बहन के प्यार का साइड इफेक्ट
Manohar Kahaniyan|December 2021
गगन उर्फ गौतम नहीं चाहता था कि उस की सौतेली बहन नंदिनी मोहल्ले के दूसरी बिरादरी के युवक से प्यार करे. लेकिन नंदिनी भी जिद्दी थी. अपनी जिद पूरी करने के लिए उस ने भाई गगन की पूर्व प्रेमिका ममता के साथ मिल कर भाई के खिलाफ ऐसी खूनी साजिश रची कि...
आर. के. राजू

घर में सभी लोगों की लाडली नंदिनी की शादी को ले कर उस के पिता ओमप्रकाश चिंतित रहते थे. उस की शादी की उम्र हो चुकी थी. वह जितनी चंचल, उतनी ही हिम्मती और बातबात पर अड़ जाने वाली थी. जिद्दी इतनी कि एक बार जो मन में ठान लिया, उसे पूरा कर के ही छोड़ती थी. मुरादाबाद की एक एक्सपोर्ट कंपनी में काम करने वाले ओमप्रकाश के खाते पीते सुखीसंपन्न परिवार में पत्नी ओमवती के अलावा बेटी नंदिनी और बेटा गगन था.

मुरादाबाद की लालबाग रामगंगा कालोनी में रहने वाले इस परिवार के सभी सदस्य सौतेलेपन की कुंठा से ग्रसित थे. वहीं सौतेलापन नंदिनी को भी भीतर ही भीतर कुछ ज्यादा ही कुरेदता रहता था. उस की बड़ी बहन पूजा की शादी हो चुकी थी. वह अपने घर में खुश थी, लेकिन नंदिनी को पड़ोस में रहने वाले प्रदीप नाम के युवक से प्यार हो गया. लेकिन वह उस की बिरादरी का नहीं था. इस के अलावा वह बेरोजगार भी था.

इसी बात को ले कर गगन उस के प्रेम में रोड़ा बन बैठा था. नंदिनी गगन की भले ही सौतेली बहन थी, लेकिन वह नहीं चाहता था कि नंदिनी प्रदीप से प्यार करे. गगन अपने मातापिता को इस बारे में उकसाता भी रहता था. पिता भी गगन का ही पक्ष लेते थे. सौतेली मां कलावती का निधन भी बीते साल कैंसर से हो चुका था.

घर में नंदिनी की एकमात्र हमदर्द गगन की पत्नी राधा बन सकती थी, लेकिन उस की घर में जरा भी नहीं चलती थी. गगन नंदिनी के साथसाथ उसे भी काफी डांटडपट कर रखता था. कई बार इस वजह से नंदिनी काफी दुखी हो जाती थी और गगन के विरोधी तेवर को अपने दिल पर लेती हुई बिफर भी पड़ती थी.

उस के मुंह से निकल पड़ता था, "गगन उस का दुश्मन है, क्योंकि वह सौतेला भाई जो है, अपना होता तो..."

अब नंदिनी को यह समझ नहीं आ रहा था कि वह अपने दिल की बात कहे तो किस से? अपनी समस्या का समाधान निकाले भी तो किस की मदद ले? यही सोच कर वह हमेशा तनाव में रहती थी.

प्रेमी प्रदीप के साथ वह ज्यादा समय तक मिलबैठ भी नहीं सकती थी. क्योंकि गगन उस पर हमेशा पहरेदार की तरह तना रहता था. हर बात में मिर्चमसाला लगा कर पिता को बताता था और घर में बात का बतंगड़ बना डालता था.

और तो और, उस के प्रेमी को नाकारा निकम्मा कहता हुआ घर में सभी के सामने उसे काफी जलील करता था. इस बात को ले कर नंदिनी परेशान रहने लगी थी. उस के मन में तरहतरह के खयाल आतेजाते रहते थे.

अपनी समस्याओं को ले कर उधेड़बुन में एक बार नंदिनी बाजार से गुजर रही थी. तभी अचानक उस की मुलाकात ममता से हो गई. उसी ने टोका,“अरे नंदिनी तुम! काफी परेशान दिख रही हो? क्या बात है?"

'अरे ममता! तुम तो पहचानने में ही नहीं आ रही हो. तुम्हारी शादी होने वाली है क्या? बहुत दिनों बाद मिली... कैसी हो तुम?" नंदिनी ने चौंकते हुए उसी की तरह एक साथ कई सवाल दाग दिए.

"मैं तो बस अपने दिल को बहला रही हूं. खुद को दिलासा दे रही हूं. तुम्हारे भाई ने जब से मुझे धोखा दिया है, उस के बाद समझो आज ही मूड फ्रेश करने के लिए थोड़ा बनठन कर निकली हूं... अच्छी लग रही हूंन?" ममता ने भी नंदिनी के अंदाज में जवाब दिया.

"बहुत ही अच्छी, ग्लैमरस. तुम्हारी सुंदरता का कोई जवाब नहीं. तुम कुछ भी पहन लो हीरोइन दिखती हो..." नंदिनी बोली.

'बसबस, किसी की अधिक तारीफ नहीं करते. उस से उस की मुराद पूरी होने में अड़चन आ जाती है." ममता बोली.

"तुम्हारी मुराद क्या है?" नंदिनी तपाक से पूछ बैठी.

"बदला," नंदिनी के लहजे में ममता बोली.

"ऐंऽऽ बदला... यह कोई मुराद हुई ? मगर किस से?" चौंकती हुई नंदिनी ने पूछा.

"तुम्हारे उसी भाई से, जो मेरी जिंदगी उजाड़ कर तुम्हारी जिंदगी भी बरबाद करने पर तुला है." ममता गुस्से में बोली.

'कह तो तुम बिलकुल सही रही हो, मगर क्या कर सकती हूं, समझ नहीं पा रही हूं.' नंदिनी ने कहा.

वह मायूसी के साथ आगे कहने लगी, "गगन सौतेला भाई है न, इसलिए अपना सौतेलापन खुल कर दिखा रहा है. प्रदीप को मेरा और पूरे परिवार का दुश्मन बताता है. पापा को उस के खिलाफ काफी भड़का दिया है. पापा से बोलता है कि उन की जायदाद पर प्रदीप की नजर है. तुम तो जानती हो उसे, वह ऐसा बिलकुल ही नहीं है. वह मुझे बहुत प्यार करता है. मैं भी उसे बहुत चाहती हूं.'

"देखो, नंदिनी तुम्हारे चाहने और नहीं चाहने से क्या होता है. गगन कभी नहीं चाहता है कि तुम्हारी प्रदीप के साथ शादी हो. इस के पीछे छिपा हुआ उस का मकसद समझो. वह जानता है कि तुम्हारी प्रदीप से शादी होने पर तुम इसी मोहल्ले में रहने लगोगी... और फिर अपने पिता की संपत्ति पर हक जताने लगोगी. इसलिए वह तुम्हारी शादी कहीं दूर करवाना चाहता है." ममता ने समझाया.

इसी के साथ उस ने यह भी कह दिया कि उन दोनों का एक ही दुश्मन है गगन.

गगन की प्रेमिका थी ममता

यह बात नंदिनी के दिमाग में घर कर गई. उस वक्त तो ममता और नंदिनी अपनीअपनी उलझनों का बोझ एकदूसरे पर उतार कर विदा हो लिए, लेकन दोनों के दिमाग में गगन के विरोध की ज्वाला धधकने लगी.

ऐसा होना भी स्वाभाविक था. नंदिनी को गगन हमेशा कहता रहता था कि प्रदीप उस का हितैषी नहीं दुश्मन है, वह उस के साथ प्रेम का नाटक कर रहा है और उस की मंशा जमीनजायदाद हथियाने की है.

एक क समय में लालबाग रामगंगा कालोनी निवासी रमेश कुमार की बेटी ममता गगन की प्रेमिका हुआ करती थी. गगन उस पर जान छिड़कता था. गगन भी ममता से बेइंतहा मोहब्बत करता था. उस का दीवाना था.

वह बेहद सुंदर और मांसलता के दैहिक आकर्षण से भरी हुई थी, अपनी खूबसूरती को आधुनिक पहनावे और स्टाइल से और भी ग्लैमर बना देती थी. बौडी लैंग्वेज से ले कर बोलचाल तक से किसी को भी पलक झपकते ही अपनी ओर आकर्षित कर लेती थी.

उस के स्वच्छंद विचार और आधुनिक पहनावे से निखरे रूपरंग का कई लोग गलत अर्थ भी निकालते थे. दबी जुबान में उसे बदचलन तक कह देते थे. ऐसी धारणा रखने वालों में गगन के पिता ओमप्रकाश भी थे.

उन्होंने ममता को ले कर गगन को एक बार खूब डांटा था. उस से दूर रहने की चेतावनी दी. यहां तक कि उन्होंने भी उसे बदचलन करार दे दिया था. दुर्भाग्य से 2018 में गगन की मां कलावती का कैंसर से निधन हो गया.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MANOHAR KAHANIYANView All

तन्हाई में जागी पुरानी मोहब्बत

सीमा की घरगृहस्थी बहुत अच्छी चल रही थी. 3 बच्चे थे. पैसों के साथ घर में किसी चीज की कमी नहीं थी. एक दिन उस के दिमाग में 8 साल पुराने प्रेमी की यादें ताजा हो गईं. फिर क्या था, उस प्रेमी को फिर से पाने के लिए उस ने वह सब कर डाला, जिस की किसी ने कल्पना तक नहीं की होगी...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

‘भौकाल' के असली हीरो आईपीएस नवनीत सिकेरा

इन दिनों ओटीटी प्लेटफार्म पर वेब सीरीज 'भौकाल' के दूसरे भाग की काफी चर्चा है. उस में यूपी के एक जांबाज आईपीएस को शातिर ईनामी अपराधियों से सामना करते दिखाया गया है. उत्तर प्रदेश के सुपरकौप नवनीत सिकेरा की साहस गाथा पर आधारित इस वेब सीरीज में संदेश दिया कि...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

यूक्रेन की महिलाएं खतरे में खूबसूरती

यूक्रेन की महिलाओं को यूरोप में सब से ज्यादा खूबसूरत समझा जाता है, तभी तो यहां की महिलाएं दुनिया भर के पुरुषों को आकर्षित करती हैं. लेकिन अब मौजूदा युद्ध के दौर में नजाकत से रहने वाली यहां की महिलाओं ने अपने देश की रक्षा के लिए बंदूक उठा ली है. अब यह देशभक्ति का जज्बा दिखाते हुए रूसी सैनिकों के सामने मोर्चा संभाले हुए हैं...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

शिल्पा पर चढ़ा इश्क का जादू

शिल्पा शर्मा खूबसूरत ही नहीं बल्कि आकर्षक फिगर वाली युवती थी. तभी तो उस के शादीशुदा होने के बावजूद अमित अग्निहोत्री उस पर मर मिटा था. शिल्पा ने भी अमित की संगिनी बनने के लिए अपने सिंदूर के साथ जो किया, वह...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

पूर्वमंत्री के बेटे ने दफन किया प्यार

पूर्वमंत्री फतेह बहादुर सिंह का बेटा अरुण सिंह उर्फ रजोल अय्याश प्रवृत्ति का था. उस ने पूजा गौतम को भी अपने प्यार के जाल में फांस लिया. ऐश की जिंदगी जीने के लालच में पूजा 2 बच्चों के पिता रजोल से शादी करने को तैयार थी, लेकिन छल करते हुए रजोल ने इस प्यार को जमीन में इस तरह दफन किया कि...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

इंतकाम की आग में खाक हुआ पत्रकार

पत्रकार अविनाश ने क्षेत्र में स्वास्थ्य विभाग की मिलीभगत से अवैध रूप से चल रहे नर्सिंग होम्स के खिलाफ आवाज उठाई थी, जिस से बाद कई नर्सिंग होम्स पर ताले जड़ गए. इस के बाद अविनाश की आवाज दबाने की ऐसी खूनी साजिश रची गई कि...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

बैंकों को कगल बनाने वाला सब से बड़ा घोटाला

पहले विजय माल्या, फिर नीरव मोदी, इस के बाद शक्तिभोग कंपनी के केवलकृष्ण कुमार और अब एबीजी शिपयार्ड कंपनी के एमडी ऋषि कमलेश अग्रवाल ने बैंकों को हजारों करोड़ रुपए का चूना लगा कर साबित कर दिया है कि बैंकों के साथ घोटाला करना आसान है. गौर करने वाली बात यह है कि इतने बड़े घोटाले आसानी से कैसे हो जाते हैं. या तो इन घोटालों में बैंक अधिकारियों की मिलीभगत होती है या फिर बैंकों की नीति में ही कोई खोट है?

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

8 पत्नियों के साथ रहने वाला पति

थाईलैंड का एक युवक इन दिनों इसलिए चर्चा में है, क्योंकि उस की 1-2 नहीं बल्कि 8 पत्नियां हैं. सभी के साथ एक ही मकान में हंसीखुशी रहता है. किसी भी पत्नी को किसी से शिकायत नहीं है और न ही उन्हें अपने प्रिय पति से कोई शिकायत रहती है. उन में से कुछ जल्द ही मां भी बनने वाली हैं.

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

अहमदाबाद सीरियल ब्लास्ट 38 मुजरिमों को फांसी

2008 में अहमदाबाद में 70 मिनट में अलगअलग 20 स्थानों पर जो 21 बम विस्फोट हुए थे, उस में 56 लोगों की जान गई थी. काफी कोशिशों के बाद क्राइम ब्रांच ने मजबूत सबूतों के साथ इस केस के आरोपियों को गिरफ्तार कर सलाखों के पीछे पहुंचा कर ही चैन की सांस ली. कोर्ट ने उन्हीं आरोपियों में से 38 को फांसी की सजा सुना कर दहशतगर्दों को यह संदेश देने की कोशिश की है कि...

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022

'द कश्मीर फाइल्स' सिसकियों पर सियासत

आज कश्मीर का नाम सुनते ही हर किसी के जेहन में वहां की खूबसूरत वादियों की नहीं, बल्कि आतंकवाद की तसवीरें घूमने लगती हैं. 'द कश्मीर फाइल्स' फिल्म को ले कर देश में जिस तरह की बहस छिड़ी है, उस से कश्मीरी पंडितों की हालत में तो शायद कोई सुधार होगा नहीं, बल्कि पीड़ितों की सिसकियों पर सियासत जरूर शुरू हो गई है.

1 min read
Manohar Kahaniyan
April 2022
RELATED STORIES

Killer Heat Is Here

The record temperatures ravaging India are a warning of global catastrophes to come

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Opening the Spigot

Conservatives want to limit social media companies’ power to control content

5 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Expanding Access to Mind Expansion

Companies offer guided drug trips on jungle retreats, at city clinics, and in your living room

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Europe's Travel Rebound Wobbles

A staffing crisis at airlines, airports, and even the Chunnel left some operators overwhelmed

4 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Better-Odds Babies

Genetic testing companies promise they can predict an embryo’s probable future health. Some parents don’t want to stop there

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Are We Still Doing Scooters?

Lime says people are scooting more than ever, but providing urban transit is a hard way to make unicorn-level profits

2 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

"You Know What's Cool?"

Facebook has spent a decade successfully ripping off its newer, hotter rivals. But this time, it tried to copy TikTok and blew up Instagram instead

10+ mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

Pivoting to Troll

Elon Musk’s incessant posting may do wonders for his ego and clout in right-wing circles, but it has destroyed value pretty much everywhere else

5 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

The Nudge Conundrum

Ride-hailing companies are gaming drivers. Drivers are trying to game back. It hasn’t been a joyride

10 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)

The Tech Issue: How It Started How It's Going

The market collapse isn't just the inevitable result of macroeconomic forces like high interest rates and inflation. It's also the best opportunity in more than a decade to reckon with the tech industry's excess

7 mins read
Bloomberg Businessweek
May 30 - June 06, 2022 (Double Issue)