उधारी का उधार का प्यार

Manohar Kahaniyan|March 2020

उधारी का उधार का प्यार
उस रोज बेचू अपने निर्धारित समय से पहले ही घर के लिए निकल पड़ा था. अभी वह अपनी गली के नुक्कड़ पर ही पहुंचा था कि उस ने अपने घर की तरफ से संजीव यादव उर्फ उधारी को आते हुए देखा.
नितिन कुमार शर्मा

संजीव को देख कर बेचू का माथा ठनका. उस के दिलोदिमाग पर शक काबिज हो चुका था. वह तेज कदमों से घर के अंदर दाखिल हुआ तो उस की पत्नी ममता उसे देखते हुए थोड़ी हड़बड़ाई फिर मुसकराते हुए बोली, "क्या हुआ, आज कैसे जल्दी आ गए?"

"क्यों, जल्दी आने पर कोई पाबंदी है क्या ?" बेचू ने पत्नी के अस्तव्यस्त कपड़ों को गौर से देखते हुए तंज किया.

"लगता है आज तुम फिर लड़ाई के मूड में हो. मैं ने पूछ कर कोई गुनाह कर दिया क्या?" पत्नी बोली.

“पहले यह बता कि संजीव यहां क्यों आया था?"बेचू ने पत्नी ममता से सीधे सवाल किया.

"कौन संजीव?" ममता के चेहरे पर हैरानी उभरी.

"वही संजीव, जो अभीअभी यहां से बाहर निकला है. ढोंग क्यों करती है, साफसाफ बता." बेचू लगभग चीखने वाले अंदाज में बोला.

शौहर के तेवर देख कर एक पल के लिए ममता सकपका गई, लेकिन जल्द ही संभल कर बोली, "तुम्हारे दिमाग में तो लगता है शक बैठ गया है. हर वक्त उल्टा ही सोचते रहते हो. मैं कह रही हूं न कि घर में कोई नहीं आया था."

बेचू को लगा कि उस की पत्नी सफेद झूठ बोल रही है. जबकि उस ने संजीव को खुद अपनी आंखों से अपने घर की तरफ से आते देखा था. उस ने आव देखा न ताव, एक झन्नाटेदार चांटा ममता के गाल पर जड़ दिया, "कमीनी, कुछ तो शरम कर, कम से कम अपने बच्चों की शरम कर. मेरी तो किस्मत ही फूट गई जो तुझ जैसी बेहया औरत से पाला पड़ गया."

आक्रोश और आवेग के मारे बेचू रोने लगा तो ममता अपना गाल सहलाती हुई धीमे बोली, "देखो जी, बिना पूरी बात जाने तुम गुस्से में मत आया करो. बेकार ही तुम मुझ पर लांछन लगा रहे हो. वह आया जरूर था, पर मैं ने उसे दरवाजे से ही भगा दिया. तुम बेकार में ही मुझ पर तोहमत लगा रहे हो. क्या मुझे तुम्हारी इज्जत का खयाल नहीं है?"

बेचू ने ममता की आंखों में देखा तो वहां आंसू झिलमिला रहे थे. उस ने सोचा कि कहीं उस से गलती तो नहीं हो गई. शायद ममता सच बोल रही हो.

बेचू उत्तर प्रदेश के जनपद बलिया के ब्रहमाइन गांव के रहने वाले सरल यादव का बेटा था. वह छोटा ही था जब उस के मांबाप की मृत्यु हो गई थी. उस की बड़ी बहन रागिनी ने ही उसे पाला था.

15 साल पहले बेचू का विवाह बलिया के थाना रेवती के गांव वशिष्ठ नगर निवासी ममता से हो गया. ममता काफी खूबसूरत थी. उस की खूबसूरती में बेचू खो सा गया. वह अपने आप को खुशकिस्मत समझता था कि ममता जैसी सुंदर पत्नी उसे मिली है. इसलिए वह उस पर जम कर प्यार लुटाता था. इस प्यार का परिणाम भी कुछ समय पर सामने आने लगा. ममता ने एक बेटी प्रियांशी ( 10 वर्ष ) और 3 बेटों पीयूष (8 वर्ष ), प्रिंस (6 वर्ष), विशाल (4 वर्ष) को जन्म दे दिया.

परिवार बढ़ गया तो परिवार के भरणपोषण में दिक्कतें आने लगी. उसे मेहनतमजदूरी कर के इतना पैसा नहीं मिल पाता था कि वह आसानी से अपने परिवार कर खर्चा उठा ले. जबकि बेचू सुबह 8 बजे घर से निकलता तो रात को कभी 9 बजे तो कभी 11 बजे ही घर में घुस पाता था.

जो इंसान सुबह से देर रात तक मेहनत करेगा तो जाहिर है उस का बदन थक कर चूरचूर हो ही जाएगा. बेचू भी जब घर पहुंचता तो वह काफी थकाहारा होता था. ऐसे में वह किसी तरह खाना खा कर चारपाई पर लेटते ही खर्राटे भरने लगता.

उधर 4 बच्चों की मां बनने के बाद भी ममता की जवानी उफान पर थी. जबकि बेचू की थकान उस की हसरतों का गला घोंट देती थी. बलिया के हलदी थाना क्षेत्र के हरिहरपुर गांव में भोला यादव रहते थे. उन के परिवार में पत्नी के अलावा एक बेटी सीमा और 2 बेटे संजय और संजीव उर्फ उधारी थे. संजीव सब से छोटा था. वह अविवाहित था. संजीव बनारस के एक होटल में खाना बनाने का काम करता था. वह चाइनीज फूड काफी अच्छा बनाता था.

मंदिर पर हुई मुलाकात

हरिहरपुर से ब्रहमाइन गांव के बीच की दूरी महज 7 किलोमीटर थी. ब्रहमाइन गांव में ब्रहमाणी देवी का मंदिर था. संजीव अकसर मंदिर में माता रानी के दर्शन के लिए आता था. मंदिर के पास में ही बेचू का घर था. बेचू तो सुबह ही काम पर निकल जाता था और देर रात लौटता था. उस की पत्नी ममता मंदिर पर ही अधिकतर बनी रहती थी. वहीं पर ममता की जानपहचान संजीव से हुई थी. दोनों में परिचय हुआ तो बातें हुईं. एकदूसरे से मिल कर उन्हें काफी खुशी हुई.

उस दिन के बाद उनकी मुलाकातें अकसर मंदिर पर होने लगी. ममता को अपने से कम उम्र का संजीव पहली ही नजर में भा गया था. ममता की खूबसूरती और उस के बारे में जान कर संजीव भी उस में रुचि लेने लगा. दोनों में जब काफी मेलमिलाप होने लगा तो ममता उसे अपने घर भी ले जाने लगी.

दोनों का साथ रंग दिखाने लगा था. वह एकदूसरे के आकर्षण में बंध गए थे. जब भी उन का आमनासामना होता तो दोनों के होंठ स्वतः ही मुसकरा उठते थे.

संजीव जल्द से जल्द ममता से नजदीकी संबंध बनाना चाहता था. ममता को देख कर संजीव की कामनाएं अंगडाइयां लेने लगती थीं. एक दिन जब वह ममता के घर आया तो सजीधजी ममता को देख कर उस का मन डोल गया. संजीव उसे अपनी कल्पनाओं की दुलहन बना कर न जाने क्याक्या सोचने लगा. तभी ममता चाय बना कर ले आई. दोनों की नजरें मिलीं तो एक मूकसंदेश का आदानप्रदान हो गया. संजीव ने ममता की आंखों में प्यास देख ली थी तो ममता ने भी उस की आंखों में कामना का पानी.

उस रोज के बाद संजीव का बेचू के घर आनाजाना शुरू हो गया. बेचू ममता को भाभी कह कर बुलाता था, इस नाते ममता से हंसीमजाक भी कर लिया करता था.

एक दिन संजीव ममता के घर गया तो उस समय वह अकेली थी. अंदर आते ही उस ने पूछा, "भाभी, बच्चे घर पर नहीं हैं क्या?"

"यह तो तुम भी जानते हो कि इस वक्त बच्चे घर पर नहीं होते." ममता ने उस की आंखों में आंखें डाल कर कहा तो वह एकदम ऐसे सकपका गया, जैसे उस की चोरी पकड़ी गई हो. सच भी यही था. वह जानबूझ कर ऐसे समय आया था.

"तुम तो बहुत पारखी हो भाभी."

"औरत की नजरें मर्द के मन को अच्छी तरह पहचानती हैं संजीव." ममता ने इठलाते हुए कहा, "बैठो, मैं तुम्हारे लिए चाय बना कर लाती हूं."

संजीव पलंग पर बैठ गया, "तुम ने तो मेरी चोरी पकड़ ली, लेकिन यह नहीं बताया कि मेरा इस तरह आना तुम्हें बुरा तो नहीं लगता?"

"बुरा लगता तो इस तरह चाय के लिए क्यों पूछती?" ममता ने आंखें नचाईं.

"एक बात कहूं, भाभी?" संजीव ने सूखे गले से थूक निगलते हुए कहा.

"कहो." ममता की आंखों में उम्मीद की एक नई चमक आ गई.

"तुम बहुत अच्छी हो. जब से तुम्हें देखा है, मन बारबार तुम्हें देखने को मचलता रहता है."संजीव ने कहा.

"ये सब कहने की बातें हैं, संजीव. पहले ये भी ऐसा कहते थे. सब मर्द एक जैसे होते हैं. बाहर से कुछ और अंदर से कुछ और." ममता ने ताना मारा.

articleRead

You can read upto 3 premium stories before you subscribe to Magzter GOLD

Log-in, if you are already a subscriber

GoldLogo

Get unlimited access to thousands of curated premium stories and 5,000+ magazines

READ THE ENTIRE ISSUE

March 2020