क्यों हार जाती है हस्तियां

Outlook Hindi|July 13, 2020

क्यों हार जाती है हस्तियां
सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या से सेलिब्रिटी से लेकर आम आदमी में बढ़ रही प्रवृत्ति के मिले खतरनाक संकेत
प्रशांत श्रीवास्तव

रविवार 14 जून को जब अभिनेता सुशांत सिंह की आत्महत्या की खबर आई तो जिसने भी सुना, वह दंग रह गया। हर किसी के जेहन में बरबस कुछ सवाल आए, आखिर हुआ क्या? इस मुकाम पर पहुंचकर सुशांत ने फांसी क्यों लगाई? अभी यह सवाल लोगों के मस्तिष्क में गूंज ही रहा था कि पता चला सुशांत डिप्रेशन के शिकार थे। वे पिछले छह महीने से इसका इलाज करा रहे थे। महज 34 साल की उम्र में सुशांत का आत्महत्या करना भले ही अचरज में डालता है, लेकिन आपको जानकर आश्चर्य होगा कि देश में हर साल सबसे ज्यादा 88,000 आत्महत्या 18-45 साल (राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो के 2018 के आंकड़े) के लोग कर रहे हैं। इसी तरह दुनिया में विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, 15-29 साल के लोगों में मौत की दूसरी सबसे बड़ी वजह आत्महत्या है। रिपोर्ट बताती हैं कि हर साल दुनिया में आठ लाख लोग और भारत में 1.30 लाख लोग आत्महत्या कर रहे हैं।

सुशांत की आत्महत्या पर मासूमियत से 10 साल की अंशिका पूछती है कि अरे, उसने तो छिछोरे फिल्म में, अपने बेटे को समझाया था कि जिंदगी से हारना नहीं चाहिए, फिर उसने ऐसा क्यों किया, वह इतना फेमस था? असल में सेलिब्रिटी की आत्महत्या कोई नई बात नहीं है। सुशांत से पहले दिसंबर 2019 में कुशल पंजाबी ने 42 साल की उम्र में आत्महत्या कर ली थी। वहीं, 2018 में आध्यात्मिक गुरु भैय्यू जी महाराज ने इंदौर में खुद को गोली मारकर और साल 2016 में बालिका वधू फेम प्रत्यूषा बनर्जी ने 25 साल की उम्र में आत्महत्या का कदम उठा लिया था। भारतीय सेलेब्स द्वारा आत्महत्या करने की इस काली फेहरिस्त में जिया खान, दिव्या भारती, प्रसिद्ध फिल्म निर्देशक और प्रोड्यूसर गुरुदत्त, सिल्क स्मिता का भी नाम है।

सवाल यह भी उठता है कि क्या भारतीय सेलिब्रिटी में आत्महत्या के मामले ज्यादा हैं, तो ऐसा बिलकुल नहीं है। दुनिया भर में यह ट्रेंड बढ़ता ही जा रहा है। महज दो साल पहले (2018) तीन विश्व प्रसिद्ध सेलिब्रिटी ने आत्महत्या कर ली थी। फेमस फैशन डिजाइनर केट स्पेड, शेफ एवं टीवी होस्ट एंथोनी बॉर्डियन और फेमस डीजे अविसी ने अपना जीवन समाप्त कर लिया था। इसी कड़ी में दुनिया भर में अपनी खूबसूरती के लिए प्रसिद्ध मर्निल मुनरो और जर्मनी के तानाशाह रुडॉल्फ हिटलर के भी नाम शामिल हैं। इसी तरह फुटबाल खिलाड़ी डेल राबर्ट्स, भारतीय क्रिकेटर वी.बी. चंद्रशेखर भी आत्महत्या करने पर मजबूर हो गए। इन नामों से साफ है कि फेमस लोगों की फेहरिस्त में फिल्म कलाकार, राजनेता, आध्यात्मिक गुरु, खिलाड़ी, टीवी कलाकार, फैशन और म्यूजिक वर्ल्ड सहित सभी क्षेत्र के लोग शामिल हैं, जिनके पास शोहरत और दौलत सब-कुछ था। लेकिन फिर उन्होंने क्यों आत्महत्या का कदम उठाया? इस पर बैटर माइंड्स और माइंड स्पेशलिस्ट्स के फाउंडर और सीनियर साइकोलॉजिस्ट डॉ. अवदेश शर्मा का कहना है, "जब कोई सेलिब्रिटी आत्महत्या करता है, तो वह सबकी नजर में आ जाता है। लोगों को यह समझ में नहीं आता कि उसने ऐसा क्यों किया? क्योंकि उसके पास तो सब-कुछ है, असल में आम आदमी जिन चीजों को सब-कुछ समझता है, वह सेलिब्रिटी के लिए सब-कुछ नहीं होता है। वह जब आत्महत्या जैसा कदम उठाता है, तो दूसरी कई समस्याओं से जूझ रहा होता है। सेलिब्रिटी के बारे में एक बात समझनी बेहद जरूरी है कि वह आम आदमी की तुलना में कहीं ज्यादा दबाव में रहते हैं। उनको अपनी शोहरत को बनाए रखने का दबाव रहता है। ऐसे में, उनके डिप्रेशन में जाने का खतरा ज्यादा होता है।" विशेषज्ञों के अनुसार इसी स्थिति में उन्हें पैनिक अटैक, इनसोमनिया, हिंसात्मक प्रवृत्ति, खाने-पीने में अनियमितता जैसे असर दिखने लगते हैं। शर्मा कहते हैं "एक अहम बात जो सेलिब्रिटी के लिए परेशानी बनती है, वह उनका सार्वजनिक रूप से मीडिया और दूसरे लोगों की निगरानी में रहना। ऐसे में, वह कई बार इस दबाव को विपरीत परिस्थितियों में नहीं झेल पाते हैं।"

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

July 13, 2020