ओलिंपियन सुशील कुमार गले में मैडल हाथ में मौत
Saras Salil - Hindi|June Second 2021
आजकल पहलवान सुशील कुमार फिर सुर्खियों में हैं, पर इस बार उन्होंने देश के लिए कोई मैडल नहीं जीता है, बल्कि मामला एक मर्डर का है, जिस के लिए उन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है.
सुनील शर्मा

आज सुशील कुमार जिस मुकाम पर हैं, उन का नाम एक बड़े अपराध से जुड़ना वाकई दुखद है और सवाल खड़ा करता है कि क्यों किसी नामचीन पहलवान ने ऐसी वारदात को अंजाम दिया, जो उस की जिंदगी को पूरी तरह बरबाद कर सकती है?

यह सवाल उठने की एक वजह यह भी है कि सुशील कुमार ने कुश्ती में जो कारनामे किए हैं, वह कोई हंसीखेल नहीं है, वरना साल 2008 से पहले चंद खेल प्रेमियों को छोड़ दें तो बहुत से लोगों को यह भी नहीं पता था कि सुशील कुमार, योगेश्वर दत्त, अखिल कुमार और विजेंदर सिंह में से कौन मुक्केबाज है और कौन पहलवान.

लेकिन भारत ने साल 2008 में चीन में हुए बीजिंग ओलिंपिक खेलों में जो ऐतिहासिक प्रदर्शन किया था, उस में कुश्ती में सुशील कुमार और मुक्केबाजी में विजेंदर सिंह ने कांसे का तमगा जीता था. तब से सुशील कुमार ने कभी पीछे मुड़ कर नहीं देखा और वे न केवल साल 2010 में वर्ल्ड चैंपियन बने, बल्कि साल 2012 में इंगलैंड के लंदन ओलिंपिक में कांसे के तमगे का रंग बदलते हुए उसे चांदी का कर दिया था.

देश की जनता और सरकार ने भी सुशील कुमार को प्यार और तोहफे देने में कोई कसर नहीं छोड़ी थी. खेल जगत का हर बड़ा अवार्ड तो मिला ही, उन्हें नौकरी भी ऐसी दी गई कि वे भविष्य के पहलवानों को अपनी निगरानी में तराश सकें. इतना ही नहीं, 1982 में दिल्ली में हुए एशियाई खेलों के गोल्ड मैडलिस्ट और सुशील कुमार के गुरु महाबली सतपाल ने उन्हें अपना दामाद बनाया.

एक मुलाकात में मैं ने महाबली सतपाल से पूछा था कि उन्होंने सुशील को ही अपनी बेटी सवी के लिए क्यों चुना? तब अपने चिरपरिचित अंदाज में मुसकराते हुए उन्होंने मुझ से ही सवाल कर दिया था कि क्या आज की तारीख में मेरी बेटी के लिए सुशील से योग्य वर तुम्हें कोई दूसरा दिखता है?

सवी से शादी हुई और सुशील कुमार जुड़वां बेटों के पिता बने. इतना ही नहीं, उन्होंने अपने छोटे भाइयों का भी खास खयाल रखा. नजफगढ़ में उन्होंने 'सुशील इंटरनैशनल' नाम से एक स्कूल खोला, जिसे उन के भाई संभालते हैं.

फिर ऐसा क्या हुआ कि एक गरीब ड्राइवर के बेटे सुशील कुमार को यह तरक्की और जनता का प्यार रास नहीं आया और उन के साथ धीरेधीरे ऐसे विवाद जुड़ते गए, जो उन्हें अर्श से फर्श तक ले आए?

जितना मैं ने सुशील कुमार को जाना और समझा है, साल 2008 उन की जिंदगी का टर्निंग पौइंट था. बीजिंग ओलिंपिक में मैडल जीतते ही दिल्ली देहात का एक लड़का अचानक सुर्खियों में आ गया था. तब उन की उम्र 25 साल थी और उन्होंने अपनी जिंदगी के तकरीबन 12 साल उस छत्रसाल स्टेडियम में गुजार दिए थे.

पर अब चूंकि सुशील कुमार ओलिंपिक मैडल विजेता थे, तो लोग उन्हें अपने कार्यक्रमों में बतौर मुख्य अतिथि न्योता देने लगे थे. पर तब उन के सामने एक बड़ी समस्या यह आती थी कि वे अपनी बात को उतनी आसानी और रोचक ढंग से लोगों के सामने नहीं रख पाते थे. उन की यह झिझक बहुत दिनों के बाद दूर हो पाई थी, वरना बहुत सी बार तो उन के कोच ही मीडिया के सवालों के जवाब दे दिया करते थे.

ऐसे ही एक समारोह में मैं ने सुशील कुमार का पहली बार इंटरव्यू किया था और वह भी ठेठ हरियाणवी भाषा में. यह भाषा उन के लिए सहज थी, तो वे भी हरियाणवी में बोलना शुरू हो गए थे. मेरे सवालों का जवाब देते हुए उन के चेहरे पर गजब का आत्मविश्वास दिखा था.

इस के बाद हम बहुत बार मिले. ज्यादातर दिल्ली के छत्रसाल स्टेडियम में या फिर सोनीपत के पास बहालगढ़ स्पोर्ट्स अथोरिटी ऑफ इंडिया के कौंप्लैक्स में, जहां वे एक अलग अंदाज में रहते थे. इन दोनों जगहों पर वे अपने साथियों के साथ जमीन पर गद्दे लगा कर सोते थे और अपना खाना खुद बनाते थे.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM SARAS SALIL - HINDIView All

गांव की औरतें: हालात बदले सोच वही

राज कपूर ने साल 1985 में फिल्म 'राम तेरी गंगा मैली'बनाई थी, जो पहाड़ के गांव पर आधारित थी. इस में हीरोइन मंदाकिनी ने गंगा का किरदार निभाया था, फिल्म का सब से चर्चित सीन वह था, जिस में मंदाकिनी झरने के नीचे नहाती है. वह एक सफेद रंग की सूती धोती पहने होती है. पानी में भीगने के चलते उस के सुडौल अंग दिखने लगते हैं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021

टोक्यो ओलिंपिक: खिलाड़ी गाली के नहीं इज्जत के हकदार

ओलिंपिक खेलों में शिरकत करना इज्जत और गौरव की बात है. ऐसे में अगर वंदना कटारिया और दूसरी महिला खिलाड़ी हौकी के सैमीफाइनल मुकाबले में अच्छा खेल नहीं दिखा पाईं, तो क्या किसी एक खिलाड़ी को उस की जाति को ले कर उसे या उस के परिवार वालों को गाली दी जानी चाहिए या फिर खिलाड़ी का जोश बढ़ाना चाहिए?

1 min read
Saras Salil - Hindi
August Second 2021

लोकतंत्र का माफियाकरण

साल 2022 के 15 अगस्त को आजादी की 75वीं सालगिरह मनाई जाएगी. इस के लिए अमृत महोत्सव' की बड़े पैमाने पर तैयारी चल रही है. 26 जनवरी, 2022 को हमारा लोकतंत्र भी 72वें साल में दाखिल हो जाएगा.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July Second 2021

गरीबों के लिए कौन अच्छा मायावती अखिलेश या प्रियंका

कांग्रेस हमेशा से राजनीति में सभी जाति, धर्म और गरीब व कमजोर तबके को साथ ले कर चलती रही है. समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी ने बीसी, एससी और कमजोर तबके की राजनीति की है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
August First 2021

पापी पेट का सवाल है

शहर में बहुमंजिला इमारत का काम जोरों पर था. ठेकेदार आज ही एक ट्रक में ढेर सारे मजदूर ले कर आया था. सभी मजदूर भेड़बकरियों की तरह ढूंस कर लाए गए थे और आते ही ठेकेदार ने मजदूरों को काम पर लगा दिया था.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July First 2021

न्यूड वीडियो कालिंग से 'लुटते लोग

मध्य प्रदेश में ग्वालियर की शिंदे की छावनी में रहने वाले 32 साला जयराज सिंह तोमर (बदला हुआ नाम) अपने ह्वाट्सएप पर मैसेज देख रहे थे कि तभी उन के पास एक अनजान फोन नंबर से वीडियो काल आया.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July First 2021

दहशत की देन कोरोना माता

जहां एक तरफ कोरोना ने पूरी दुनिया में तबाही मचा रखी है, वहीं उत्तर प्रदेश के प्रयागराज मंडल के प्रतापगढ़ जिले में कोरोना से कुछ लोगों की मौत के बाद गांव वाले इतना ज्यादा डर गए कि उन्होंने कोरोना माता का मंदिर ही बना लिया.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July First 2021

लोग हैं कि जीने नहीं देते

साल 1991 में आई फिल्म 'लम्हे' एक ऐसी प्रेम कहानी थी, जिसे भारतीय दर्शकों ने सिरे से नकार दिया था. वजह, हीरो अनिल कपूर श्रीदेवी से प्यार करता है, पर वह किसी दूसरे आदमी से शादी कर लेती है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
July First 2021

कमाल राशिद खान बदनामी से कमाया नाम

दशहरा त्योहार से पहले होने वाली गलीमहल्ले की रामलीला में भी आयोजक ऐसा रावण ढूंढ़ते हैं, जो अट्टहास अच्छा कर सके. जो हनुमान को 'तुच्छ वानर', 'अदना सा मर्कट' और रामलक्ष्मण को 'निरीह प्राणी', 'दरदर भटकते वनवासी' वगैरह कह कर अपनी भारी आवाज में हंसे, ताकि दर्शक डर जाएं.

1 min read
Saras Salil - Hindi
June Second 2021

ओलिंपियन सुशील कुमार गले में मैडल हाथ में मौत

आजकल पहलवान सुशील कुमार फिर सुर्खियों में हैं, पर इस बार उन्होंने देश के लिए कोई मैडल नहीं जीता है, बल्कि मामला एक मर्डर का है, जिस के लिए उन्हें गिरफ्तार किया जा चुका है.

1 min read
Saras Salil - Hindi
June Second 2021
RELATED STORIES

A Baritone Digs Deep

Will Liverman steps into the opera world’s most visible spot— the Met’s opening-night lead—in Fire Shut Up in My Bones.

5 mins read
New York magazine
August 30 - September 12, 2021

FNTI's Flight Students Fly Home To Serve

First Peoples’ flight training based on the Indigenous “way of knowing”

5 mins read
Flying
September 2021

Space Is Bigger Than Billionaires

The orbital economy goes way beyond the ambitions of Jeff Bezos, Richard Branson, and Elon Musk

8 mins read
Bloomberg Businessweek
July 26, 2021

The Group Portrait: America's Tastemakers

Across the river, a quiet industry determines the flavors of our foods.

2 mins read
New York magazine
July 19 - August 1, 2021

ROLLING IN THE DEEP

Get tactical in authentic D&D roll-player SOLASTA: CROWN OF THE MAGISTER

7 mins read
PC Gamer US Edition
September 2021

Fighting Fire With Founders

Silicon Valley startups are taking aim at deadly wildfires. But saving lives will require cutting through red tape, fast.

10 mins read
Inc.
May - June 2021

Clarence Thomas Declares War On Big Tech

IN 2003, REASON named Clarence Thomas one of the magazine’s “35 Heroes of Freedom” because the Supreme Court justice had proven himself “a reliable defender of freedom of speech in such diverse contexts as advertising, broadcasting, and campaign contributions.”

4 mins read
Reason magazine
July 2021

Evolution of the App

The introduction of the iPhone in 2007—or, more specifically, Apple opening its App Store to third-party developers in 2008—turned out to be one of the most consequential developments ever to hit the home automation market.

4 mins read
Sound & Vision
April - May 2021

Limit Losses With These ETFs

The catch: You’ll give up some gains in return.

3 mins read
Kiplinger's Personal Finance
June 2021

GM: SOFTWARE, NEW BATTERY PARTS WILL SOLVE BOLT FIRE ISSUES

Engineers at General Motors have figured out how to fix a battery problem with the Chevrolet Bolt electric hatchback that caused five of them to catch fire.

2 mins read
Techlife News
Techlife News #496