शक्ति के नौ रूप, नौ दिन
Sadhana Path|October 2020
शक्ति के नौ रूप, नौ दिन
मां दुर्गा अर्थात् शक्ति की अधिष्ठात्री देवी के नौ रूप होते हैं। इन्हें 'नवदुर्गा' कहते हैं। आइए जानें शक्ति के इन नौ स्वरूपों और उनके अर्थ।
शशिकांत 'सदैव'

प्रथमं शैलपुत्री च द्वितीयं ब्रह्मचारिणी।

तृतीयं चन्द्रघण्टेति कूष्माण्डेति चतुर्थकम्॥

पंचमं स्कन्दमातेति षष्ठं कात्यायनीति च।

सप्तमं कालरात्रीति महागौरीति चाष्टमम्।।

नवमं सिद्धिदात्री च नवदुर्गाः प्रकीर्तिताः।

प्रथम दुर्गा मां शैलपुत्री

मां दुर्गा को सर्वप्रथम 'शैलपुत्री' के रूप में पूजा जाता है। पर्वतराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लेने के कारण उनका नामकरण हुआ 'शैलपुत्री'। इनका वाहन वृषभ है, इसलिए इन्हें 'देवी वृषारुढ़ा' के नाम से भी जाना जाता है। देवी के दाएं हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल सुशोभित है। यह नौ दुर्गा का प्रथम रूप हैं। इन्हें सती के नाम से भी जाना जाता है। इनकी एक मार्मिक कथा भी है:

एक बार जब प्रजापति ने यज्ञ किया तो इसमें सारे देवताओं को निमंत्रित किया, किंतु भगवान शंकर को नहीं। सती यज्ञ में जाने के लिए विकल हो उठीं। भगवान शंकर ने कहा कि सारे देवताओं को निमंत्रित किया गया है, उन्हें नहीं। ऐसे में वहां जाना उचित नहीं है। सती का प्रबल आग्रह देखकर भगवान शंकर जी ने उन्हें यज्ञ में जाने की अनुमति दे दी। सती जब अपने मायका पहुंची तो सिर्फ मां ने ही उन्हें स्नेह दिया। बहनों की बातों में व्यंग्य और उपहास के भाव थे। भगवान शंकर के प्रति भी तिरस्कार का भाव था। दक्ष ने भी उनके प्रति अपमानजनक वचन कहे। इससे सती को क्लेश पहुंचा। वे अपने पति का यह अपमान न सह सकीं और योगाग्नि द्वारा अपने को जलाकर भस्म कर लिया। इस दारुण दुख से व्यथित होकर शंकर भगवान ने उस यज्ञ का विध्वंस कर दिया। यही सती अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री कहलाईं। पार्वती और हेमवती भी इनके अन्य नाम हैं। शैलपुत्री का विवाह भी भगवान शंकर से हुआ। इनका महत्त्व और शक्ति अनंत हैं।

द्वितीय दुर्गा मां ब्रह्मचारिणी

मां दुर्गा की नवशक्ति का दूसरा स्वरूप ब्रह्मचारिणी का है। मां दुर्गा का यह स्वरूप भक्तों और सिद्धों को अनंत फल देने वाला है। इनकी उपासना से तप, त्याग, वैराग्य, सदाचार और संयम की वृद्धि होती है। ब्रह्मचारिणी का अर्थ है 'तप की चारिणी' यानी तप का आचरण करने वाली। देवी का यह रूप पूर्ण ज्योतिर्मय और अत्यंत भव्य है। देवी के दाएं हाथ में जप की माला है और बाएं हाथ में यह कमंडल धारण किए हैं। पूर्वजन्म में देवी ने पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में जन्म लिया था और नारद जी के उपदेश से भगवान शंकर को पति रूप में प्राप्त करने के लिए घोर तपस्या की थी।

इस कठिन तपस्या के कारण इन्हें 'तपश्चारिणी' अर्थात् 'ब्रह्मचारिणी' नाम से अभिहित किया गया। एक हजार वर्ष तक इन्होंने केवल फल-फूल खाकर बिताए और सौ वर्षों तक केवल जमीन पर रहकर शाक पर निर्वाह किया। तीन हजार वर्षों तक टूटे हुए बिल्व पत्र खाकर भगवान शंकर की आराधना करती रहीं। कई हजार वर्षों तक निर्जल और निराहार रहकर तपस्या करती रहीं। पत्तों को खाना छोड़ देने के कारण ही इनका नाम 'अर्पणा' पड़ा।

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories, newspapers and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

October 2020