2020:चुनौती देने का दम
India Today Hindi|October 28, 2020
2020:चुनौती देने का दम
विपरीत परिस्थितियों में जो विजेता बनकर उभरे वही होता है नायक. एक तो अर्थव्यवस्था पहले से ही कछुए की चाल चल रही थी कि कोविड और देशव्यापी लॉकडाउन उसके रास्ते में नए रोड़े अटकाने आ गए. सारा काम-धंधा बैठ गया और लाखों लोग बेरोजगार हो गए.
एम.जी. अरुण, उदय माहूरकर, सुहानी सिंह, श्वेता पुंज, अनिलेश एस. महाजन, रोमिता दत्ता, शेली आनंद, सोनाली आचार्जी, कौशिक डे का, अमरनाथ के. मेनन और अंशुमान तिवारी

विपरीत परिस्थितियों में जो विजेता बनकर उभरे वही होता है नायक. एक तो अर्थव्यवस्था पहले से ही कछुए की चाल चल रही थी कि कोविड और देशव्यापी लॉकडाउन उसके रास्ते में नए रोड़े अटकाने आ गए. सारा काम-धंधा बैठ गया और लाखों लोग बेरोजगार हो गए. इस वित्त वर्ष की पहली तिमाही में जीडीपी 23.9 फीसद नीचे चली गई. ऐसी विषम परिस्थितियों में हमें इस वर्ष के लिए इंडिया टुडे की रसूखदार लोगों की वार्षिक सूची तैयार करनी पड़ी. सूची में शामिल 50 शख्सियतों में एक अद्भुत विशेषता है-असाधारण समय में, असाधारण तरीके से उभरने की क्षमता.

मुकेश अंबानी या के.एम. बिड़ला जैसे कॉर्पोरेट दिग्गजों ने समय से आगे की सोचकर 2020 की चुनौतियों को ऐसे समय में मात दी है, जब नए जमाने के उद्यम पारंपरिक व्यवसायों के लिए खतरा बन रहे हैं. पेटीएम के विजय शेखर शर्मा, जोमैटो के दीपिंदर गोयल या बाइजू रवींद्रन जैसे अन्य लोग इस अवसर का उपयोग अपने व्यवसाय को बढ़ाने के लिए कर रहे हैं. अमिताभ बच्चन जैसे सुपरस्टार या टाटा सरीखे कॉर्पोरेट समूह फंड दान कर रहे हैं, जरूरतमंदों के लिए भोजन की व्यवस्था कर रहे हैं या कोविड-19 महामारी के बारे में लोगों को जागरूक करने का अभियान चला रहे हैं.

राजीव बजाज या किरण मजूमदार शॉ या प्रशांत भूषण जैसी आवाजों ने हमारी नैतिक ताकत को स्थिर बनाए रखा है. ऐसे स्त्री-पुरुषों की शक्ति केवल उनके अपने उद्देश्यों को पूरा करने का साहस नहीं देती बल्कि दूसरों के जीवन को भी राह दिखाती है. इस साल के बड़े हिस्से पर अपना साया फैलाने वाले कोविड के काले बादलों के बीच फूटती ये चमकदार किरणें ही तो हैं.

1.मुकेश अंबानी -63 वर्ष सीएमडी, रिलायंस इंडस्ट्रीज

कोई नहीं है टक्कर में

क्योंकि वे देश के सबसे धनी और प्रभावशाली व्यवसायी हैं, 88.7 अरब डॉलर (6.5 लाख करोड़ रुपए) की कुल संपत्ति के साथ फोर्ब्स इंडिया की सबसे अमीर भारतीयों की सूची में लगातार 13वें वर्ष नंबर-1 पर बने हुए हैं. उनकी संपत्ति पिछले वर्ष 73 प्रतिशत बढ़ी

क्योंकि सितंबर 2016 में लॉन्च हुआ रिलायंस जियो टेलीकॉम क्षेत्र का गेमचेंजर साबित हुआ और कमाई तथा उपभोक्ताओं की संख्या के लिहाज से देश का नंबर 1 मोबाइल दूरसंचार ऑपरेटर है. 30 जून, 2020 को उसके ग्राहकों की संख्या 39.83 करोड़ थी

क्योकि कोविड के बीच भी उन्होंने गूगल, फेसबुक और इंटेल जैसे वैश्विक निवेशकों के साथ बड़े सौदे किए और आरआइएल को जियो प्लेटफॉर्मों के जरिए भविष्य के ऐसे उद्यम में बदल दिया, जिसने इस साल मई के बाद से 1.5 लाख करोड़ रुपए से अधिक जुटाए

क्योंकि 31 मार्च तक 1.75 लाख करोड़ रु. की नकदी के साथ कारोबार को विस्तार दे रहे हैं. मई में 200 शहरों में जियोमार्ट शुरू किया. 24,713 करोड़ रु. में किशोर बियानी के फ्यूचर ग्रुप के खुदरा और थोक व्यापार का अधिग्रहण किया

इतने व्यस्त! नवीनतम हुरुन इंडिया रिच लिस्ट 2020 के अनुसार, अंबानी ने लॉकडाउन में प्रति घंटे 90 करोड़ रु. जोड़े किताबी कीड़ा: टेक्नोलॉजी और अक्षय ऊर्जा पर किताबें छानकर आरआइएल को स्वच्छ ऊर्जा में अग्रणी बनाने की जुगत में

2.कुमार मंगलम बिड़ला -53 वर्ष आदित्य बिड़ला समूह

ठोस स्तंभ

क्योंकि उन्होंने 25 साल से एक ऐसे समूह का नेतृत्व किया है जिसका वस्त्र, सीमेंट, एल्युमिनियम, कार्बन ब्लैक, टेलीकॉम और वित्तीय सेवाओं में 48.3 अरब डॉलर (3.5 लाख करोड़ रु) का कारोबार है, समूह एल्युमिनियम उत्पादन, विस्कोस स्टेपल फाइबर (कपड़े के लिए कच्ची सामग्री) कार्बन ब्लैक में दुनिया का नंबर 1 खिलाड़ी और सीमेंट (चीन के बाहर) तथा इन्सुलेटर में विश्व का तीसरा सबसे बड़ा उत्पादक बना हुआ है क्योंकि अल्ट्राटेक की सीमेंट उत्पादन क्षमता 2019 में 10 करोड़ टन से ऊपर पहुंच जाने के साथ यह चीन के बाहर किसी भी दूसरे देश में इतनी उत्पादन क्षमता वाली दुनिया की इकलौती कंपनी है

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories, newspapers and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

October 28, 2020