दूसरों के सामने पत्नी का मजाक न उड़ाएं
Sarita|October First 2020
दूसरों के सामने पत्नी का मजाक न उड़ाएं
ज्यादातर पति जब अपनी पत्नियों का दूसरों के सामने मजाक उड़ाते तो इस के पीछे उन का दिल दुखाने की कोई मंशा नहीं होती है, बल्कि ऐसा वे सिर्फ हंसी में करते हैं. लेकिन धीरेधीरे यही मजाक उन र्क आदत बन जाता है और पत्नी को दंश देना शुरू कर देता है.
नसीम अंसारी कोचर

'अरे, हमारी 'हिडिम्बा' के आगे तो उस की बोलती बंद हो जाती है. आगेपीछे दुम हिलाने लगता है. लगता ही नहीं कि मेरा बौस है. 'हिडिम्बा' गरजी नहीं कि जनाब की सिट्टीपिट्टी गुम. हाहाहा..' मनोज पार्टी में अपने दोस्तों के आगे अपनी पत्नी की तारीफ कर रहा था या उस की भारीभरकम काया का मजाक उड़ा रहा था, यह बात रागिनी को समझ में नहीं आई. वह उस की बात पर न तो हंस पाई और न नाराज हो पाई. हां, अपने लिए हिडिम्बा शब्द सुन कर उस के दिल को बहुत ठेस पहुंची और पार्टी में आने का उस का सारा मजा खत्म हो गया. खाना भी उस ने बेमन से खाया और घर आ कर वह बाथरूम में बंद हो कर काफी देर तक सुबकती रही.

मनोज अकसर उस को इसी तरीके के उपनामों से पुकारता है. बच्चों के सामने भी कभी 'दारासिंह की अम्मा' कभी 'महिषासुरमर्दनी' कभी 'हिप्पोपोटैमस' कह कर आवाज लगाता है. घर के अन्य सदस्य या पड़ोसी सुन रहे हैं, इस की उसे परवा नहीं होती. मगर आज तो पार्टी में उस ने हद ही कर दी हिडिम्बा की संज्ञा दे कर. क्या सोचते होंगे उस के दोस्त रागिनी के बारे में. पार्टी से पहले ब्यूटीपार्लर जा कर सलीके से कराया गया उस का मेकअप, नया हेयरस्टाइल और उस की कांजीवरम की खूबसूरत नई साड़ी पर से हट कर लोगों का ध्यान उस की लंबीचौड़ी काया पर चला गया.

इसी लंबाई पर रीझ कर कभी मनोज ने उस से शादी की थी. बच्चे होने के बाद उस का शरीर काफी भर गया तो लंबाई के कारण वह ज्यादा भारीभरकम नजर आने लगी. शादी के बाद मनोज कैसे रागिनी को प्यार से 'रागीरागी' कह कर बुलाता था. अब तो यह नाम सुने जैसे अरसा बीत गया. कोई पिछले जन्म का नाम लगता है. सच पूछो तो अब मनोज उस के अपने नाम 'रागिनी' से भी नहीं पुकारता. बस, उस की काया को इंगित करते किसी उपनाम से ही बुलाता है. घर में रागिनी ने उस की इस हरकत का बुरा नहीं माना, हंस कर उस के मजाक को लिया, मगर आज पार्टी में जो हुआ उस से रागिनी बहुत आहत हुई.

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories, newspapers and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

October First 2020