CATEGORIES

आ गए बचाने वाले रोबोट

आग, बाढ़, चक्रवात,युद्ध, दंगे-फसाद, महामारी..कुछ ऐसी मुसीबतें हैं, जिनमें फंसे लोगों को बचाने और राहत कार्य के लिए काम करना आसान नहीं होता। इसे आसान बना सकते हैं एआई से लैस रेस्क्यू रोबोट। दुनिया के वैज्ञानिक इन्हें बनाने में लगे हैं

1 min read
Nandan
April 2020

क्या होगा जब सोचने-समझने लगेंगी मशीनें

आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस शब्द का पहली बार प्रयोग जॉन मैकार्थी ने 1955 में किया था। तुम्हें विश्वास हो या न हो, लेकिन आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) पहले से ही तुम्हारी जिंदगी में मौजूद है। बस, इसके बारे में बातें अब होने लगी हैं। जिंदगी में हमारा कदम- कदम पर आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस से सामना होता है। कैसे यह हमारे जीवन का हिस्सा बन गया है, आओ जानें।

1 min read
Nandan
April 2020

कीचड़ का ज्वालामुखी यानी मड वॉल्केनो

तुमने ज्वालामुखी यानी वॉल्केनो के बारे में तो जरूर सुना होगा। पर क्या तुम्हें पता है कि दुनिया के कई देशों के साथ-साथ अपने देश में भी कुछ मड वॉल्केनो हैं, जिनमें से हर समय कीचड़ निकलता रहता है। चलो देखें कहां पर हैं ये

1 min read
Nandan
April 2020

हरी-भरी दुनिया की सैर

जैसे हम इनसानों की बस्ती में कई तरह के लोग रहते हैं । वैसे ही एक पेड़ कई तरह के जीव जंतुओं का घर होता है । इसीलिए इन पेड़ों में शाम ढले जीव जंतुओं का पूरा एक मोहल्ला मिलेगा तुम्हें । आओ चलें इस मोहल्ले की सैर पर ।

1 min read
Nandan
February 2020

सैंटा का बर्थडे

शाम ढलने लगी थी । अभिनव ने खिड़की से झांककर देखा । उसके दोस्त पार्क में इकट्ठे हो चुके थे । वह भी जल्दी से पार्क में जा पहुंचा ।

1 min read
Nandan
December 2019

होली का हुड़दंग

होली है बहुत प्यारा त्योहार। दुश्मनी भूलकर मस्तानों की टोली निकलती है सभी को इंद्रधनुषी रंगों में रंगने के लिए। सभी मिल-जुलकर खाते हैं मीठे-नमकीन पकवान । कुछ बातों को ध्यान में रखकर की जाए हंसी-ठिठोली, तो कभी रंग में भंग नहीं पड़ता।

1 min read
Nandan
March 2020

सुबह का भूला

आज पीलू गीदड़ की खुशी का ठिकाना नहीं था । उसके नाम से लॉटरी जो निकली थी। उसने अपने साथी, कालू रीछ और झबरे पिल्ले को चंपी होटल में खूब खाना खिलाया। उसने दो दिन बाद मनाए जाने वाले क्रिसमस के लिए केक के साथ मिठाइयां भी खरीदीं ।

1 min read
Nandan
December 2019

सामने वाला घर

जब सामने वाले खाली घर में सामान से भरा ट्रक आकर रुक तो पूर्वा और पूशन को ऐसा लगा, जैसे उनके घर में चोर आ गए लगभग दो सालों से सामने वाला घर खाली था। घर के बाहर बहु बड़ा लॉन था और वहां तरह-तरह के पेड़ थे।

1 min read
Nandan
February 2020

साइबर दुनिया -टेक्नो अंकल से पछो

गूगल अलर्ट कैसे सेट करे।

1 min read
Nandan
November 2019

साधु ने कहा

'चंद्रनगर के विक्रमसिंह पराक्रमी एवं उदार दिल वाले राजा थे। उनका राज्य चंद्रनगर धरती पर स्वर्ग जैसा था। प्रजा बहुत सुखी थी। किसी को कोई भी अभाव न था।

1 min read
Nandan
February 2020

सर्दी में रंग बदलती प्रकृति

वसंत ऋतु के आते ही धरती पर जैसे रंग-बिरंगे फूलों की चादर सी बिछने लगती है। महकते फूल हर किसी को अपनी ओर खींच लेते हैं। आओ जानें कि फूलों की इस मनमोहक दुनिया का क्या है जादू।

1 min read
Nandan
February 2020

सबसे महंगा क्रिसमस ट्री

क्रिसमस पर क्रिसमस ट्री सजाने का रिवाज है । लोग अपने घरों में क्रिसमस ट्री को घंटियों , टॉफी व बॉल इत्यादि से सजाते हैं ।

1 min read
Nandan
December 2019

सब ठीक ही है

तेनालीराम राजधानी से बाहर गया हुआ था । इसी बीच मौका देखकर राजपुरोहित ने राजा कृष्णदेव राय के कान भरे ,

1 min read
Nandan
December 2019

सच्चा कलाकार

रूपसेन की कला और उसकी होशियारी

1 min read
Nandan
November 2019

वे दिन, वे रातें

मां, अपने घर के आंगन मेंक्या पहले था एक कुआं ?और रसोईघर से उठताथा क्या सचमुच कभी धुआं ?

1 min read
Nandan
January 2020

विदेशों में थियेटर करते बच्चे

विदेशों में बच्चों के बीच थियेटर का एक अलग स्थान है। वहां चार साल की उम्र से ही बच्चे थियेटर में हिस्सा लेना और थियेटर देखना शुरू कर देते हैं। वैसे जर्मनी, अमेश्का, रूस जैसे देशों में तो थियेटर स्कूल की अन्य गतिविधियों में प्रमुखता से शामिल है। कहीं पर बच्चे की छुट्टी के बाद नाटक का अभ्यास करते हैं, तो कहीं पर गर्मियों की छुटिटयों में किसी थियेटर गुप में दाखिला लेते हैं। यही वजह है कि इन देशों में पूरे साल बच्चों के लिए थियेटर फेस्टिवल चलते रहते हैं। आओ, जानते हैं कि अलग-अलग देशों में किस तरह के थियेटर बच्चों में प्रचलित हैं।

1 min read
Nandan
November 2019

लाला जलेबी वाला

लाला जी की जलेबिया और उनकी कहानियां

1 min read
Nandan
November 2019

लकी का अधिकार

झमाझम पानी दोपहर से बरस रहा था । ज्यादातर सड़कों पर गाड़ियां जगह-जगह पानी में डूबी खड़ी थीं, जिन्हें उनके ड्राइवर छोड़ गए थे।

1 min read
Nandan
December 2019

रोहन का मन

दादाजी के अस्सीवें जन्मदिन की पार्टी चल रही थी। शहर के भीतरी हिस्से में स्थित घर के खूबसूरत बगीचे में गहमा-गहमी के माहौल में दादाजी सबसे बधाइयां ले रहे थे।

1 min read
Nandan
November 2019

रुई सी बर्फ में मस्ती

सर्दी का मौसम आते ही अधिकतर जानवर ठंड के कारण परेशान हो जाते हैं। मगर कुछ जानवर ऐसे भी होते हैं, जो बर्फ का मजा लेते हैं। रुई सी नरम बर्फ उन्हें बहुत अच्छी लगती है।

1 min read
Nandan
December 2019

रंगीन हो गई होली

जैसे-जैसे होली का त्योहार नजदीक आ रहा था, चारों ओर उसी की चर्चा हो रही थी। कोई होली पर बनाए व खाए जाने वाले पकवानों की बात कर रहा था, तो कोई होली खेलते वक्त गाए जाने वाले गीतों को याद कर रहा था।

1 min read
Nandan
March 2020

रामू की बहन

उसका घर का नाम बालादत्त था। जब वह आया, तो दीपा की मां ने मुसकराकर कहा कि ऐसा नाम इस घर में नहीं चलेगा दीपा के दादा का नाम भी तो कुछ ऐसा ही था। बालगोविंद और बालादत्त में क्या फर्क है ?

1 min read
Nandan
November 2019

मेरे प्यारे सैंटा

“रिया दीदी, आप इस पेड़ को क्यों सजा रही हो ?" काम वाली बाईचंदा की आठ साल की बेटी रोशनी ने पूछा । रिया आश्चर्य से बोली, "अरे ! यह क्रिसमस ट्री है । तुम नहीं जानती क्या ?"

1 min read
Nandan
December 2019

मेरा भारत मेरी शान

दुनिया की किसी भी चीज से बड़ी होती है देश की आन-बान-शान । देश है तो हम हैं । हम सब चैन की नींद सो सकते हैं, क्योंकि देश के वीर सैनिक जागते हैं । सैनिकों को किन चुनौतियों का सामना करना पड़ता है? कुछ ऐसे सवाल हैं, जिनका जवाब किसी सैनिक से बेहतर कोई नहीं दे सकता । इन सवालों के जवाब हमने पूछे भारतीय वायुसेना के जनसंपर्क अधिकारी ग्रुप कैप्टन अनुपम बनर्जी से । आओ जानें, इस बारे में उन्होंने क्या बताया ।

1 min read
Nandan
January 2020

मुर्ग की लाल कलगी

कुकडू मुर्गा की लाल कलगी में आग है छुओगे तो जल जाओगे।

1 min read
Nandan
November 2019

बाल दिवस

बाल दिवस की तैयारिया और बच्चो का प्रतियोगिताएं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना।

1 min read
Nandan
November 2019

बहुत कुछ सिखाते हैं हमारे घर के बडे

जिन बच्चों को दादा-दादी और नाना-नानी का साथ मिलता है, वे बड़े खुशकिस्मत होते हैं। अधिकांश बच्चों को तो साल में एक-दो बार ही उनसे मिलने का मौका मिल पाता है। पर क्या तुम्हें पता है, घर के बड़ों से हम बहुत कुछ सीख सकते हैं। उनका अनुभव हमारे लिए जादू का पिटार होता है।

1 min read
Nandan
November 2019

बर्फगाड़ी

बहुत दिन हुए डेनमार्क में एक धनी जमींदार रहता था । उसकी एक बेटी थी । वह बहुत सुंदर थी । परंतु वह हर समय उदास रहती थी । उसे कभी किसी ने मुसकराते हुए नहीं देखा था । वह घंटों कमरे में अकेली बैठी रहती थी ।

1 min read
Nandan
January 2020

बडा हो गया आरव

आरव अब बड़ा हो गया है, बस दस साल की उम्र में उसने जिम्मेदारी सिख ली।

1 min read
Nandan
November 2019

फूल और पौधे भी करते हैं बातें

क्या तुम्हें पता है कि इनसानों की तरह पेड़-पौधे भी आपस में बातें करते हैं! वे हमारी बात समझ सकते हैं। पेड़-पौधों को संगीत सुनना भी पसंद है। पेड़ फूलों के माध्यम से बातचीत करते हैं। आओ, पेड़- पौधों के बीच होने वाली मजेदार बातों के बारे में जानें।

1 min read
Nandan
February 2020