काले गेहूं और चने की खेती
Farm and Food|November Second 2020
आज कोरोना वायरस की वजह से लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव आया है. हालात ये हैं कि कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से लोग सुबह और शाम की सैर के लिए भी घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. ऐसे में मध्यम वर्ग के साथ अफसर, डाक्टर भी परंपरागत लोकमन, शरबती गेहूं की जगह काले गेहूं की रोटियां खाना पसंद कर रहे हैं.
वेणी शंकर पटेल 'ब्रज'

बताया जाता है कि काले गेहूं की रोटियां सेहत के लिए फायदेमंद होती हैं, इसलिए काले गेहूं की मांग बाजार में बढ़ने लगी है. किसान भी इस बढ़ती मांग का फायदा उठा कर काले गेहूं की खेती कर के मुनाफा उठा सकते हैं.

वैसे तो खेती में नएनए प्रयोग करने वाले किसान काले गेहूं की फसल अपने खेतों में लेते आए हैं. नरसिंहपुर जिले के करताज गांव के किसान राकेश दुबे ने अपने कृषि फार्म पर इसी रबी मौसम में काले गेहूं की फसल तैयार की है.

उन्नत खेती कर रहे किसान राकेश दुबे बताते हैं कि सामान्य गेहूं के मुकाबले काला गेहूं महंगा बिकता है और जैविक खेती से इस का उत्पादन भी ज्यादा मिलता है. एक एकड़ खेत में 50 किलोग्राम बीज, गोबर की खाद, कृषि यंत्रों और मजदूरी मिला कर 18,000 से 20,000 रुपए का खर्चा आता है.

काला गेहूं बाजार में 8,000 हजार से 10,000 रुपए क्विटल तक बिकता है. उत्पादन भी एक एकड़ में 14 से 16 क्विटल तक मिल जाता है. किसानों के बीज भी तैयार कर रहे हैं.

मध्य प्रदेश की गाडरवारा तहसील के रंपुरा गांव के किसान नरेंद्र चौधरी 2 साल से काले गेहूं की खेती कर रहे हैं. इस बार 2 एकड़ खेत में इस को लगाया था, जिस में 32 विटवल काले गेहूं का उत्पादन किया है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM FARM AND FOODView All

मशरूम की खेती से मिली नई राह

परंपरागत तरीके से खेती करना अब मुनाफे की गारंटी नहीं है. खेती में नवाचारों के माध्यम से किसान चाहें तो आमदनी बढ़ा सकते हैं.

1 min read
Farm and Food
January First 2021

बीजोपचार रोह की स्वस्थ फसल का आधार

भारत में उगाई जाने वाली खाद्यान्न फसलों में गेहूं एक प्रमुख फसल है, जो समस्त भारत में लगभग 30.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्रफल में उगाई जाती है, जो कुल फसल क्षेत्रफल का तकरीबन 24.25 फीसदी है. फसल सत्र 2019-20 के दौरान भारत में 107.59 मिलियन टन गेहूं का उत्पादन हुआ.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

जैविक खेती से संवर रही जिंदगी

हाल ही के सालों में किसानों ने अंधाधुंध रासायनिक खादों और कीटनाशकों का इस्तेमाल कर के धरती का खूब दोहन किया है. जमीन से बहुत ज्यादा उपज लेने की होड़ के चलते खेतों की उत्पादन कूवत लगातार घट रही है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

टमाटर उत्पादन की उन्नत तकनीक

टमाटर एक महत्त्वपूर्ण सब्जी है, जिस की अगेती व देर से फसल लेने में अधिक लाभ होता है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

सेहत के लिए जरूरी सोयाबीन

प्रोटीन के अलावा सोयाबीन में तकरीबन 18 फीसदी तेल होता है, लेकिन इस तेल में कोलेस्ट्रोल नहीं होता है और इस में 85 फीसदी अनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, जो सेहत के लिए सही होते हैं. सोयाबीन के तेल में लीनो लिक और लीनो लेइक फैटी एसिड भी काफी मात्रा में होते हैं. ये दोनों ही अनसैचुरेटेड फैटी एसिड हमारी सेहत के लिए बहुत जरूरी होते हैं, क्योंकि ये हम में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करते हैं और इस में होने वाली दिल की बीमारियों को रोकते हैं.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

मौनपालन से आमदनी बढ़ाएं

मधुमक्खीपालन एक ऐसा कारोबार है, जिसे दूसरे धंधों से कम धन, कम श्रम और कम जगह पर किया जा सकता है. मधुमक्खीपालन से मौनपालकों को शहद हासिल होता है, साथ ही साथ मधुमक्खियों के जरीए परपरागण के चलते फसलों और औद्योगिक फसलों से अच्छी उपज होती है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

गन्ना शीत ऋतु में

गन्ना एक प्रमुख व्यावसायिक फसल है. विषम परिस्थितियां भी गन्ना की फसल को बहुत अधिक प्रभावित नहीं कर पाती हैं. इन्हीं विशेष कारणों से गन्ना की खेती अपनेआप में सुरक्षित व लाभ देने वाली है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

काले गेहूं और चने की खेती

आज कोरोना वायरस की वजह से लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव आया है. हालात ये हैं कि कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से लोग सुबह और शाम की सैर के लिए भी घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. ऐसे में मध्यम वर्ग के साथ अफसर, डाक्टर भी परंपरागत लोकमन, शरबती गेहूं की जगह काले गेहूं की रोटियां खाना पसंद कर रहे हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

वैज्ञानिक विधि से कैसे करें स्ट्राबैरी की खेती

स्ट्राबैरी (फ्रेगेरिया अनानासा) यूरोपियन देश का फल है. इस का पौधा छोटी बूटी के समान होता है. इस के छोटे तने से कई पत्तियां निकलती हैं. पत्तियों के निचले हिस्से से कोमल शाखाएं निकलती हैं, जिन्हें रनर्ज कहते हैं. इन रनर्ज द्वारा स्ट्राबैरी का प्रवर्धन किया जाता है.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

छोटे किसानों के लिए कारगर तिपहिया ट्रैक्टर

भारत में छोटे और मझोले किसानों में कृषि यंत्रों की कमी आज भी बड़ी समस्या है. इस कमी का एक बड़ा कारण है ट्रैक्टर और खेती में काम आने वाले यंत्रों के ऊंचे दाम. ऐसे में छोटे और मझोले किसान महंगे दामों पर किराए पर ट्रैक्टर और यंत्रों का उपयोग करने के लिए मजबूर होते हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020
RELATED STORIES

Beeline Of Tractors Bound For Delhi From All Directions

Punjabi Songs Of Protest Blared From Speakers

2 mins read
The Times of India Hyderabad
January 25, 2021

Of Tableaus & Tractors

For the first time, the usual R-Day parade in the Capital will be joined by the Kisan Gantantra Parade from three locations.

2 mins read
The Morning Standard
January 25, 2021

सुप्रीम सुनवाई: सर्वोच्च अदालत ने कहा यह कानून व्यवस्था से जुड़ा मसला ट्रैक्टर रैली को मंजूरी पर पुलिस फैसला करे:कोर्ट

समर्थन : किसान आंदोलन में महिलाओं ने संभाला मोर्चा

1 min read
Hindustan Times Hindi
January 19, 2021

STAY POSITIVE & KEEP GOING

JAGJIT SINGH MAJHA, CMD PCL HOUSING AND PRESIDENT, CREDAI PUNJAB IS A ONE MAN ARMY WHO STAY POSTIVE AND TAKE EACH DAY AS A NEW CHALLENGE

3 mins read
Urban Melange
January 2021

Teacher Of Humanity

And his son found out later.

10+ mins read
Woman's Era
January 2021

राहुल गांधी और कैप्टन अमरिंदर में फिर टकराव

किसान आंदोलन से मुसीबत तो केंद्र की मोदी सरकार की बढ़ी हुई है, लेकिन उससे भी कहीं ज्यादा परेशान पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह हैं.

1 min read
Gambhir Samachar
Jnauary 16, 2021

SOMETHING DIFFERENT

INDERJEET SINGH BANGA ON BEING HIS OWN ‘THIRD SPACE’ AND THE ART OF HOSPITALITY

2 mins read
The Morning Standard
January 17, 2021

LAW AND DISORDER

The courts step in to end the impasse between farmers and the government, but the farmers want nothing less than a repeal of the farm laws

9 mins read
India Today
January 25, 2021

Will not appear before any committee that SC may appoint, declare farmers

Farm unions opposed to the new central farm Acts on Monday welcomed the Supreme Court's suggestion to stay implementation of the laws, but said the “laws must be repealed forthwith” and made it clear that they will not participate either collectively or individually in any proceedings before a committee that may be appointed by the apex court.

2 mins read
The Times of India Mumbai
January 12, 2021

हर्ष, उमंग एवं सद्भावना का त्योहार- लोहड़ी

लोहड़ी की बात करते ही आंखों के सामने छा जाती है आग, मूंगफली और रेवड़ी की तस्वीर और साथ ही उभर आता है ढोल और भंगडे का शोर, क्यों? आइये जानते हैं।

1 min read
Sadhana Path
January 2021