने वाले नौजवानों का अपहरण कर जबरन शादी करा दी जाती है. कुछ साल पहले इसी मुद्दे पर एक फिल्म 'जबरिया जोड़ी' भी बनी थी.

बिहार में बंदूक की नोक पर शादी कराना कोई बड़ी बात नहीं है. यह तो बहुत ही पुरानी परंपरा है. साल 1980 के दशक में उत्तरी बिहार में खासतौर पर बेगूसराय में 'पकड़ौवा विवाह' के मामले खूब सामने आए थे और आज भी इस तरह की शादियां हो रही हैं. बता दें कि ऐसी शादी कराने वाला एक गैंग होता है.

कैसे काम करता है गैंग

1980 के दशक में बिहार में कई ऐसे गैंग बनाए गए थे, जिन की शादी के सीजन में काफी डिमांड रहती थी.

ये गिरोह लड़की के लिए सही लड़के की तलाश करते थे और मौका देख कर उसे अगवा कर बंदूक की नोक पर शादी कराते थे. शादी के बाद लड़के के घर वालों पर लड़की को बहू के तौर पर स्वीकारने के लिए दबाव बनाते थे.

बिहार के नालंदा जिले के एक बुजुर्ग रामकिशोर सिंह की शादी भी आज से तकरीबन 40 साल पहले अपहरण कर के ही हुई थी. रामकिशोर का कहना है कि ऐसी शादी में न दहेज देने की चिंता होती है और न ही ज्यादा खर्चे की.

हालांकि यह सब करना अपराध की श्रेणी में आता है, लेकिन इस मामले में पुलिस की भूमिका बहुत ही सीमित है. राज्य पुलिस मुख्यालय इसे आपराधिक से ज्यादा सामाजिक समस्या के रूप में देखता है.

राज्य के अपर पुलिस महानिदेशक गुप्तेशर पांडेय कहते हैं कि जबरन होने वाली शादियों को भी बाद में सामान्य शादियों की तरह ही सामाजिक मान्यता मिलती रही है. इस में पुलिस की भूमिका काफी सीमित है.

पुलिस महकमे के अफसरों का भी मानना है कि ऐसे में लड़के के परिवार वाले तो - अपहरण का मामला थाने में दर्ज करवाते हैं, लेकिन जब पता चलता है कि शादी के लिए अगवा किया गया है तो कार्यवाही में ढिलाई दे दी जाती है, क्योंकि किसी लड़की की शादी तो नेक काम है. कई मामले की जांच होतेहोते दोनों पक्ष समझौता कर चुके होते हैं. ऐसे में पुलिस के पास भी करने के लिए ज्यादा कुछ नहीं होता है.

ऐसी शादी में ऐसे लड़के पहले से ही निशाने पर होते हैं, जो अपनी ही जाति के होते हैं. यह शादी किसी पंडित द्वारा तय नहीं कराई जाती है, बल्कि कभीकभी लड़के का कोई अपना सगा ही होता है, जो धोखे से उसे मंडप तक ले जाता है.

'पकड़ौवा विवाह' में आननफानन ही मंडप तैयार कर लड़की को दुलहन की तरह तैयार कर उस की मांग किडनैप किए लड़के से भरवा दी जाती है. ऐसी शादी के लिए न तो लड़का मानसिक रूप से तैयार होता है और न ही लड़की.

एक औरत बताती है कि जब वह 15 साल की थी, तब जबरन उस की शादी करवा दी गई. मरजी पूछना तो दूर की बात है, उस 15 साल की बच्ची को यह तक पता नहीं था कि आज उस की शादी होने वाली है. मांबाप लड़की को ले जा कर मंडप में बैठा देते हैं और कुछ ही मिनटों में एक अनजान शख्स, जिसे उस ने देखा तक नहीं है, उस का पति बन जाता है.

उस औरत ने आगे बताया कि उसे गुस्सा आता था कि मेरे साथ यह क्या हो गया. पति ने 3 साल तक उसे नहीं स्वीकारा. लड़के का कहना था वह फांसी लगा कर मर जाएगा, पर इस शादी को नहीं स्वीकारेगा.

लड़के का यह भी कहना था कि जिस लड़की को वह जानता तक नहीं, रिश्ता नहीं रखना. उसे उस लड़की से कोई मतलब नहीं. उसे पढ़लिख कर अपनी जिंदगी बनानी है. लेकिन फिर बाद में सुलहसफाई के लिए पंचायत बैठी, तब जा कर लड़की को ससुराल विदा करा कर ले जाया गया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARAS SALIL - HINDIView All

गहना को मिली राहत

अभी हाल ही में पोर्न फिल्में बनाने के आरोप में फंसे शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा को अदालत से जमानत मिली, तो वे 2 महीने जेल में बिता कर घर वापस लौटे.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

क्रिकेट: बिना खेले ही कर दिया खेल

18 साल के लंबे अरसे बाद पाकिस्तान गई न्यूजीलैंड क्रिकेट टीम और मेजबान टीम के बीच 17 सितंबर, 2021 से 3 मैचों की वनडे सीरीज का पहला मैच खेला जाना था, लेकिन मैच शुरू होने से ठीक पहले सुरक्षा कारणों का हवाला देते हुए न्यूजीलैंड ने पाकिस्तान का दौरा रद्द कर दिया. इस दौरे पर न्यूजीलैंड को 5 मैचों की टी20 सीरीज भी खेलनी थी.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

21वीं सदी का बड़ा मुद्दा है बढ़ता बांझपन

चाहे तनाव हो, मोटापा हो, वायु प्रदूषण हो या देर से शादी होना, कुछ भी वजह हो, पिछले तकरीबन 50 सालों में मर्दो के शुक्राणुओं की तादाद में 50 फीसदी तक की कमी पाई गई है. इस में बेऔलाद जोड़ों के लिए स्पर्म डोनेशन का एक नया रास्ता तैयार हुआ है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
October First 2021

टोक्यो पैरालिंपिक, 2020 कल तक अनजान आज हीरो

भारत जैसे देश में जहां खेलों को सरकारी नौकरी पाने का जरीया माना जाता है, वहां खेल के प्रति इज्जत और खेल प्रेमी बहुत कम ही हैं. उन के लिए वही खिलाड़ी बड़ा है, जो ओलिंपिक खेलों में मैडल जीते.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

कांग्रेस: मुश्किल दौर में भी मजबूत

पिछले कुछ साल से कांग्रेस पार्टी में भीतरी कलह कुछ ज्यादा ही दिखाई दे रही है. साल 2014 के लोकसभा चुनाव जीतने के बाद भारतीय जनता पार्टी ने तो ठान ही लिया था कि वह देश को 'कांग्रेस मुक्त' कर देगी.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

फिल्म इंडस्ट्री में भाईभतीजावाद उभरते कलाकारों के लिए खतरनाक

फिल्म इंडस्ट्री एक ऐसी जगह है, जहां हर कोई अपने सपने पूरे करना चाहता है, लेकिन वहां की चकाचौंध के पीछे का अंधेरा वे लोग ही महसूस कर पाते हैं, जो यहां पर आ कर जद्दोजेहद करते हैं और सालों बाद मिली कामयाबी को भी ठीक से संभाल नहीं पाते. इस की साफ और सीधी वजह है यहां पर सालों से चल रही गंदी राजनीति, गुटबाजी और भाईभतीजावाद.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September Second 2021

रुमा देवी: झोपड़ी से यूरोप तक

फैंशन शो यानी तरहतरह के कपड़ों को नए अंदाज में पेश करने का जरीया. इसी तरह का एक फैशन शो चल रहा था, जिस में अनोखी कढ़ाई से सजे कपड़े पहन कर फैशनेबल मौडल रैंप पर आ कर सधी चाल में चल रही थीं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

पकड़ौवा विवाह बंदूक की नोक पर शादी

कहते हैं कि शादी ऐसा लड्डू है, जो खाए वह पछताए और जो न खाए वह भी पछताए. लेकिन वहां आप क्या करेंगे, जहां जबरन गुंडई से आप की मरजी के खिलाफ आप के मुंह में यह लड्डू टूंसा जाने लगे? हम बात कर रहे हैं 'पकड़ौवा विवाह' की, जो बिहार के कुछ जिलों में आज भी हो रहे हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

हिंदू धर्म में गोवर की पूजा इनसानों से छुआछूत

हिंदू धर्म में पेड़पौधे की पूजा की जाती है. तुलसी के पौधे में रोजाना जल दिया जाता है. पीपल के पेड़ के नीचे दीया जलाया जाता है और पूजा की जाती है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
September First 2021

गांव की औरतें: हालात बदले सोच वही

राज कपूर ने साल 1985 में फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली'बनाई थी, जो पहाड़ के गांव पर आधारित थी. इस में हीरोइन मंदाकिनी ने गंगा का किरदार निभाया था, फिल्म का सब से चर्चित सीन वह था, जिस में मंदाकिनी झरने के नीचे नहाती है. वह एक सफेद रंग की सूती धोती पहने होती है. पानी में भीगने के चलते उस के सुडौल अंग दिखने लगते हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021