लोकप्रिय ऐप 'मित्रों' आपका सच्चा साथी नहीं!

Business Standard - Hindi|June 3, 2020

लोकप्रिय ऐप 'मित्रों' आपका सच्चा साथी नहीं!
भारत में उत्पाद, समाधान तथा सेवाओं को बेचने के लिए देशभक्ति या स्वदेशी तरीकों को अतीत में भी अनेक बार इस्तेमाल किया जा चुका है लेकिन शायद ही किसी को इतनी सफलता मिली हो, जितना कि एक महीने से भी कम पुराने ऐप 'मित्रों' को मिली है। हालांकि मंगलवार को इसे गूगल द्वारा प्ले स्टोर से हटा दिया गया।
नेहा अलावधी

अप्रैल 2020 में लॉन्च हुए इस ऐप को 50 लाख से ज्यादा बार डाउनलोड किया जा चुका है और ऐप के निर्माता तथा मालिक दो प्रमुख चीजों का लाभ उठाने में सफल रहे। पहला, ऐप मित्रों का नाम, जो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा बोला जाने वाला लोकप्रिय शब्द है तथा इसे राष्ट्रवाद का पर्याय माना जाता है। दूसरा, चीनी ऐप टिकटॉक का विकल्प।

ऐसा बताया जा रहा है कि ऐप विकसित करने वाली टीम का नेतृत्व आईआईटी के पूर्व छात्र शिवांक अग्रवाल कर रहे हैं लेकिन काफी प्रयास करने के बाद भी उक्त व्यक्ति का पता नहीं चल सका। टीम का नाम शॉपकिलर है तथा यह छुपकर काम कर रही है।

गूगल ने अपने प्ले स्टोर से ऐप को हटाए जाने की पुष्टि कर दी है। गूगल प्ले स्टोर में 'स्पैम ऐंड मिनिमम फंक्शनलिटी पॉलिसी' है और वह दोहराव वाली सामग्री या दूसरे कारणों से ऐप को हटा सकती है। नीति उल्लंघन के उदाहरणों में किसी भी हालिया ऐप में नई सामग्री या मूल्य संवर्धन के बिना उसकी प्रतिलिपि बनाना और नए ऐप की तरह कार्यक्षमता, सामग्री एवं उपयोगकर्ता अनुभव वाला ऐप विकसित करना शामिल हैं।

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

June 3, 2020