इस अंक के बालयोगी- ध्रुव
Madhuchaitanya Hindi|January - Fabruary 2021
पूज्य गुरुदेव ने सन् २०२०, यह वर्ष 'बाल वर्ष' के रूप में घोषित किया है। इसी उपलक्ष्य में हम एक विशेष लेख शृंखला अपने बाल पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। आशा है, इस शृंखला के तहत प्रकाशित होने वाले बालयोगियों एवं बाल संतों के जीवन-चरित्र से बच्चों को निश्चित ही प्रेरणा मिलेगी।
श्रीमती प्रीति चव्हाण

खुले आसमान में हमें अनगिनत तारे जगमगाते हुए दिखते हैं किन्तु उत्तर दिशा में सदैव चमचमाता हुआ जो अति तेजोमय तारा हमारा ध्यान आकर्षित करता है, वह है ध्रुव तारा। तो आईये, जिसके नाम से यह तारा जाना जाता है, उस बाल योगी ध्रुव की कथा हम जान लें।

बच्चे स्वाभाविक रूप से अबोधित होते हैं किन्तु वे अपने निर्धार के भी पक्के होते हैं। भारतीय आध्यात्मिक इतिहास ऐसे अनेक बाल योगियों की कथाओं से समृद्ध है। इन बाल योगियों की तेजस्वी परंपरा में बालक ध्रुव को एक अग्रणी स्थान प्राप्त है।

भागवत पुराण के अनुसार मनु के पुत्र राजा उत्तानपाद की सुनीति एवं सुरुचि नामक दो पत्नियाँ थीं। सुनीति बड़ी रानी थी लेकिन राजा उत्तानपाद का लगाव अपनी छोटी रानी सुरुचि की तरफ अधिक था। राजा बड़ी रानी की तरफ विशेष ध्यान नहीं देता था। दोनों रानियों के पुत्र थे। सुनीति का पुत्र था ध्रुव तथा सुरुचि के पुत्र का नाम था उत्तम।

एक बार जब महाराज उत्तानपाद कई दिनों के बाद महल पधारे तो उनका स्वागत करने का अधिकार गुरु की आज्ञा का अवहेलन करते हुए महाराज ने अपनी लाडली रानी सुरुचि को दिया। उत्तम अपने पिता की गोद में खेलने लगा। तब ध्रुव को भी पिता की गोद में खेलने की इच्छा हुई और वह पिता के पास गया लेकिन रानी सुरुचि वहाँ आई और उसने क्रोधित होकर ध्रुव को राजा की गोद में से नीचे धकेल दिया। बड़ा बेटा होने के नाते ध्रुव राजसिंहासन पर बैठने का अधिकारी था लेकिन सुरुचि ने कहा, "अरे, राजा के गोद पर तो मेरे पुत्र उत्तम का अधिकार है, तुम्हारा नहीं क्योंकि तूने मेरे गर्भ से जन्म नहीं लिया है। वही राजसिंहासन पर बैठने का अधिकारी है।" पाँच साल का छोटा ध्रुव अपनी सौतेली माँ के शब्दों से बहुत आहत हुआ। उसका स्थान उससे छीना जा रहा था और राजा उत्तानपाद चुप रहकर इस घटना को केवल देख रहा था। ध्रुव समझ गया कि उसके पिता के हृदय में उसके लिए कुछ भी प्रेम नहीं है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MADHUCHAITANYA HINDIView All

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन- चेतना का जन्म

इस प्रवचन में पढ़िए... • अच्छे सान्निध्य का प्रभाव सब पे पड़ता है। • नाशवान चीजों की तरफ चित्त डालने से चित्त नष्ट होता है। • 'समर्पण ध्यान' में अनुभूति बुद्धि, प्रयत्न और धन से प्राप्त नहीं की जा सकती। • बुद्धि जहाँ समाप्त होती है, वहाँ आध्यात्मिकता की शुरुआत होती है। • हमारे अंदर की चेतना कैसे जागृत होती है ? • एक बार आपको सकारात्मकता में जीना आ जाए, तो आपका जीवन की तरफ देखने का दृष्टिकोण बदल जाएगा। • 'समर्पण ध्यान' सामान्य आदमी के लिए, सामान्य तरीके से ईश्वर-प्राप्ति का मार्ग है।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

इस अंक के संत- अवतार मेहर बाबा

१९वीं सदी जब समाप्ति की ओर थी, मानव-हृदय में प्रेम, श्रद्धा, दया तथा परोपकार जैसी भावनाएँ कम होने लगी थीं, मनुष्य अत्यंत बुद्धिवादी एवं अहंकारयुक्त होकर हृदयविहीन होता जा रहा था। ऐसे समय 'दिव्य प्रेम' का संदेश लेकर अवतरित हुए एक सिद्धपुरुष – मेहर बाबा! बाबा ने केवल उस दिव्य प्रेम के बारे में मार्गदर्शन ही नहीं दिया, अपितु उसे जीया है। प्रेम, पवित्रता एवं सेवा से परिपूर्ण उनका जीवन, अनन्तकाल तक जीवन जीने का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण बनकर रहेगा। आइए, ऐसे सिद्धपुरुष की जीवनी पर एक नजर डालें।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन- आत्मा से परमात्मा तक

इस प्रवचन में पढ़िए... • आत्माभिमुख कैसे हों? • भूतकाल के विचारों से छुटकारा कैसे पाएँ ? • सद्गुरु रूपी 'शिव' को भूतकाल का जहर समर्पित करना चाहिए। • मोक्ष की स्थिति इसी जीवन काल में प्राप्त की जा सकती है। • जीवंत माध्यम कैसा हो? • आश्रम, हजारों, लाखों आत्माओं का स्थाईत्व बनेगा। • सारे मनुष्यों तक प्रेम पहुँचाएँ कैसे? • परमात्मा की प्राप्ति के लिए आवश्यक है आप आत्मा बनें।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

यात्रा संस्मरण

कच्छ दर्शन के संस्मरण- ४

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

संत रविदास (रैदास)

शरीर के स्तर पर जीने वाला शूद्र है, के बल पर जीने वाला वैश्य है, खुद के बल पर जीने वाला क्षत्रिय है और सिर्फ परम बल से जो जीता है वो ब्राह्मण है; ये चारों अवस्थाएँ मात्र हैं! इसका जन्म से दूर-दूर का कोई नाता नहीं है, ये नि:संदेह है। लेकिन ऊर्जा के स्तर से निर्मित ये अवस्था जब शारीरिक और जन्म आधारित होकर रुक जाती है तब कोई न कोई क्रांतिकारी पुनः ऊर्जा आधारित व्यवस्था की स्थापना करता है और ऐसे ही ये चक्र रुकता और चलता रहता है।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
May - June 2021

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन

पंद्रहवाँ ४५ दिवसीय गहन ध्यान अनुष्ठान समारोह समर्पण आश्रम, दांडी महाशिवरात्रि, दिनांक ११ मार्च, २०२१

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
May - June 2021

ऋषि मृत्युंजय मार्कण्डेय

पूज्य गुरुदेव ने सन् २०२० और २०२१ को 'बाल वर्ष' के रूप में घोषित किया है। इसी उपलक्ष्य में हम एक विशेष लेख शृंखला अपने बाल पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। आशा है, इस शृंखला के तहत प्रकाशित होने वाले बालयोगियों एवं बाल संतों के जीवन-चरित्र से बच्चों को निश्चित ही प्रेरणा मिलेगी।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

कच्छ दर्शन के संस्मरण- २

कच्छ दर्शन की श्रृंखला में (१०/१०/२०२०) शनिवार को हम सुबह साढ़े चार बजे पुनडी के बाबा धाम से निकले। सुबह चाय पीकर निकले थे। अँधेरे में चंद्रमा साथ था और सुबह का तारा, यानी স্থা अपनी संपूर्ण ऊर्जा के साथ चमक रहा था। सूर्योदय के बाद भी लम्बे समय तक वह नजर आ रहा था।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

नववर्ष के दिन पूज्य गुरुदेव का संदेश

सभी पुण्य आत्माओं को मेरा नमस्कार ..

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

प्रेरक प्रसंग- माँ के संस्कार

प्राचीन काल की बात है। एक राजा था, उसके पास बहुत ही सुंदर और वफादार घोड़ी थी सुंदरी। राजा अपनी घोड़ी से बहुत प्यार करता था। सुंदरी भी अपने मालिक, यानी राजा का बहुत ध्यान रखती थी। उसने दो-तीन बार अपनी जान पर खेलकर राजा के प्राणों की रक्षा की थी।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
January - Fabruary 2021
RELATED STORIES

HUGH: FAME Almost Killed Me

AFTER BECOMING A SUPERSTAR IN THE ’90S, HUGH GRANT WENT ON A HARD-PARTYING, SELF-DESTRUCTIVE SPIRAL THAT LASTED DECADES.

2 mins read
Star
December 21, 2020

THE BREWHOOD REVOLUTION'S FIRST TEST

The craft brewery explosion has reshaped urban neighborhoods. Can it survive this?

4 mins read
Charlotte Magazine
June 2020

Lifting the Veil

A landmark depression-awareness program hopes to curb the rise in youth suicide rates.

10 mins read
Baltimore magazine
May 2020

Alex's Heartfelt Goodbye

THE BELOVED HOST OF JEOPARDY! OPENS UP ABOUT HIS BATTLE WITH STAGE 4 PANCREATIC CANCER, WHAT MAKES HIM KEEP GOING —AND WHY HE ISN’T SCARED OF DYING.

5 mins read
Star
December 2, 2019

Bumpy at times but lands safely

IT has been five years since Little Things first came out on YouTube and ever since then, its two leads, Dhruv and Kavya, have been giving relationship goals to Indian millennials. Times have changed, and so has the streaming platform. Having moved past their honeymoon phase, Dhruv and Kavya are now encountering real-world problems.

2 mins read
The Morning Standard
October 17, 2021

‘Pushing my boundaries for fitness'

ACTOR HARMAN SINGHA is the only civilian to have entered an Indian Navy submarine to show the life of submariners in a four-episode web series Breaking Point: The Indian Submariners on Discovery.

2 mins read
The Morning Standard
October 04, 2021

Punyabhoomi Bharatam

When I was Principal in Vivekananda Kendra Vidyalaya at Kanyakumari, I had made it a point to go to all the classes in a week. I used to take ‘moral science’ classes. Whatever is to be told to children to mould them and develop proper attitude and good habits in them I used to tell through stories. After experimenting with various suggested courses, I came to the conclusion that a story can be the most effective tool. So, I made my plan that in each class a specific great principle of our culture should be communicated through suitable stories.

6 mins read
Yuva Bharati
August 2021

Greening the Grid

How Close is India to Meeting its Renewable Energy Targets?

9 mins read
TerraGreen
August 2021

सत्शिष्य के लक्षण

परम शांत अवस्था से बढ़कर व शांति के अनुभव से बढ़कर और कोई जगत में श्रेष्ठ अनुभव नहीं माना गया।

1 min read
vishvaguru ojaswi
July 2021

स्वामी श्री लीलाशाहजी जीवन दर्शन

साधु-संग मनुष्य जीवन को कुंदन (सोना) बनानेवाला है।

1 min read
vishvaguru ojaswi
July 2021