शोक का कारण व उसके नाश का उपाय

Rishi Prasad Hindi|January 2020

शोक का कारण व उसके नाश का उपाय
राग, द्वेष, भय, शोक, चिंता आदि सब देहाध्यास के कारण ही होते हैं ।

कोई नहीं चाहता है कि वह शोकग्रस्त हो लेकिन प्रायः देखा जाता है कि लोग छोटी-छोटी बातों में शोक से बड़े संतप्त हो उठते हैं । तो शोक से बचने के लिए क्या उपाय किया जाय ? इस संदर्भ में महाभारत के शांति पर्व में भीष्म पितामह और धर्मराज युधिष्ठिर का बड़ा ही ज्ञानप्रद व शोकनाशक संवाद आता है।

धर्मराज युधिष्ठिर ने पितामह भीष्मजी से पूछा : "दादाजी ! धन के नष्ट हो जाने तथा पत्नी, पुत्र या पिता के मर जाने पर जिस विचार से शोक दूर हो सकता है, वह क्या है ? वर्णन करने की कृपा करें।"

भीष्मजी बोले : "बेटा ! जब ऐसी कोई दुःखदायी परिस्थिति आये तो 'ओह ! संसार कैसा दुःखमय है !' यह सोचकर शोक को दूर करने का प्रयत्न करे । इस विषय में उदाहरणरूप से यह पुरातन इतिहास प्रसिद्ध है।

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

January 2020