रामलला का नया घर
रामलला का नया घर
राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया के पहले चरण में भगवान राम के बालरूप रामलला अस्थायी मंदिर में रखे गए. पर मूल मंदिर निर्माण से पहले विहिप देशभर में माहौल बनाने की तैयारी में
आशीष मिश्र

अयोध्या में राम जन्मभूमि परिसर में 25 मार्च को एक नई शुरुआत हो रही थी. चैत्र नवरात्रि के पहले दिन तड़के तीन बजते ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने राम जन्मभूमि के गर्भगृह पहुंचकर वहां तिरपाल के नीचे मौजूद रामलला की मूर्ति को मंत्रोच्चार के बीच अपने हाथों में लिया. रामलला को लेकर मुख्यमंत्री पैदल ही गर्भगृह से करीब 200 मीटर दूर मानस भवन के नजदीक तैयार हो रहे नए अस्थायी मंदिर पहुंचे. यहां पुजारियों की देखरेख में योगी आदित्यनाथ ने रामलला को नए अस्थायी मंदिर में विराजमान किया. पिछले वर्ष नवंबर में राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद केंद्र सरकार ने फरवरी में राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट का गठन करने के साथ ही राम मंदिर निर्माण की दिशा में पहला कदम बढ़ाया था. ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय बताते हैं, "नवरात्रि के पहले दिन रामलला को अस्थायी मंदिर में विराजमान करने के साथ ही राम मंदिर निर्माण का प्रथम चरण पूरा हुआ है. वर्षों से रामलला के तिरपाल के नीचे विराजमान होने से लोगों की भावनाएं आहत हो रही थीं." अस्थायी मंदिर में रामलला अपने तीनों भाइयों के साथ चांदी के सिंहासन पर विराजमान हुए हैं.

रामलला को नए अस्थायी मंदिर में शिफ्ट करने के लिए 23 मार्च से अयोध्या में अनुष्ठान शुरू हुआ. राम जन्मभूमि परिसर और टेंट के मंदिर में एक साथ हुए अनुष्ठान में राम जन्मभूमि ट्रस्ट के सदस्य और राजा अयोध्या विमलेंद्र प्रताप सिंह, महामंत्री श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट और विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के अंतरराष्ट्रीय उपाध्यक्ष चंपत राय, अयोध्या के जिलाधिकारी अनुज कुमार झा समेत कई सदस्य उपस्थित थे. रामलला को नए अस्थायी घर में शिफ्ट करने के अनुष्ठान पर भी कोरोना वायरस की मार पड़ी है. पहले यह अनुष्ठान छह दिवसीय होना था पर यह तीन दिन में 25 मार्च को संपन्न हो गया.

बुलेटप्रफ सुरक्षा में भगवान

articleRead

You can read upto 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log-in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

April 08, 2020