मुझे समझने के लिए तुम्हें दिवाना मस्ताना होना पड़ेगा ।

Sadhana Path|December 2019

मुझे समझने के लिए तुम्हें दिवाना मस्ताना होना पड़ेगा ।
ओशो को समझने के लिए आपको विचार शून्य होना होगा। कुछ भूलना होगा। जब नजर पर कोई सामाजिक चश्मा न रहेगा तो ओशो आपको सामने खड़े मिलेंगे ।

किसी ने ओशो से प्रश्न पूछा कि ओशो मैं तो आपको समझने की कोशिश में थक गया । कुछ समझ में नहीं आता । अब क्या करूं ?

articleRead

You can read up to 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

December 2019