बिहारी किसानों के लिए सोलर सिंचाई पंप बड़े काम का
Farm and Food|October Second 2020
किसी भी फसल का उत्पादन उस को समय से दी जाने वाली सिंचाई पर निर्भर करता है. किसान भले ही खेती में उन्नत बीज और तकनीकी का प्रयोग कर लें, लेकिन फसल की सिंचाई समय पर न की जाए, तो फसल के पूरी तरह से नष्ट होने का खतरा बना रहता है.
बृहस्पति कुमार पांडेय

खेती में जिस तरह दिनोंदिन लागत बढ़ रही है, उसी तरह से खेती में आने वाली सिंचाई की लागत भी बढ़ी है जहां डीजल की कीमतें आसमान छू रही हैं वहीं बिजली बिल की बढ़ी कीमतें भी सिंचाई लागत बढ़ने का कारण बनी हैं.

इस के साथ ही सिंचाई के लिए उपयोग में लाए जाने वाले डीजल इंजन व बिजली मीटर के रखरखाव व मेंटेनेंस पर अलग से खर्च करना पड़ता है. ऐसे में किसानों को फसल की सिंचाई के लिए वैकल्पिक साधनों के उपयोग की तरफ कदम बढ़ाने की ज्यादा जरूरत है.

बिहार भूजल के मामले में एक धनी राज्य है, फिर भी इतनी विशाल उपलब्धता के बावजूद पानी का उपयोग सिंचाई और घरेलू खपत के लिए निर्मित बुनियादी ढांचे की लागत पर निर्भर करता है. यहां आज भी पारंपरिक रूप से ज्यादातर हिस्से में डीजल आधारित पंप सैटों से ही सिंचाई की जाती है. ऐसी स्थिति में एक डीजल पंप संचालक किसानों से किराए के रूप में 180 रुपए प्रति घंटे तक ले लेता है.

यह प्रति घंटे सिंचाई की लागत दर भी भौगोलिक बनावट और मौसम के हिसाब से बदलती रहती है. यहां ज्यादातर बोरिंग उथले पानी की सतह में स्थापित किए जाते हैं, इसलिए गरमी के मौसम में पानी की उपलब्धता कम हो पाती है. सामाजिक, आर्थिक स्थितियों, जलवायु परिस्थितियों और छोटे किसानों की सीमाओं को ध्यान में रखते हुए सिंचाई के लिए ऊर्जा के अपरंपरागत स्त्रोत अधिक विश्वसनीय हैं.

यह कहा जा सकता है कि ऊर्जा की कमी और डीजल पंप की उच्च लागत के कारण किसानों को सौर ऊर्जा के साथ जाने की जरूरत है, जो विश्वसनीय और जरूरत के अनुसार उपयोग करने के लिए ज्यादा फायदेमंद है.

फसल सिंचाई की लागत में कमी लाने के लिए बिहार के कुछ जिलों में किसानों ने ऐसे ही वैकल्पिक साधनों का उपयोग शुरू किया है, जिन के जरीए पूरे गांव के किसान बेहद ही कम लागत में अपने खेतों की सिंचाई कर पाने में कामयाब हुए हैं.

यह पहल आगा खान ग्राम समर्थन कार्यक्रम-भारत के द्वारा कुछ राष्ट्रीय एवं अंतर्राष्ट्रीय संस्थाओं जौन डियर, एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक और गोदरेज के वित्तीय सहयोग से की गई है.

इन संस्थाओं के सहयोग से बिहार के मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर, वैशाली व दरभंगा जिलों में प्रोग्राम के जरीए खेतीबारी को बढ़ावा देने के लिए सामूहिक सोलर सिंचाई योजना की स्थापना की गई है.

इस कार्यक्रम से जुड़े बिहार प्रदेश के रीजनल मैनेजर सुनील कुमार पांडेय ने बताया कि बिहार में समृद्ध भूजल संसाधन हैं. इतने विशाल जल संसाधन की उपलब्धता के बावजूद भी सिंचाई के लिए पानी का सही उपयोग नहीं हो पाता है.

Continue reading your story on the app

Continue reading your story in the magazine

MORE STORIES FROM FARM AND FOODView All

मशरूम की खेती से मिली नई राह

परंपरागत तरीके से खेती करना अब मुनाफे की गारंटी नहीं है. खेती में नवाचारों के माध्यम से किसान चाहें तो आमदनी बढ़ा सकते हैं.

1 min read
Farm and Food
January First 2021

बीजोपचार रोह की स्वस्थ फसल का आधार

भारत में उगाई जाने वाली खाद्यान्न फसलों में गेहूं एक प्रमुख फसल है, जो समस्त भारत में लगभग 30.31 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्रफल में उगाई जाती है, जो कुल फसल क्षेत्रफल का तकरीबन 24.25 फीसदी है. फसल सत्र 2019-20 के दौरान भारत में 107.59 मिलियन टन गेहूं का उत्पादन हुआ.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

जैविक खेती से संवर रही जिंदगी

हाल ही के सालों में किसानों ने अंधाधुंध रासायनिक खादों और कीटनाशकों का इस्तेमाल कर के धरती का खूब दोहन किया है. जमीन से बहुत ज्यादा उपज लेने की होड़ के चलते खेतों की उत्पादन कूवत लगातार घट रही है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

टमाटर उत्पादन की उन्नत तकनीक

टमाटर एक महत्त्वपूर्ण सब्जी है, जिस की अगेती व देर से फसल लेने में अधिक लाभ होता है.

1 min read
Farm and Food
December Second 2020

सेहत के लिए जरूरी सोयाबीन

प्रोटीन के अलावा सोयाबीन में तकरीबन 18 फीसदी तेल होता है, लेकिन इस तेल में कोलेस्ट्रोल नहीं होता है और इस में 85 फीसदी अनसैचुरेटेड फैटी एसिड होते हैं, जो सेहत के लिए सही होते हैं. सोयाबीन के तेल में लीनो लिक और लीनो लेइक फैटी एसिड भी काफी मात्रा में होते हैं. ये दोनों ही अनसैचुरेटेड फैटी एसिड हमारी सेहत के लिए बहुत जरूरी होते हैं, क्योंकि ये हम में कोलेस्ट्रोल की मात्रा को कम करते हैं और इस में होने वाली दिल की बीमारियों को रोकते हैं.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

मौनपालन से आमदनी बढ़ाएं

मधुमक्खीपालन एक ऐसा कारोबार है, जिसे दूसरे धंधों से कम धन, कम श्रम और कम जगह पर किया जा सकता है. मधुमक्खीपालन से मौनपालकों को शहद हासिल होता है, साथ ही साथ मधुमक्खियों के जरीए परपरागण के चलते फसलों और औद्योगिक फसलों से अच्छी उपज होती है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

गन्ना शीत ऋतु में

गन्ना एक प्रमुख व्यावसायिक फसल है. विषम परिस्थितियां भी गन्ना की फसल को बहुत अधिक प्रभावित नहीं कर पाती हैं. इन्हीं विशेष कारणों से गन्ना की खेती अपनेआप में सुरक्षित व लाभ देने वाली है.

1 min read
Farm and Food
December First 2020

काले गेहूं और चने की खेती

आज कोरोना वायरस की वजह से लोगों की जीवनशैली में काफी बदलाव आया है. हालात ये हैं कि कोरोना वायरस के संक्रमण के डर से लोग सुबह और शाम की सैर के लिए भी घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं. ऐसे में मध्यम वर्ग के साथ अफसर, डाक्टर भी परंपरागत लोकमन, शरबती गेहूं की जगह काले गेहूं की रोटियां खाना पसंद कर रहे हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

वैज्ञानिक विधि से कैसे करें स्ट्राबैरी की खेती

स्ट्राबैरी (फ्रेगेरिया अनानासा) यूरोपियन देश का फल है. इस का पौधा छोटी बूटी के समान होता है. इस के छोटे तने से कई पत्तियां निकलती हैं. पत्तियों के निचले हिस्से से कोमल शाखाएं निकलती हैं, जिन्हें रनर्ज कहते हैं. इन रनर्ज द्वारा स्ट्राबैरी का प्रवर्धन किया जाता है.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020

छोटे किसानों के लिए कारगर तिपहिया ट्रैक्टर

भारत में छोटे और मझोले किसानों में कृषि यंत्रों की कमी आज भी बड़ी समस्या है. इस कमी का एक बड़ा कारण है ट्रैक्टर और खेती में काम आने वाले यंत्रों के ऊंचे दाम. ऐसे में छोटे और मझोले किसान महंगे दामों पर किराए पर ट्रैक्टर और यंत्रों का उपयोग करने के लिए मजबूर होते हैं.

1 min read
Farm and Food
November Second 2020
RELATED STORIES

Beyond Organic: Buy Regenerative!

Improving soil health is an overlooked key for nutrient-dense food and a healthier planet. We can support farming that has this focus through the products we purchase.

7 mins read
Better Nutrition
January 2021

A Good Egg

For building a kinder, more sustainable hen-laying ecosystem.

5 mins read
Inc.
Winter 2020 - 2021

Smart Farming: The Growing Role of Precision Agriculture and Biotech

Efficiency and sustainabiility go hand-in-hand, with an added bonus: farmers improve crop yields

5 mins read
Fast Company
Winter 2020/2021

An Art Essay Expressions - PART 2

In this delightful interview and art essay, BHAMINI SHREE shares her journey of expression through painting with MEGHANA ANAND. Through art, gradually she was able to manage her depression, expand her self expression, and also develop her art as a career. In part 2, Bhamini tells us more about Madhubani Folk Art.

6 mins read
Heartfulness eMagazine
June 2020

Expressions

In this delightful interview, BHAMINI SHREE shares her journey of expression through painting – both Madhubani folk art and abstract painting – with MEGHANA ANAND. Through art, gradually she was able to manage her depression, expand her self-expression, and also develop her art as a career.

6 mins read
Heartfulness eMagazine
April 2020

Prairie Dogs

A traditionally low-end meat gets the gourmet treatment at this McClain County ranch.

3 mins read
Oklahoma Today
March/April 2020

RATNALAYA JEWELLERS Makes Luxury Jewellery Affordable, Fashionable & Accessible!

The customers will find deluxe, desirable, value-added and effortlessly reachable jewellery at affordable price points under one roof at the RATNALAYA JEWELLERS‘ New Jewellery Store at Kankarbagh, Patna, Bihar

3 mins read
The Retail Jeweller
November - December 2020

No End To Farm Stir, March To Parl On Feb 1

Farmer unions say those attending tractor rally on Republic Day will march on foot to House on Union Budget Day

3 mins read
The Morning Standard
January 26, 2021

निर्णयःपरेड के बाद ट्रैक्टर मार्च निकालेंगे किसान

• प्रदर्शनकारी किसानों और पुलिस के बीच शनिवार को चार घंटे तक चली मैराथन बैठक • पुलिस ने वर्तमान रूट के 80% मार्गों को मंजूरी दी

1 min read
Hindustan Times Hindi
January 24, 2021

बैठक टली, अब कल होगी केंद्र और किसानों के बीच दसवें दौर की बैठक

नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनकारी किसान संगठनों और सरकार के बीच दसवें दौर की वार्ता अब 20 जनवरी को होगी। केंद्र ने कहा है कि दोनों पक्ष जल्द से जल्द गतिरोध सुलझाना चाहते हैं लेकिन अलग विचारधारा के लोगों की संलिप्तता की वजह से इसमें देरी हो रही है।

1 min read
Samagya
January 19, 2021