कृषक खेती पाठशाला (एफ एफ एस)
Modern Kheti - Hindi|June 01, 2020
कृषक खेती पाठशाला (FFS) एक समूह-आधारित व्यस्क शिक्षा है जिसका दृष्टिकोण ये है कि कैसे किसान प्रयोग करके सीखें और अपनी समस्याओं को स्वतंत्र रूप से हल कर सकें।
सुनील कुमार, लाखन सिंह, विषय वस्तु विशेषज्ञ

कभी-कभी इसे "बिना दीवारों का स्कूल" कहा जाता है, एफएफएस समूहों में किसान नियमित रूप से मिलते हैं एक सूत्रधार के साथ, निरीक्षण, बात, प्रश्नोत्तरी और साथ में सीखने का प्रयास करते हैं। यह पहले चावल की खेती में एकीकृत कीट प्रबंधन (आईपीएम) तकनीक सिखाने के दृष्टिकोण के रूप में विकसित किया गया था। लेकिन बाद में इसे जैविक कृषि, पशुपालन और गैर-कृषि जैसे हस्तशिल्प, आय सृजन गतिविधियों में भी इस्तेमाल किया जाने लग गया है। ग्रामीण स्तर पर स्थापित कृषक खेती पाठशाला (एफएफएस) ने कृषि पारिस्थितिकी पर ज्ञान निर्माण और ज्ञान साझा करने के लिए एक मंच प्रदान किया,जहां 4-7 पड़ोसी गांवों के किसान किसी एक स्थान पर मिलते हैं, बातचीत करते हैं और समाधान प्राप्त करते हैं। वे जैव विविधता का संरक्षण करते हुए मिट्टी, पानी और पोषक तत्व प्रबंधन, बीज किस्मों, फसल की खेती, कीट नियंत्रण, चारा और चारा प्रबंधन जैसे विभिन्न विषयों पर स्वयं के हाथों से करके प्रशिक्षण के माध्यम से सीखते है। इस विधि से वैज्ञानिकों को सफलता और असफलता के कारक को समझने में मदद मिली है। बदले में, उन्होंने क्षेत्र परीक्षणों को संशोधित किया, जो अब स्थानीय संसाधनों, किसानों की क्षमता और उनकी आर्थिक स्थिति की उपलब्धता पर आधारित है।

दर्शन और सिद्धांत : एफएफएस दृष्टिकोण इस तथ्य पर आधारित है कि सबसे अच्छा सीखने बताने के बजाय करने से होता है। किसानों को अपनी खुद की खोज करने और निष्कर्ष निकालने के लिए प्रोत्साहित करता है। किसान मदद मांगने के लिए शोधकर्ताओं के साथ बातचीत करते हैं केवल तभी जब वे स्वयं किसी समस्या का समाधान नहीं कर सकते।

प्रमुख सिद्धांत

व्याख्यान करके सीखने से बेहतर है कि व्याख्यान और प्रदर्शनों पर निष्क्रिय सुनने के बजाय अनुभव के माध्यम से सीखें।

• प्रत्येक एफएफएस विशिष्ट है, जहां तक विषय का संबंध है : किसान तय करते हैं कि उचित क्या है और क्या पता होना चाहिए।

• गलतियों से सीखना-प्रत्येक व्यक्ति का अनुभव वास्तविकता के संदर्भ में विशिष्ट और मान्य है।

• सीखना कैसे सीखना है-किसान अपनी निर्णय लेने की क्षमता का निर्माण, विश्लेषण और जागरूक होना सीखते हैं।

• समस्या प्रस्तुत करने/समस्या हल करने में-समस्याओं को चुनौती के रूप में पेश किया जाता है, न कि बाधाओं के रूप में।

• किसानों के खेत सीखने के स्थान होते हैं-खेत, फसल या पशुधन उत्पादन प्रणाली मुख्य शिक्षण उपकरण है।

• विस्तार कार्यकर्ता शिक्षक नहीं बल्कि सूत्रधार हैं-क्योंकि उनकी भूमिका सीखने की प्रक्रिया का मार्गदर्शन करना है।

• एकता ताकत है-एक समूह में किसानों के पास व्यक्तिगत किसानों की तुलना में अधिक शक्ति है।

• सभी एफएफएस एक व्यवस्थित प्रशिक्षण प्रक्रिया का पालन करते हैं-प्रमुख चरण अवलोकन, समूह चर्चा, विश्लेषण, निर्णय लेने और कार्य-योजना है।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MODERN KHETI - HINDIView All

मिट्टी की उपजाऊ शक्ति बढ़ाने के लिए उगाएं हरी खाद

फसल के अच्छे अंकुरण के लिए लैंचा या सनई के बीज को लगभग 8 घंटे तक पानी में भिगो कर रखें। बिजाई से पहले हरी खाद फसल के बीज को राईजोबियम कल्चर (जीवाणु खाद) से टीकाकरण कर लें। बीज को छाया में आधे घंटे तक सूखा कर तुरंत तैयार खेत में बीज दें।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st May 2021

कैच द रैन खेत बने वाटर बैंक

प्राकृतिक जल स्रोतों को समाप्त कर मूक जानवरों एवं वनस्पति के प्रति अमानवीय हिंसा का परिचय दिया है। बून्दों को सहेजनों के अभियान की शुरुआत इन प्राचीन जल स्रोतों को खोजने एवं उन्हें पुनर्जीवित करके करना होगा।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st May 2021

फास्फेटिक और पोटैसिक खाद और उनकी विशेषताएं

फॉस्फेटिक उर्वरक : फॉस्फेट उर्वरकों में मौजूद पोषक तत्व फास्फोरस आमतौर पर फॉस्फोरिक एनहाइड्राइड या फॉस्फोरस पेंटाओक्साइड(पी 2 ओ 5) के रूप में व्यक्त किया जाता है। लॉज (1842) ने पहले रॉक फॉस्फेट और सल्फ्यूरिक एसिड से उपलब्ध फॉस्फेट तैयार किया और उत्पाद को सुपरफॉस्फेट नाम दिया।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st May 2021

कृषि निर्णय हों टैक्नोलॉजी आधारित

आमदनी में वृद्धि करने के लिए ऐसी कृषि पद्धतियां/तकनीकों को अपनाने की आवश्यकता है जिससे पर्यावरण, प्राकृतिक स्रोत व कृषि उत्पादों का उचित प्रयोग होने के साथ-साथ कृषि आमदनी में भी वृद्धि की जा सके। ऐसी अनेक हाईटैक तकनीकें आ गई हैं जिनके प्रयोग से कृषि लागतों को कम किया जा सकता है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st May 2021

संरक्षित खेती समय की मांग

आज सारी दुनिया में जलवायु परिवर्तन को लेकर चर्चायें हो रही हैं और आज सब लोग यह मान रहे हैं कि मौसम में बड़ी तेजी से बदलाव आ रहा है और साथ ही हम लोगों की खाने की आदतें भी बदलती जा रही हैं। पहले हम मौसम के हिसाब से खान पान करते थे परन्तु अब हम हर सब्जियाँ पूरे वर्ष खाना पसंद करते हैं। चाहे कोई भी मौसम हो। जैसे टमाटर, धनियाँ पूरे वर्ष चाहिएं इत्यादि। ऐसे में ताजा बेमौसमी सब्जियाँ पैदा करने का एक ही तरीका है वह है संरक्षित खेती।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st May 2021

बदलते परिवेश में लाभदायक धान की सीधी बिजाई

धान की सीधी बिजाई हेतु उल्टे टी-प्रकार के फाले एवं तिरछी प्लेट युक्त बीज बक्से वाली बीज एवं उर्वरक जीरो-टिल ड्रिल का प्रयोग करना चाहिए। बुवाई करने से पूर्व ड्रिल मशीन का अंशशोधन कर लेना चाहिए जिससे बीज एवं खाद निर्धारित मात्रा एक कप से एवं गहराई में पड़े।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th April 2021

कैसे करें गाजर घास का एकीकृत नियंत्रण

खरपतवार वह अनावश्यक पौधे होते हैं जो कि आमतौर पर वहाँ उगते हैं जहाँ उनकी आवश्यकता नहीं होती हैं। खरपतवार न केवल फसलों को क्षति पहुँचाते हैं अपितु उपजाऊ भूमि को बेकार भूमि में तब्दील कर देते हैं। इसके अतिरिक्त खरपतवार वन, घास के मैदान, तालाबों, नदियों, झीलों जैसे महत्वपूर्ण पारिस्थितिकी की जैव-विविधता को भी प्रभावित करते हैं।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th April 2021

फसलों की बिक्री के लिए एम.एस.पी.का महत्व

किसानों की माँग है कि फसलों की एम. एस. पी. एवं खरीद की कानूनी गारंटी दी जाये। 10 फरवरी 2021 को लोग सभा में भाषण देते समय प्रधानमंत्री जी ने कहा "एम. एस. पी.थी, एम. एस. पी. है और एम. एस. पी.रहेगी।" इस बयान से यह भ्रम पैदा होता है कि किसानों की माँग शायद फिजूल है। प्रश्न एम. एस. पी. रहने का नहीं। असली मुद्दा एम.एस.पी. का लाभदायक होना एवं एम. एस. पी. पर फसलों की खरीद यकीनन बनाना है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th April 2021

अन्नदाता होने का अर्थ संविधान से सर्वोपरि कतई नहीं है

निश्चित अन्नदाता धरती का पालनहार है। किसान के पसीने से उपजी फसल ही धरती के जीवन के लिये आहार प्रदान करती है। इसलिये बेदों से लेकर आधुनिक समाज में उसे धरतीपुत्र सहित अनेकों सम्मान जनक शब्दों से संबोधित किया जाता है। बावजूद इसके आजादी के बाद से ही भारत में कृषि का पेशा अभावों से भरा रहा है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th April 2021

हरे चारे का संरक्षण कैसे करें?

साल के कुछ महीनों में उपयुक्त जलवायु के अनुसार हरा चारा काफी मात्रा में उपलब्ध रहता है। परन्तु कुछ महीनों, विशेषकर नवम्बर-दिसम्बर तथा अप्रैल-जून के महीनों, में हरे चारे की किल्लत रहती है। अत: यदि अधिकता वाले मौसम में हरे चारे का संरक्षण कर लिया जाये तो कमी वाले समय में भी पशुओं को हरा-चारा उपलब्ध हो सकता है और दूध उत्पादन का स्तर बना रह सकता है। हरे चारे का संरक्षण दो विधियों से किया जा सकता है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th April 2021