ताज महल से कम सुंदर नहीं ताज महोत्सव
ताज महल से कम सुंदर नहीं ताज महोत्सव
देश की ऐतिहासिक धरोहर और दुनिया के सात अजूबों में शुमार ताज महल दुनिया भर में प्रसिद्ध है। प्रेम की मिसाल, हस्तशिल्प-कारीगरी का बेहतरीन नमूनों में ताज महल का नाम आता है। और यह रखूबसूरती दोगुनी हो जाती है जब आयोजन होता है ताज महोत्सव का।
प्रिंस भान

फरवरी के महीने में ताज महल की सुंदरता के दीवानों के लिए यहां आने की एक और वजह मिल जाती है । क्योंकि आगरा के शिल्पग्राम में ताज महल के पास इसी वक्त लगता है' ताज महोत्सव' जहां भारत और दुनिया के विभिन्न हिस्सों से आए कलाकार इसे धरती का सबसे जीवंत स्थान बना देते हैं । एक तरफ सफेद संगमरमर से सजा सुंदर ताजमहल और दूसरी तरफ रंग बिरंगी वेशभूषाओं में सजे कलाकार, हाथी घोड़े, पण्डाल । उम्मीद है कि अब तक आपने मन में ताज महोत्सव की एक मनमोहक तस्वीर बना ही ली होगी । तो आईये अब इस तस्वीर में कुछ और रंग भरते हैं, ताज महोत्सव की विस्तृत जानकारी से....

क्यों मनाया जाता है ताज महोत्सव?

आगरा के शिल्पग्राम में हर साल 18 से 27 फरवरी तक चलने वाले इस दस दिवसीय उत्सव का आयोजन पर्यटन मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा किया जाता है। इसका पहला आयोजन साल 1992 में किया गया था। इसका मुख्य उद्देश्य विश्व को भारतीय हस्तशिल्प, संस्कृति, व्यंजनों, नृत्य विधाओं और संगीत व मुगलकालीन परम्पराओं से दुनिया को अवगत करवाना है।

उत्सव की शुरूआत होती है एक प्राचीन मुगलकालीन परम्परा से जिसमें रत्नों और पोषाकों से सजे हुए हाथी और ऊंटों के साथ ढोल-नगाड़ों और अन्य कलाकारों की जोरदार प्रस्तुति के साथ झांकी निकाली जाती है। इस झांकी के बाद आधिकारिक रूप से इस उत्सव की शुरूआत हो जाती है।

क्या-क्या है खास?

articleRead

You can read upto 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log-in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

February 2020