कम करो चीन पर निर्भरता

Haribhoomi Delhi|July 09, 2020

कम करो चीन पर निर्भरता
जब चीन भारतीय बाजारों में अपना घटिया सामान भरने लगा था, तभी ही हमें समझ जाना चाहिए था। पर हम नहीं सुधरे। यह काम सिर्फ सरकार को ही नहीं करना था। इसे सारे देश को करना था। भारत-चीन के बीच दोतरफा व्यापार लगभग 100 अरब रुपये का है। यह लगभग पूरी तरह से चीन के पक्ष में है। धूर्त चीन के साथ हम इतने बड़े स्तर का आपसी व्यापार नहीं कर सकते। उसी क्रम में एक रास्ता यह है कि हम उससे होने वाला आयात बंद करें।
आर.के. सिन्हा

चीन से सीमा पर भीषण झड़प के बाद से देश में एक माहौल बन रहा है कि अब अपने शत्रु देश चीन से आयात बंद किया जाए। चीन पर निर्भरता खत्म की जाए। यह बात दीगर है कि कुछ निराशावादियों को लगता है कि यह मुमकिन ही नहीं है। ये अपने पक्ष तमाम कमजोर तर्क और कुतर्क देने लगते हैं। इन्हें देश के आत्मसम्मान से वैसे भी कोई लेना देना नहीं है। और तो और इन्हें नहीं पता है कि सरकार और निजी क्षेत्र अपने स्तर पर चीन का बहिष्कार करने के लिए भरसक प्रयासों में भी लगे हैं। पहले बात करते हैं देश की सड़क परियोजनाओं की। सरकार की सड़कों को बनाने के लिए अब ऐसी किसी भी कंपनी को ठेका नहीं दिया जाएगा जिनकी साझेदार कोई चीनी कंपनी है।

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

July 09, 2020

MORE STORIES FROM HARIBHOOMI DELHIView All