एड-टेक का जमाना
India Today Hindi|November 04, 2020
एड-टेक का जमाना
जब कोविड-19 की वजह से देशभर में लॉकडाउन लगा तो यह कहर की तरह टूटा और अर्थव्यवस्था के हर क्षेत्र में पर इसका असर हुआ. नतीजतन, मौजूदा वित्त वर्ष की पहली तिमाही में भारत की जीडीपी वृद्धि दर में 23.9 फीसद की सिकुड़न देखने को मिली.
एम.जी. अरुण

इंडियन ब्रांड इक्विटी फाउंडेशन के मुताबिक, वित्त वर्ष 2018 में अनुमानतः 91.7 अरब डॉलर (6.67 लाख करोड़ रुपए) का भारत का शिक्षा क्षेत्र भी इससे अछूता न रहा. स्कूलों और कॉलेजों के बंद होने का असर हजारों शैक्षिक संस्थानों की वित्तीय स्थिति पर पड़ा. बहरहाल, असली दुनिया के सामने दरपेश बाधाएं वर्चुअल दुनिया में शैक्षिक प्रौद्योगिकी स्टार्टअप के लिए अवसरों का भंडार साबित हुईं, जिससे उनकी सेवाओं की मांग में तेज वृद्धि दर्ज की गई. भारत का अगुआ एजुकेशन-ऐप बायजूज क्लासेज लॉकडाउन के दौरान दुनिया के 10 शीर्ष डाउनलोड होने वाले ऐप में शामिल हो गया है. मौजूदा चलन संकेत दे रहा है कि कोविड के बाद की दुनिया में डिजिटल लर्निंग शैक्षिक संस्थानों का जरूरी हिस्सा हो जाएगा और इसके मद्देनजर निवेशक इस सेक्टर पर आंखें गड़ाए बैठे हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, एड-टेक स्पेस में वेंचर कैपिटल 2020 के पहले छह महीनों में बढ़कर 79.5 करोड़ डॉलर (5,803.5 करोड़ रुपए) हो गया है जो पिछले साल इसी अवधि में 10.8 करोड़ डॉलर (788.4 करोड़ रुपए) था.

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories, newspapers and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

November 04, 2020

RELATED STORIES