सरसों एवं राई की उन्नतशील खेती
Modern Kheti - Hindi|January 16, 2020
सरसों एवं राई के फसलों के लिए शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है। इसकी वानस्पतिक वृद्धि के लिए मृदा में पर्याप्त नमी की आवश्यकता पड़ती है और पकते समय सूखे मौसम की आवश्यकता होती है।

राई-सरसों का रबी तिलहनी फसलों में प्रमुख स्थान है । प्रदेश में अनेक प्रयासों के बाद भी राई सरसों क्षेत्रफल में विशेष वृद्धि नहीं हो पा रही है । इसका प्रमुख कारण है कि सिंचित क्षेत्र में वृद्धि के अन्य महत्वपूर्ण फसलों के क्षेत्रफल का बढ़ना है । क्योंकि ये खाद्य तेल का प्रमुख स्रोत है । तिलहनी फसलों में मूंगफली के बाद इसका मुख्य स्थान है । सरसों एवं राई में प्राय : तेल की प्रतिशत मात्रा 35 48 प्रतिशत होती है । इसके तेल का उपयोग खाने के अतिरिक्त जलाने, शरीर की मालिश, चमड़े उद्योग तथा ग्रीस, साबुन एवं रबड़ के समान के निर्माण में किया जाता है । इसकी खली पशुओं को खिलाने तथा खाद के काम में लाई जाती है । क्योंकि इनकी खली में 5. 2 प्रतिशत नाइट्रोजन, 1. 7 प्रतिशत फास्फोर्स तथा 1. 1 प्रतिशत पोटाश की मात्रा होती है । सरसों एवं राई के के रूप में खिलाए जाते हैं अर्थात इसके हरे पौधे से लेकर सूखे तने, बीज आदि सभी मानव के लिए उपयोगी है ।

जलवायु : सरसों एवं राई के फसलों के लिए शुष्क जलवायु की आवश्यकता होती है । इसकी वानस्पतिक वृद्धि के लिए मृदा में पर्याप्त नमी की आवश्यकता पड़ती है और पकते समय सूखे मौसम की आवश्यकता होती है । पौधों में फूल आने और बीज पड़ने के समय बादल और कोहरे भरे मौसम से फसल जीवन में है और ऐसे पर बुरा प्रभाव पड़ता कीड़ों और बीमारियों का प्रकोप बढ़ जाता है । पाले से उपज को बहुत अधिक हानि पहुंचती है जिससे फलियों के अंदर ही बीज नहीं बनते ।

भूमि : सरसों एवं राई को बलुई दोमट भूमि से लेकर मटियार भूमि में उगाया जा सकता है ।

सरसों एवं राई की उन्नतशील खेती और किस्में :

पसा कल्याणी : यह किस्म 130 140 दिन में पककर तैयार हो जाती है । 1 हैक से लगभग 13 15 क्विंटल पैदावार मिल जाती है ।

वी. एस. : इसकी फसल 120-130 दिन में पककर तैयार हो जाती है और प्रत्येक पौधों में 8-10 शाखाएं होती हैं । 1 हैक से लगभग 12-15 क्विंटल पैदावार मिल जाती है ।

वी. एस. एच : यह किस्म लगभग 130-140 दिन में पककर तैयार हो जाती है इसके दाने मध्यम आकार के भूरे रंग के होते हैं । 1 हैक से लगभग 16-20 क्विंटल पैदावार मिल जाती है ।

टाइप 42 : यह किस्म 125-130 दिन पककर तैयार हो जाती है । इसके दाने मध्यम आकार के पीले रंग के होते हैं । 1 हैक से लगभग 12-15 क्विंटल पैदावार मिल जाती है । में लगभग 135 145 दिन टाइप 151 : यह पकती है । इसके दाने आकार में बड़े होते हैं । 1 हैक से लगभग 13 15 क्विंटल पैदावार मिल जाती है । इस किस्म को गेहूं और जौ के साथ मिलवा फसल के रूप में भी उगाया जा सकता है ।

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM MODERN KHETI - HINDIView All

डेयरी पशुओं को खरीदते समय प्रजनन जांच जरूरी क्यों?

कई बार तो ऐसी स्थिति हो जाती है कि पशुपालक मंडी में से पशु को गाभिन समझ कर खरीद कर ले आते हैं, घर में नए आए पशु के पोषण का उचित ध्यान भी रखा जाता है, प्रबंधन में कोई कमी नहीं रखी जाती, पर पशु ब्याहता नहीं है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st January 2021

कृषि में साइट-विशिष्ट पोषक तत्व प्रबंधन का महत्व

किसान अकसर उर्वरक को एक दर एवं एक समय पर फसलों में डालते हैं जो कि उनकी फसल की जरूरतों के अनुरूप नहीं होता है साइटविशिष्ट पोषक तत्व प्रबंधन उन सिद्धांतों और दिशानिर्देशों को प्रदान करता है

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st January 2021

संघर्ष 'अन्नदाता' के अधिकारों का...

संघर्ष 'अन्नदाता' के अधिकारों का...

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st January 2021

किसान संघर्ष एक नये युग का आगाज

कृषि कानूनों को रद्द करवाने के लिए शुरु हुआ किसान संघर्ष आज आंदोलन का एक रुप धार चुका है। युवक, बच्चे एवं बुजुर्ग काबिल-ए-तारीफ ढंग से दिल्ली में अपनी आवाज़ पहुंचाने में सफल हुए हैं।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th December 2020

कृषि अध्यादेश बनाम किसान

अंकित यादव (शोध छात्र), देवेन्द्र सिंह (असि. प्रो.), अंशुल सिंह (शोध छात्र), सत्यवीर सिंह (शोध छात्र ), चंद्रशेखर आजाद

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th December 2020

मटर की फसल में करें कीटों की रोकथाम

मटर एक महत्वपूर्ण सब्जी की फसल है। इसे रबी में उगाया जाता है व इसका प्रयोग ताजा, डिब्बाबंद व सूखी मटर में किया जाता है। इसमें प्रचूर मात्रा में प्रोटीन, फास्फोर्स, कार्बोहाइड्रेट, पोटाशियम एवं विटामिन पाए जाते हैं।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th December 2020

गेहूं की फसल में गुल्ली डंडे या कनकी का नियंत्रण कैसे करें?

खरपतवारों को उगने से रोकने के लिए बिजाई के तुरंत बाद खरपतवारनाशियों का प्रयोग करें। उगे हुए खरपतवारों का नष्ट करने के लिए जब वे 2-3 पत्तों की अवस्था में हो तब खरपतवारनाशियों का प्रयोग करें। यदि खरपतवार बड़े हो जाएं तो उनका नियंत्रण खरपतवारनाशियों द्वारा करना मुश्किल हो जाता है क्योंकि उनमें सहन शक्ति बढ़ जाती है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th December 2020

सर्दियों में दुधारू पशुओं की देखभाल

पशुओं को ठंड से बचाव के लिए पशुओं को ढकी हुई पशुशाला में रखें। पशुशाला के दरवाजों तथा खिड़कियों को मोटी तरपाल या टाट से बंद रखें ताकि पशुओं को लगने वाली सीधी ठंडी हवाओं से बचाया जा सके। यह ध्यान रखें कि पशुशाला में घुटन न हो। शैड से हवा आर-पार होने की व्यवस्था होनी चाहिए, नहीं तो अमोनिया गैस बनने से पशुओं का दम घुटने की समस्या आ सकती है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
15th December 2020

मधुमक्खी पालन हेतु आवश्यक सामग्री एवं उपकरण

मंडल की खरीद के बाद उसको छतों सहित मधु पेटिका से वाहक पेटिका में रखा जाता है। इसके लाने-ले जाने में बड़ी सुविधा होती है। वाहक पेटिका की लंबाई, चौड़ाई तथा ऊंचाई मधु पेटिका के सामान ही होती है, लेकिन इसकी मोटाई कम रखी जाती है, जिससे इसका वनज कम होता है। इसका ऊपरी ढक्कन जालीदार होता है। यह लकड़ी के फ्रेम में जाली लगाकर बनाई जाती है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st December 2020

वर्टिकल फार्मिंग आधुनिक युग की कृषि

भारत, एक कृषि प्रधान देश है, जिसकी लगभग 58% आबादी आंशिक रूप से या सीधे तौर पर कृषि पर निर्भर है अपने दैनिक खर्चों के लिए। 2050 तक 1.27 अरब से 1.73 अरब लोगों की खाद्य संबंधित समस्या को हल करना एक बड़ी चिंता बनता जा रहा है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
1st December 2020