हैवानियत की हद

Manohar Kahaniyan|February 2020

हैवानियत की हद
अस्पताल में साथ काम करतेकरते डा. सुदीप और दीपा के बीच अवैध संबंध बन गए थे. पत्नी होने के नाते डा. सीमा का विरोध गलत नहीं था, लेकिन उस ने हैवानियत का जो कृत्य किया. वह...
विजय माथुर/कैलाश चंदेल

गुरुवार 7 नवंबर, 2019. थी. दोपहर ढल रही थी. शहरों की पौश कालोनियों में आमतौर पर मामूली आवाजाही को छोड़ दें तो ज्यादातर सन्नाटा ही रहता है. भरतपुर शहर के जयपुर आगरा हाइवे पर स्थित सूर्या सिटी कालोनी की स्थिति भी ऐसी ही थी. कालोनी में खामोशी तो नहीं थी, लेकिन कोई खास हलचल भी नहीं थी.

ढलती शाम में क्रीम कलर की एक कार दरख्तों से घिरी एक दोमंजिला कोठी के सामने आ कर रुकी. कार से 2 महिलाएं उतरीं. उन 2829 साल की खूबसूरत, में से एक करीब आकर्षक युवती थी. जो नजर का चश्मा लगाए हुए थी. इस युवती का नाम डा. सीमा गुप्ता था. सीमा शहर की प्रख्यात स्त्री रोग विशेषज्ञ थी. दसरी अधकटे सफेद बालों वाली बुजुर्ग महिला थी, जो डा. सीमा की सास सुरेखा गुप्ता थी. दोनों के चेहरे बुरी तरह तमतमाए हुए थे.

articleRead

You can read upto 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log-in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

February 2020