समर्पण ध्यानयोग चैतन्य महोत्सव २०२०
Madhuchaitanya Hindi|January - Fabruary 2021
समर्पण आश्रम, दाडी, नवसारी ७,८,९ नवंबर २०२०
श्रीमती मैत्री गज्जर शाह

परम पूज्य श्री शिवकृपानंद स्वामीजी चैतन्य का अवतरण !!!

प्रति वर्ष समर्पण ध्यानयोग चैतन्य महोत्सव के आयोजन में साधकगण समर्पण ध्यानयोग संस्कार के प्रणेता सद्गुरु श्री शिवकृपानंद स्वामीजी के प्रागट्य दिन को एक तीन-दिवसीय उत्सव के रूप में मनाते हुए चैतन्य का आनंद प्राप्त करते हैं। इस साल वर्तमान परिस्थिति में सरकारी नियमों का पालन करते हुए, यह उत्सव 'गुरुतत्व' मंच के अंतर्गत श्री शिवकृपानंद स्वामी फाउन्डेशन के द्वारा तीन-दिवसीय ऑनलाइन आयोजन से मनाया गया। इस साल की चैतन्य महाशिविर समर्पण ध्यानयोग परिवार के इतिहास में सबसे लंबी और करीब १,३५,००० से भी अधिक शिविरार्थियों की सामूहिकता में संपन्न होने वाली एक अलौकिक महाशिविर थी जिसमें ६०,००० से अधिक नये साधक-साधिका जुड़े थे! गुरुशक्तियों की विशेष कृपा में यह महाशिविर सार्वजनिक स्तर पर होने के कारण समाज के सभी वर्ग एवं उम्र के लोग इस अवसर से लाभांवित हो पाए। सभी कार्यक्रमों का प्रसारण समर्पण आश्रम , दांडी से श्री शिवकृपानंद स्वामी फाउन्डेशन की यू-ट्यूब चैनल तथा फेसबुक के माध्यम से भारतीय समयानुसार सुबह ६ से शाम ६ बजे तक किया गया तथा विदेशी साधकों के लिए इस कार्यक्रम का शाम ६ से सुबह ६ बजे के दौरान पुनर्प्रसारण किया गया। इस कार्यक्रम का कुछ स्थानीय टी.वी. चैनलों के माध्यम से भी जीवंत प्रसारण किया गया। इस प्रकार ७,८,९ नवंबर के दौरान लगातार ७२ घण्टे तक समग्र कार्यक्रम का ऑनलाइन प्रसारण हुआ। इस कार्यक्रम को गुजरात के माननीय मुख्यमंत्री श्री विजयभाई रुपाणी, भावनगर के सांसद डॉ. भारतीबहन शियाल, कच्छ के सांसद श्री विनोदभाई चावडा तथा नागपुर के डीआईजी श्री संदिप पाटील से शुभकामना के संदेश एवं वीडियो साक्षात्कार प्राप्त हुए।

७नवंबर २०२०

चैतन्य महाशिविर का शुभारंभ ७ नवंबर को प्रात: ६ बजे पूज्य स्वामीजी के सान्निध्य में ध्यान के साथ हुआ। इस सत्र में उन्होंने मोक्ष प्राप्ति हेतु दिव्य शरीर की आवश्यकता, शरीर का महत्त्व , आत्मशांति, आत्मानंद, आत्मसमाधान, आत्मसुख का एहसास , अतंर्मुखी होना , जैसे गूढ़ विषयों को समझाते हुए सभी को ध्यान की एक गहन अवस्था तक मार्गदर्शित किया। तत्पश्चात् चैतन्य समर्पण ध्यानयोग महाशिविर२०२० का उद्घाटन सुबह करीब ७.३० बजे पूज्य स्वामीजी एवं पूज्या गुरुमाँ की उपस्थिति में विविध उपासना पद्धति के संतो द्वारा दीप प्रज्वलन से हुआ। उसके पञ्चात् पूज्या गुरुमाँ के करकमलों से वर्ष २०२१ का समर्पण ध्यानयोग के 'ई-कॅलेंडर' तथा 'युवा शक्ति और चित्त' इस पुस्तिका की हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, गुजराती एवं मलयालम भाषा की ऑडियो बुक का एवं हिंदी, अंग्रेजी, मराठी, गुजराती एवं तमिल भाषा की ई-बुक का विमोचन किया गया। ये ऑडियो बुक 'द ऑरा अँप' के अलावा अन्य ४० से भी अधिक ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध रहेंगी। ई.केलेंडर 'द ऑरा एप' एवं 'बाबा स्वामी प्रिन्टींग एंड मल्टीमीडिया' की वेबसाइट पर निःशुल्क उपलब्ध रहेगा।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MADHUCHAITANYA HINDIView All

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन- चेतना का जन्म

इस प्रवचन में पढ़िए... • अच्छे सान्निध्य का प्रभाव सब पे पड़ता है। • नाशवान चीजों की तरफ चित्त डालने से चित्त नष्ट होता है। • 'समर्पण ध्यान' में अनुभूति बुद्धि, प्रयत्न और धन से प्राप्त नहीं की जा सकती। • बुद्धि जहाँ समाप्त होती है, वहाँ आध्यात्मिकता की शुरुआत होती है। • हमारे अंदर की चेतना कैसे जागृत होती है ? • एक बार आपको सकारात्मकता में जीना आ जाए, तो आपका जीवन की तरफ देखने का दृष्टिकोण बदल जाएगा। • 'समर्पण ध्यान' सामान्य आदमी के लिए, सामान्य तरीके से ईश्वर-प्राप्ति का मार्ग है।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

इस अंक के संत- अवतार मेहर बाबा

१९वीं सदी जब समाप्ति की ओर थी, मानव-हृदय में प्रेम, श्रद्धा, दया तथा परोपकार जैसी भावनाएँ कम होने लगी थीं, मनुष्य अत्यंत बुद्धिवादी एवं अहंकारयुक्त होकर हृदयविहीन होता जा रहा था। ऐसे समय 'दिव्य प्रेम' का संदेश लेकर अवतरित हुए एक सिद्धपुरुष – मेहर बाबा! बाबा ने केवल उस दिव्य प्रेम के बारे में मार्गदर्शन ही नहीं दिया, अपितु उसे जीया है। प्रेम, पवित्रता एवं सेवा से परिपूर्ण उनका जीवन, अनन्तकाल तक जीवन जीने का सर्वश्रेष्ठ उदाहरण बनकर रहेगा। आइए, ऐसे सिद्धपुरुष की जीवनी पर एक नजर डालें।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन- आत्मा से परमात्मा तक

इस प्रवचन में पढ़िए... • आत्माभिमुख कैसे हों? • भूतकाल के विचारों से छुटकारा कैसे पाएँ ? • सद्गुरु रूपी 'शिव' को भूतकाल का जहर समर्पित करना चाहिए। • मोक्ष की स्थिति इसी जीवन काल में प्राप्त की जा सकती है। • जीवंत माध्यम कैसा हो? • आश्रम, हजारों, लाखों आत्माओं का स्थाईत्व बनेगा। • सारे मनुष्यों तक प्रेम पहुँचाएँ कैसे? • परमात्मा की प्राप्ति के लिए आवश्यक है आप आत्मा बनें।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

यात्रा संस्मरण

कच्छ दर्शन के संस्मरण- ४

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
July - August 2021

संत रविदास (रैदास)

शरीर के स्तर पर जीने वाला शूद्र है, के बल पर जीने वाला वैश्य है, खुद के बल पर जीने वाला क्षत्रिय है और सिर्फ परम बल से जो जीता है वो ब्राह्मण है; ये चारों अवस्थाएँ मात्र हैं! इसका जन्म से दूर-दूर का कोई नाता नहीं है, ये नि:संदेह है। लेकिन ऊर्जा के स्तर से निर्मित ये अवस्था जब शारीरिक और जन्म आधारित होकर रुक जाती है तब कोई न कोई क्रांतिकारी पुनः ऊर्जा आधारित व्यवस्था की स्थापना करता है और ऐसे ही ये चक्र रुकता और चलता रहता है।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
May - June 2021

पूज्य गुरुदेव के प्रवचन

पंद्रहवाँ ४५ दिवसीय गहन ध्यान अनुष्ठान समारोह समर्पण आश्रम, दांडी महाशिवरात्रि, दिनांक ११ मार्च, २०२१

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
May - June 2021

ऋषि मृत्युंजय मार्कण्डेय

पूज्य गुरुदेव ने सन् २०२० और २०२१ को 'बाल वर्ष' के रूप में घोषित किया है। इसी उपलक्ष्य में हम एक विशेष लेख शृंखला अपने बाल पाठकों के लिए प्रस्तुत कर रहे हैं। आशा है, इस शृंखला के तहत प्रकाशित होने वाले बालयोगियों एवं बाल संतों के जीवन-चरित्र से बच्चों को निश्चित ही प्रेरणा मिलेगी।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

कच्छ दर्शन के संस्मरण- २

कच्छ दर्शन की श्रृंखला में (१०/१०/२०२०) शनिवार को हम सुबह साढ़े चार बजे पुनडी के बाबा धाम से निकले। सुबह चाय पीकर निकले थे। अँधेरे में चंद्रमा साथ था और सुबह का तारा, यानी স্থা अपनी संपूर्ण ऊर्जा के साथ चमक रहा था। सूर्योदय के बाद भी लम्बे समय तक वह नजर आ रहा था।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

नववर्ष के दिन पूज्य गुरुदेव का संदेश

सभी पुण्य आत्माओं को मेरा नमस्कार ..

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
March - April 2021

प्रेरक प्रसंग- माँ के संस्कार

प्राचीन काल की बात है। एक राजा था, उसके पास बहुत ही सुंदर और वफादार घोड़ी थी सुंदरी। राजा अपनी घोड़ी से बहुत प्यार करता था। सुंदरी भी अपने मालिक, यानी राजा का बहुत ध्यान रखती थी। उसने दो-तीन बार अपनी जान पर खेलकर राजा के प्राणों की रक्षा की थी।

1 min read
Madhuchaitanya Hindi
January - Fabruary 2021