वैज्ञानिक विधि से कैसे करें स्ट्राबैरी की खेती
Farm and Food|November Second 2020
स्ट्राबैरी (फ्रेगेरिया अनानासा) यूरोपियन देश का फल है. इस का पौधा छोटी बूटी के समान होता है. इस के छोटे तने से कई पत्तियां निकलती हैं. पत्तियों के निचले हिस्से से कोमल शाखाएं निकलती हैं, जिन्हें रनर्ज कहते हैं. इन रनर्ज द्वारा स्ट्राबैरी का प्रवर्धन किया जाता है.
पूनम कश्यप, आशीष कुमार, सुनील कुमार एवं पीयूष पूनिया

पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बढ़ती स्ट्राबैरी की मांग लघु व सीमांत किसानों के लिए वरदान साबित होती जा रही है. फलों का आकार व आकृति प्रजाति पर निर्भर करता है. सामान्य प्रजातियों का फल गोल से कोणाकार आकृति का होता है.

स्ट्राबैरी का फल स्वादिष्ठ और पौष्टिक होता है. इस में विटामिन ए, बी, बी-2, विटामिन सी और खनिज पदार्थों में पोटेशियम, कैल्शियम और फास्फोरस प्रचुर मात्रा में पाए जाते हैं.

जलवायु

भारत में स्ट्राबरी की खेती पहाड़ी और मैदानी क्षेत्रों में की जा रही है. मैदानी क्षेत्रों में इस की फसल सिर्फ सर्दियों में की जाती है, जिस के लिए अक्तूबर नवंबर माह में पौधे लगाए जाते हैं.

जमीन का चुनाव

इस की खेती हलकी रेतीली से ले कर दोमट चिकनी मिट्टी में की जा सकती है, परंतु दोमट मिट्टी और उचित जल निकास वाली जमीन इस के लिए उपयुक्त है.

खेत की जुताई कर के मिट्टी भुरभुरी बना ली जाती है. 60'-30' की उच्चीकृत क्यारी खेत की लंबाई के अनुरूप बना ली जाती है. गोबर की सड़ी खाद 5-10 किलोग्राम और 50 ग्राम उर्वरक मिश्रण यूरिया, सुपर फास्फेट और म्यूरेट औफ पोटाश 2:2:1 के अनुपात में दिया जाता है. यह मिश्रण साल में 2 बार मार्च व अगस्त माह में दिया जाता है.

पौधे लगाने की विधि

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM FARM AND FOODView All

मशरूम की खेती से मिली नई राह

परंपरागत तरीके से खेती करना अब मुनाफे की गारंटी नहीं है. खेती में नवाचारों के माध्यम से किसान चाहें तो आमदनी बढ़ा सकते हैं.

1 min read
Farm and Food
January First 2021

बीजोपचार रोह की स्वस्थ फसल का आधार

भारत में उगाई जाने वाली खाद्यान्न फसलों में गेहूं एक प्रमुख फसल है, जो समस्त भारत में लगभग 30.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्रफल में उगाई जाती है, जो कुल फसल क्षेत्रफल का तकरीबन 24.25 फीसदी है. फसल सत्र 2019-20 के दौरान भारत में 107.59 मिलियन टन गेहूं का उत्पादन हुआ.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

जैविक खेती से संवर रही जिंदगी

हाल ही के सालों में किसानों ने अंधाधुंध रासायनिक खादों और कीटनाशकों का इस्तेमाल कर के धरती का खूब दोहन किया है. जमीन से बहुत ज्यादा उपज लेने की होड़ के चलते खेतों की उत्पादन कूवत लगातार घट रही है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

टमाटर उत्पादन की उन्नत तकनीक

टमाटर एक महत्त्वपूर्ण सब्जी है, जिस की अगेती व देर से फसल लेने में अधिक लाभ होता है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

सेहत के लिए जरूरी सोयाबीन

प्रोटीन के अलावा सोयाबीन में तकरीबन 18 फीसदी तेल होता है, लेकिन इस तेल में कोलेस्ट्रोल नहीं होता है और इस में 85 फीसदी अनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, जो सेहत के लिए सही होते हैं. सोयाबीन के तेल में लीनो लिक और लीनो लेइक फैटी एसिड भी काफी मात्रा में होते हैं. ये दोनों ही अनसैचुरेटेड फैटी एसिड हमारी सेहत के लिए बहुत जरूरी होते हैं, क्योंकि ये हम में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करते हैं और इस में होने वाली दिल की बीमारियों को रोकते हैं.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

मौनपालन से आमदनी बढ़ाएं

मधुमक्खीपालन एक ऐसा कारोबार है, जिसे दूसरे धंधों से कम धन, कम श्रम और कम जगह पर किया जा सकता है. मधुमक्खीपालन से मौनपालकों को शहद हासिल होता है, साथ ही साथ मधुमक्खियों के जरीए परपरागण के चलते फसलों और औद्योगिक फसलों से अच्छी उपज होती है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

गन्ना शीत ऋतु में

गन्ना एक प्रमुख व्यावसायिक फसल है. विषम परिस्थितियां भी गन्ना की फसल को बहुत अधिक प्रभावित नहीं कर पाती हैं. इन्हीं विशेष कारणों से गन्ना की खेती अपनेआप में सुरक्षित व लाभ देने वाली है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

काले गेहूं और चने की खेती

आज कोरोना वायरस की वजह से लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव आया है. हालात ये हैं कि कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से लोग सुबह और शाम की सैर के लिए भी घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. ऐसे में मध्यम वर्ग के साथ अफसर, डाक्टर भी परंपरागत लोकमन, शरबती गेहूं की जगह काले गेहूं की रोटियां खाना पसंद कर रहे हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

वैज्ञानिक विधि से कैसे करें स्ट्राबैरी की खेती

स्ट्राबैरी (फ्रेगेरिया अनानासा) यूरोपियन देश का फल है. इस का पौधा छोटी बूटी के समान होता है. इस के छोटे तने से कई पत्तियां निकलती हैं. पत्तियों के निचले हिस्से से कोमल शाखाएं निकलती हैं, जिन्हें रनर्ज कहते हैं. इन रनर्ज द्वारा स्ट्राबैरी का प्रवर्धन किया जाता है.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

छोटे किसानों के लिए कारगर तिपहिया ट्रैक्टर

भारत में छोटे और मझोले किसानों में कृषि यंत्रों की कमी आज भी बड़ी समस्या है. इस कमी का एक बड़ा कारण है ट्रैक्टर और खेती में काम आने वाले यंत्रों के ऊंचे दाम. ऐसे में छोटे और मझोले किसान महंगे दामों पर किराए पर ट्रैक्टर और यंत्रों का उपयोग करने के लिए मजबूर होते हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020
RELATED STORIES

हरे चारे के लिए जई की खेती

पशुओं के लिए पर्याप्त गुणवत्ता युक्त हरा चारा उपलब्ध न होने की वजह से उनकी उत्पादकता पर विपरीत प्रभाव पड़ रहा है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
September 15, 2020

युवाओं में बढ़ता जंक फूड्स का क्रेज

कई लोग नाश्ता नहीं करते, काफी सारे फास्ट फूड्स या जंक फूड्स रवाते हैं और बड़े पैमाने पर सप्लीमेंट फूड्स पर ही रहते हैं। ऐसा देखा गया है कि टीनएजर्स ऐसा ज्यादा स्वतंत्र महसूस करने के लिए करते हैं या फिर अपने पैसे से अपनी आजादी का प्रदर्शन करना चाहते हैं।

1 min read
Grehlakshmi
August 2020

पौष्टिकता से भरपूर सेंजना की खेती किसान के लिए मुनाफे का सौदा

सहजन, ड्रमस्टिक, मुनगा, सहिजन, सेंजना, मुरिंगा, गठीगना, सिंहफली आदि नामों से जाना जाता है। यह किसानों के लिए एक बहुवर्षीय सब्जी देने वाला जाना-पहचाना पौधा है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
July 15, 2020

बदलती जनसंख्या के परिदृश्य में मशरूम की खेती का महत्व

पिछले कुछ वर्षों में भारतीय बाजार में मशरूम की मांग तेजी से बढ़ी है, जिस हिसाब से बाजार में इसकी मांग है, उस हिसाब से अभी तक इसका उत्पादन नहीं हो रहा है, ऐसे में किसान मशरूम की खेती कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं। इसे देखते हुए मशरूम के बड़े पैमाने पर उत्पादन की आवश्यकता है।

1 min read
Modern Kheti - Hindi
April 01, 2020

पौष्टिक एवं संतुलित आहार से पाएं दीर्घायु

तन स्वस्थ तो मन भी स्वस्थ । और यह तभी संभव है जब व्यक्ति को पौष्टिक तथा संतुलित भोजन मिले।

1 min read
Sadhana Path
November 2019

कामकाजी व्यक्तियों का आहार कैसा हो?

रोजमरा की ज़िन्दगी में कामकाजी व्यक्तियों का आहार क्या - क्या होना चाहिए और कैसा ?

1 min read
Yogya Aarogya
October - November 2019

आचार्य खिचड़ी

स्वाद की दुनिया से आचार्य खिचड़ी

1 min read
Yogya Aarogya
December 2019

क्या आप भी ऐसे खाते हैं सलाद? नहीं होगा कोई लाभ

यदि देखा जाए तो हेल्दी फूड में सबसे अधिक डिमांड सलाद की ही होती है । लोगों का मानना है कि कि सलाद सलाद ज़रूर खाना चाहिए । वैसे इसमें कोई दोराय नहीं हेल्दी खाएं ना खाएं कुछ और सेहत के लिए अच्छी होती है । लेकिन इसे कब और कैसे खाया जाना चाहिए ये ज़रूरी होता है । ये बहुत आवश्यक है कि आपको फ्रेश वेजिटेबल्स का उपयोग ही सलाद में करना चाहिए । इसके अलावा चाट मसाला या इसी तरह की सलाद ड्रेसिंग से भी दूर रहना चाहिए । साथ ही फ्रूट सलाद और स्प्राउट्स सलाद को खाने में भी कुछ नियम जुड़े होते हैं । एक बात आपको और भी ध्यान रखना चाहिए कि आप सेंधा नमक का ही उपयोग करें । सामान्य नमक के मुकाबले सेंधा नमक ज़्यादा अच्छा होता है । लोगों को इस बात को लेकर भी असमंजस हो सकता है कि सलाद को सुबह खाएं या रात को? आपको सलाद खाने के पहले खाना चाहिए या खाने के बाद इस बारे में भी जानकारी होना चाहिए । चलिए आपको सलाद से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य बताते हैं...

1 min read
VamaToday
January-February 2020, Stri Sanwad Parishisht

सलाद से लगाएं स्वाद का तड़का

सलाद पौष्टिक आहार का जरूरी हिस्सा है, जिसके जरिए बॉडी को फाइबर्स और पोषक तत्व मिलते हैं। वहीं सलाद में कुछ सब्जियों को मिलाकर इसका स्वाद बढ़ाया जा सकता है।

1 min read
Grehlakshmi
March 2020