दर्दनाशक दवाएँ किस तरह काम करती हैं?
Chakmak|January - February 2020
अगर तुम्हें कभी दर्द महसूस ही नहीं होता, तो क्या होता? गिरने, चोट लगने से और पिटने से तुम कम डरते! है कि नहीं?
प्रनन्दिता बिस्वास

लेकिन ऐसा नहीं है। दरअसल दर्द हमारे जीवित रहने के लिए बहुत ज़रूरी चीज़ है। दर्द इस बात का संकेत होता है कि हमारे शरीर में कुछ खतरनाक चीज़ हो रही है, जिसे रोकने की हमें कोशिश करनी चाहिए। सोचो, अगर खरोंच लगने पर दर्द नहीं होता तो हम घाव की तरफ ध्यान नहीं देते। और हमारा बहुत सारा खून बह जाता। अगर गरमागरम पानी पड़ने पर हमारी चमड़ी जल जाने पर भी हमें दर्द नहीं होता तो शायद हम अपने महत्वपूर्ण अंगों के जल जाने तक कुछ नहीं करते। इसलिए हमारे शरीर के बचाव में दर्द की अहम भूमिका होती है।

हालाँकि दर्द महत्वपूर्ण होता है पर कभी-कभी इसे सहन करना असम्भव होने लगता है। जैसे हाथ टूटने पर इलाज के लिए डॉक्टर के पास जाने तक भी तुम दर्द में ही रहोगे। फिर डॉक्टर दर्द कम करने के लिए तुम्हें कोई दर्दनाशक दवा देगा।

क्या तुमने कभी सोचा है कि दर्दनाशक दवाएँ कैसे काम करती हैं? उन्हें कैसे पता होता है कि तुम्हें किस जगह पर दर्द है और उन्हें कहाँ जाकर अपना काम करना है? लेकिन पहले हम ये जान लेते हैं कि हमें दर्द महसूस कैसे होता है?

दर्द का एहसास क्या होता है?

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM CHAKMAKView All

भाग 2- नन्हा राजकुमार

पिछले अंक में तुमने पढ़ा लेखक को बचपन में बड़ों ने चित्र बनाने से हतोत्साहित किया तो वह पायलट बन बैठा। अपनी एक यात्रा के दौरान उसे रेगिस्तान में जहाज़ उतारना पड़ा। वहाँ उसकी भेंट एक नन्हे राजकुमार से हुई। राजकुमार ने उससे भेड़ का चित्र बनाने के लिए कहा और फिर एक-दूसरे से परिचय का सिलसिला शुरू हुआ। राजकुमार ने बताया कि वह एक छोटे-से ग्रह का निवासी है। अब आगे...

1 min read
Chakmak
August 2021

जिन्न ऐसे होते हैं?

"जिन्न अक्सर सुनसान जगहों में रहते हैं। कुछ तो खुले पानी या समुन्दर में भी रहते हैं। कुछ खतरनाक किस्म के जिन्न कब्रिस्तान में भी पाए जाते हैं, जो इन्सानों का गोश्त खाते हैं। अगर कोई ज़िन्दा आदमी रात-बिरात इनके बीच फँस जाए तो उसका खून पी जाते हैं। और तो और कुछ जिन्न तो इन्सानी शक्ल में रहते हैं। कोई भूल से भी उनके हाथ पड़ जाए तो उसे कैद करके भेड़ बना देते हैं।"

1 min read
Chakmak
September 2021

अपना ग्राउंड

शहर की ठसाठस भरी गलियों, महल्लों और कांयकांय के बीच एक ग्राउंड था। अपना ग्राउंड। सबका ग्राउंड। ग्राउंड में गड्ढे थे। कई जगह पत्थर-कंकड़ भी। जहाँ ग्राउंड खतम होता, वहाँ कोने में कचरे का ढेर था। अब क्यूँकि कचरे का ट्रक हमारे महल्ले में नहीं आता था, वो ढेर पहाड़ का रूप ले चुका था। कई पुश्तों ने अपना कचरा यहाँ स्वाहा किया होगा।

1 min read
Chakmak
August 2021

भाग 3- नन्हा राजकुमार

पिछले अंक में तुमने पढ़ा...लेखक को विश्वास है कि नन्हा राजकुमार B612 ग्रह से है जिसकी खोज कुछ ही समय पहले हुई थी। छह साल हो गए उसके दोस्त को गए लेकिन लेखक को उसकी बातें याद हैं...धीरे-धारे वह अपने दोस्त के बारे में जानने लगता है। यह भी कि नन्हे राजकुमार के ग्रह के पर कुछ पौधे तो अच्छे माने जाते हैं और कुछ पौधे बुरे, जैसे कि बाओबाब। अपने दोस्त की बातों के समझने के बाद और उसके आग्रह पर लेखक ने उसके ग्रह पर होने वाले बाओबाब का एक चित्र बनाया जो काफी अच्छा बना। अब आगे....

1 min read
Chakmak
September 2021

अस्पताल और कोरोना का डर

मरीज़ों में कोई चुपचाप लेटा था तो किसी की नज़र ऑक्सीजन डिस्प्ले से हट ही नहीं रही थी। सपना मन ही मन सोचने लगी कि ऐसा माहौल तो जब से कोरोना शुरू हुआ है तब से सिर्फ टी.वी., रेडियो और अखबारों में सुनते और देखते आ रहे थे। अब कोरोना मरीज़ों को अपने सामने कुछ मीटर की दूरी पर बेड पर लेटे देख उसे डर-सा लगने लगा।

1 min read
Chakmak
September 2021

मदद

बड़े पार्क के नाम से मशहूर एक पार्क खिचड़ीपुर में है। उसी पार्क से सटे एक घर में रहने वाली साजिया लॉकडाउन में बन्द होकर रह गई है। इस वक्त वह ये सोचकर अपने घर की खिड़की के सामने कुर्सी डालकर बैठ गई है कि आज का मौसम उसे अच्छा लग रहा है। वह टकटकी लगाए आसमान में ढलते सूरज को देख रही है जो खिचड़ीपुर की कूड़ा पहाड़ी के कारण वक्त से पहले ही छुपता जा रहा है।

1 min read
Chakmak
August 2021

तोहफा

नए स्कूल में आए अभी कुछ ही दिन हुए थे। मैंने और मेरी कुछ सहेलियों ने साथ ही में इस स्कूल में एडमिशन लिया था। इसलिए हमारा एक बनाबनाया ग्रुप था। हम ज़्यादातर साथ ही रहते। और उस स्कूल में पहले से पढ़ रहे दूसरे बच्चों से बहुत ज़्यादा मतलब नहीं रखते थे। खासकर लड़कियों के एक ग्रुप से हमारी कुछ खास बनती नहीं थी। इसकी एक वजह मॉनिटर के लिए मुझे चुना जाना भी था।

1 min read
Chakmak
July 2021

तटरेखा को नापना

एक कील से शुरुआत करते हैं। जब हमें किसी कील की लम्बाई नापना हो तो उसे 6 इंच स्केल से नापकर देख सकते हैं। ऐसा करने पर कील की लम्बाई यदि 3.7 सेंटीमीटर और 3.8 सेंटीमीटर के निशान के बीच आ रही है तो इस लम्बाई को हम कैसे बताएं? हम चाहते हैं कि हमें कील की एकदम ठीक-ठीक लम्बाई पता चल जाए। तो हमने वर्नियर कैलीपर्स की मदद से कील की लम्बाई नापी। इस बार लम्बाई 3.73 सेंटीमीटर निकली। किसी दोस्त ने नापी तो 3.74 सेंटीमीटर निकली।

1 min read
Chakmak
July 2021

कटे खेतों में बीनना

20 मार्च जब मैं हॉस्टल से घर गया, तो यह सोचकर गया था कि मैं बोर्ड के बचे हुए दो पेपर देने ज़्यादा से ज़्यादा दस दिनों में वापस आ जाऊँगा। मैं अपनी विज्ञान और हिन्दी की पुस्तकें भी साथ ले गया था ताकि तैयारी कर सकूँ। लेकिन लॉकडाउन बढ़ता रहा। और मैं लगभग 3 महीने (सटीक से पूरे 82 दिन) बाद हॉस्टल लौटा। बोर्ड के लम्बित पेपर रद्द कर दिए गए हैं और परिणाम घोषित होने वाले हैं। मेरा छोटा भाई नितेश (जो छह साल का है) अभी भी घर पर है। मैं इसलिए आया हूँ क्योंकि आईटीआई के आवेदन की घोषणा हो गई है और मुझे फॉर्म भरने हैं।

1 min read
Chakmak
July 2021

मैं भी वहाँ था...

मैं उस घटना की बात कर रहा हूँ जिसने दशकों से ब्राज़ील के ज़बरदस्त फैन रहे फुटबॉल-प्रेमी बंगालियों को हमेशा के लिए अर्जेन्टिना का फैन बना दिया। और यह लगभग रातोंरात हो गया। मानो हम सबके दिमाग पर किसी ने ऐसा जादू कर दिया जिसे उसके बाद कोई दोहरा नहीं सका है।

1 min read
Chakmak
July 2021