Uday India Hindi Magazine - June 19, 2022Add to Favorites

Uday India Hindi Magazine - June 19, 2022Add to Favorites

Go Unlimited with Magzter GOLD

Read Uday India Hindi along with 8,500+ other magazines & newspapers with just one subscription  View catalog

1 Month $9.99

1 Year$99.99 $49.99

$4/month

Save 50% Hurry, Offer Ends in 2 Days
(OR)

Subscribe only to Uday India Hindi

Buy this issue $0.99

Subscription plans are currently unavailable for this magazine. If you are a Magzter GOLD user, you can read all the back issues with your subscription. If you are not a Magzter GOLD user, you can purchase the back issues and read them.

Gift Uday India Hindi

In this issue

June 19, 2022

मोहन भागवत की बोध-दृष्टि में ज्ञानवापी

किसी भी देश की माटी को प्रणम्य बनाने, राष्ट्रीय एकता को सुदृढ़ बनाने एवं कालखंड को अमरता प्रदान करने में राष्ट्रनायकों की अहम भूमिका होती है।

मोहन भागवत की बोध-दृष्टि में ज्ञानवापी

1 min

राजनीति का नया स्वरूप - दंगा पॉलिटिक्स

बीते दौर में किसी शायर ने कहा था कि बात निकलेगी तो दूर तलक जाएगी। लेकिन आज की परिस्थितियों में तो लगता है कि बात निकलेगी तो हिंसा तक जाएगी।

राजनीति का नया स्वरूप - दंगा पॉलिटिक्स

1 min

ज्ञानवापी-मजहबी कट्टरता के इतिहास से स्वर्णिम भविष्य की उम्मीद

जब हम ज्ञानवापी का इतिहास खंगालते हैं तो हम देखते हैं कि ज्ञानवापी वस्तुतः किसी क एक मंदिर के ध्वंस या किसी एक घटना का इतिहास नहीं है बल्कि यह उस भयावह दौर की सिलसिलेवार सच्चाई है जब हमारा देश मजहबी कट्टरता से पराजित हुआ और हमने लगभग पूरे देश में अपने आस्था केंद्रों की वीभत्स तबाही को सहा।

ज्ञानवापी-मजहबी कट्टरता के इतिहास से स्वर्णिम भविष्य की उम्मीद

1 min

ज्ञानवापी: आदिकाल से अब तक

वाराणसी दुनिया के इस सबसे प्राचीन शहर के बारे में आधुनिक इतिहासकारों ने 'Older Than History' यानी 'इतिहास से भी पुराना' विशेषण का उल्लेख किया है। जो भी शख्स अपनी जदगी में एक बार भी बनारस गया हो, उसे ये महसूस होता है कि इस शहर में कुछ ना कुछ खास तो जरुर है। जो कि आपको अपनी तरफ खींचता है।

ज्ञानवापी: आदिकाल से अब तक

1 min

क्या नूपुर प्रकरण पर भाजपा दबाव में है ?

भाजपा प्रवक्ता नूपुर शर्मा और नवीन जिंदल के बयानों से आहत कट्टरपंथी मुस्लिम समाज के नेता व संगठन लगातार दोनो नेताओं को लगातार धमकियां दे रहे हैं। नूपुर को रेप और हत्या की धमकियां मिल रही थीं तथा कुछ संगठनो ने तो उनका सिर कलम करने के लिए करोड़ तक का ईनाम भी घोषित कर दिया है। यह एक अजीब सी बात है कि भाजपा आलाकमान ने इन विरोधियों के खिलाफ एक कड़ा बयान नहीं जारी किया था और न हीं नूपुर को संगठन की ओर से कोई मदद दी जा रही थी।

क्या नूपुर प्रकरण पर भाजपा दबाव में है ?

1 min

क्या है ज्ञानवापी का सच

ज्ञानवापी के नाम से विख्यात यह मस्जिद भगवान विश्वनाथ के मंदिर से इतनी चिपकी हुई सी सी है कि वह शक पैदा करती है। ऐतिहासिक और पौराणिक तथ्य तो बाद में आते हैं, लेकिन तात्कालिक साक्ष्य इस मस्जिद पर शक करने के लिए काफी हैं। मंदिर पर अपनी राजनीतिक विचारधारा के हिसाब से इस मंदिर और मस्जिद पर विचार प्रगट करने वालों को छोड़ दें, तो आम नागरिक भी यही मानता है कि यहां मंदिर रहा होगा और आक्रांताओं ने इसे तोड़कर जबरिया वहां मस्जिद बना दी।

क्या है ज्ञानवापी का सच

1 min

आतंकियों को मिल रही सजा, माफिया पर हो रही कार्यवाही

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में भी कानून व्यवस्था को लेकर बहुत सख्त तेवर अपना रही है और जिसके परिणाम स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ रहे हैं।

आतंकियों को मिल रही सजा, माफिया पर हो रही कार्यवाही

1 min

ज्ञानवापी विवाद के मायने

नब्बे के दशक में जब राम मंदिर आंदोलन उफान पर था, तो अमूमन गलियों में एक नारा जोरो से लगाया जाता, 'अयोध्या तो झांकी है, काशी- मथुरा बाकी है'।

ज्ञानवापी विवाद के मायने

1 min

इंसाफ एकतरफा क्यों?

नूपुर - नवीन को तो सजा दे दी, इन मजहबी कट्टरपंथियों का फैसला कब होगा

इंसाफ एकतरफा क्यों?

1 min

अत्पसंख्यक तुष्टीकरण का खतरनाक खेल

कैराना, मुजफ्फरनगर की शर्मनाक घटना जिसमें समाजवादी पार्टी पर न मिटने वाला कलंक लगा, जहां सपा के परोक्ष मुख्यमंत्री की हैसियत रखने वाले मुसलिम नेता आजम खां के दबाव में रातोंरात कलेक्टर और पुलिस कप्तान को ट्रांसफर किया गया। जुल्म की इतिहा तब हो गयी जब हिन्दुओं को पलायन करना पड़ा। उनके घरों पर मकान बिकाऊ के नोटिस लग गये। इसी तरह कश्मीर से भी लाखों हिन्दुओं को घर छोड़ कर भागना पड़ा था।

अत्पसंख्यक तुष्टीकरण का खतरनाक खेल

1 min

भारत विरोधी तत्वों में भरा जहर है दंगों की वजह

यह संयोग ही है कि जिन दिनों य रामनवमी पड़ती है, उन्हीं दिनों मुस्लिम समुदाय का रोजे चल रहे होते हैं। कुछ ऐसा ही संयोग विक्रमी संवत के श्रावण के महीने का भी होता है।

भारत विरोधी तत्वों में भरा जहर है दंगों की वजह

1 min

हिन्दू शोभायात्रा पर सुनियोजित हमले

स्वतंत्र भारत में हिन्दू संगठनों द्वारा निकाली गई शोभायात्रा पर पथराव और आगजनी की घटना कई राज्यों और जेएनयू जैसे शैक्षिक संस्थान में भी हुई। पहले राजस्थान उसके बाद मध्य प्रदेश, गुजरात, पश्चिम बंगाल और झारखंड आदि राज्यों में रामनवमी के अवसर पर जो शोभायात्रा निकाली गई उस पर दंगाइयों द्वारा हमले किए जा रहे हैं। यहां तक कि अब शैक्षणिक संस्थान भी इससे अछूते नहीं रहे। जेएनयू जैसे विश्वविद्यालयों में रामनवमी के दिन हिन्दू विद्यार्थियों के पूजा और हवन को बाधित किया गया।

हिन्दू शोभायात्रा पर सुनियोजित हमले

1 min

हिंसा परमो धर्मः वालों के लिये निष्कासन कानून जरुरी

सनातन धर्म के अनुयायियों को सताना उन पर जुल्म करना मुस्लिम हमलावरों और मुगल राजाओं की सोच और आदत रही है।

हिंसा परमो धर्मः वालों के लिये निष्कासन कानून जरुरी

1 min

क्यों हिन्दू पर्व हिंसा का शिकार हों ?

रामनवमी एवं हनुमान जयन्ती पर एक सम्प्रदाय विशेष के लोगों ने जो , हिंसा, नफरत एवं द्वेष को हथियार बनाकर अशांति फैलायी, वह भारत की एकता, अखण्डता एवं भाईचारे की संस्कृति को क्षति पहुंचाने का माध्यम बनी है।

क्यों हिन्दू पर्व हिंसा का शिकार हों ?

1 min

त्यौहारों पर हिंसा का साया

इस समय देश बड़ी विकट स्थिति से गुजर रहा है। एक आम आदमी जो कि इस देश की नींव है उस के लिए जीवन के संघर्ष ही इतने होते हैं कि वो अपनी नौकरी, अपना व्यापार, अपना परिवार, अपने और अपने बच्चों के भविष्य के सपनों से आगे कुछ सोच ही नहीं पाता। वो रोज सुबह उम्मीदों की नाव पर सवार अपने काम पर जाता है और शाम को इस दौड़ती - भागती जिंदगी में थोड़े सुकून की तलाश में घर वापस आता है।

त्यौहारों पर हिंसा का साया

1 min

हिन्दू शोभायात्रा के खिलाफ हिंसा एक साजिश

हाल ही में दिल्ली में हुई एक घटना ने भारत में एक बार फिर से सेक्युलरिज्म को लेकर एक नई बहस छेड़ दी है, जहां हनुमान जयंती के पर्व के दिन कुछ मुस्लिम दंगाइयों ने हिन्दुओं की शोभायात्रा पर पथराव कर दिया लेकिन सवाल यह उठता है कि किसी सभ्य समाज में ऐसी घटनाओं को बर्दाश्त किया जा सकता है ?

हिन्दू शोभायात्रा के खिलाफ हिंसा एक साजिश

1 min

अच्छे खान-पान से बढ़ती है उम्र

खान-पान का मनुष्य के शरीर पर क्या प्रभाव पड़ता है, इसको लेकर हाल ही में नॉर्वे में, दुनिया का अब तक का सबसे बड़ा व प्रभावी अध्ययन किया गया है।

अच्छे खान-पान से बढ़ती है उम्र

1 min

अमन के फरिश्तों का सच

शोभायात्राओं पर हमले का क्रम देश की राजधानी दिल्ली तक पहुंच गया। जहांगीरपुरी में हनुमान जन्मोत्सव की शोभायात्रा पर भीषण हमला और आगजनी ठीक वैसे ही है, जैसा हम मध्य प्रदेश के खरगोन से लेकर गुजरात के खंभात और राजस्थान के करौली तक में देख चुके हैं। दिल्ली, गुजरात, झारखंड, बंगाल, कर्नाटक, मध्य प्रदेश आदि राज्यों में हुई इन हिंसक घटनाओं के बीच समानताएं अगर किसी को न दिखती हो, तो उसे 'आंख से अंधा नाम नैनसुख' कह सकते हैं।

अमन के फरिश्तों का सच

1 min

'जय श्री राम' कहना और हनुमान चालीसा पाठ अब अपराध ?

कहां हैं सेकुलरवाद, उदारवाद व अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के ठेकेदार ?

'जय श्री राम' कहना और हनुमान चालीसा पाठ अब अपराध ?

1 min

'ऑपरेशन गंगा' एक जटिल मानवीय ऑपरेशन की दास्तान

हाल ही में सकुशल समाप्त हुए ऑपरेशन गंगा को भविष्य में एक ऐसी घटना के रुप में देखा जायेगा जिसमें हमारी सरकार ने मानवीय, जनतांत्रिक, कूटनीतिक और साहस के सभी पैमानों पर खरा उतरते हुए न केवल देश के 22500 नागरिकों को बल्कि 18 अन्य देशों के 147 नागरिकों को भी बरसती मिसाइलों के बीच से सुरक्षित निकाल कर एक नया इतिहास रच दिया।

'ऑपरेशन गंगा' एक जटिल मानवीय ऑपरेशन की दास्तान

1 min

शाहबाज शरीफ का कश्मीर राग दुर्भाग्यपूर्ण

पाकिस्तान में एक और सत्ता की तख्ता पलट का नाटक पूरी दुनिया ने देखा। सत्ता में बने रहने के इमरान खान के सारे दांव-पेंच बेकार साबित हुए।

शाहबाज शरीफ का कश्मीर राग दुर्भाग्यपूर्ण

1 min

भाजपा की ऐतिहासिक विकास यात्रा

भाजपा पर एक पठन

भाजपा की ऐतिहासिक विकास यात्रा

1 min

निर्यात के क्षेत्र में भारत की नई उपलब्धि

प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि भारत ने वित्त वर्ष 2022 में निर्यात में 400 अरब डॉलर का लक्ष्य हासिल किया था और उपलब्धि के लिए किसानों, बुनकरों, एमएसएमई, निर्माताओं और निर्यातकों को लागू किया था।

निर्यात के क्षेत्र में भारत की नई उपलब्धि

1 min

नरेन्द्र मोदी का आत्मानिर्भर भारत - दीनदयाल उपाध्याय की आर्थिक दृष्टि

पांच दशक बाद 2015 में, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी 'आत्मनिर्भर भारत की अवधारणा के साथ सामने आए, जो कि दीनदयाल उपाध्याय के एकात्म मानव दर्शन का प्रतिबिम्ब ही है। ऐसे में मोदी दीनदयाल उपाध्याय के सपने को साकार कर रहे हैं। वास्तव में, 'आत्मनिर्भर भारत' की अवधारणा की विशिष्ट विशेषताएं दीनदयाल उपाध्याय के उस आर्थिक दर्शन में दिए गए तत्वों से मेल खाती हैं। दीनदयाल उपाध्याय ने कहा कि भारतीय जनता का विनाशकारी आत्म-विस्मरण' देश की आर्थिक बीमारियों का मूल कारण था। वास्तविकता में उनका मानना था कि 'आर्थिक विकास लोगों के लिए लोगों द्वारा ही किया जाना चाहिए और यही सच्चाई है।

नरेन्द्र मोदी का आत्मानिर्भर भारत - दीनदयाल उपाध्याय की आर्थिक दृष्टि

1 min

गर्मियों में चिल करने की जगहें

भारत एक विविधताओं का देश है। आपकी पसंद के अनुसार सभी तरह के स्थान भारत में उपलब्ध हैं। बर्फीले प्रदेश से लेकर रेगिस्तान, हरित प्रदेश, समुंदर के किनारे के स्थान, ऐतहासिक स्थल, धार्मिक स्थल, विभिन्न प्रकार की जलवायु आदि। इसीलिए इस गर्मी से राहत के लिए अपने तथा अपनों के लिए समय निकालें और इन पसन्दीदा स्थानों का आनंद लें।

गर्मियों में चिल करने की जगहें

1 min

परीक्षा के तनाव के शमन के लिए आत्मविश्वास जरूरी

परीक्षा तनाव रिलीवर के बारे में एक लेख

परीक्षा के तनाव के शमन के लिए आत्मविश्वास जरूरी

1 min

गर्मियों में रहें कूल

मौसम के हिसाब से फैशन भी बदलता रहता है। अब गर्मियों के मौसम ने देशभर में दस्तक दे दी है, जिससे गर्मियों के हिसाब से ही फैशन में भी बदलाव आने लगा है। ऐसे में अगर आप (पुरुष/महिला) कंफर्टेबल कपड़ों के शौकीन हैं और समर फैशन के स्टाइल्स को फॉलो करना चाहते हैं, तो यहां हम आपके लिए कुछ ऐसे फैशन टिप्स लेकर आए हैं, जो गर्मियों के हिसाब से बिल्कुल परफेक्ट हैं।

गर्मियों में रहें कूल

1 min

गर्मी के दिनों में कैसे रखें सेहत का ख्याल - क्या खाएं, क्या न खाएं और कैसे खाएं

मौसम विभाग के अनुमान के अनुसार, उत्तर भारत में इस वर्ष तापमान सामान्य से 1.5 डिग्री सेल्सियस ज्यादा रहेगा। इस वर्ष मार्च के अंत में ही पूरा उत्तर भारत गर्मी की चपेट में आ गया। अप्रैल माह के पहले सप्ताह में ही तापमान 42 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच गया। इस समय भोजन का खासा ध्यान रखने की जरूरत है। इस समय बेचैनी, घबराहट, सुस्ती के अलावा पेट संबंधी बीमारियां इस मौसम में आम बात है। इन सभी समस्याओं से निपटने के लिए हमें अपनी डाइट में थोड़ा बदलाव और दिनचर्या में व्यायाम को शामिल करके परेशानियों से बचा जा सकता है। जिससे हम ऊर्जावान होकर अपनी कार्यक्षमता को बढ़ा सकें।

गर्मी के दिनों में कैसे रखें सेहत का ख्याल - क्या खाएं, क्या न खाएं और कैसे खाएं

1 min

कैसे बचें गर्मी की चुभन से

गर्मी के मौसम में खास टिप्स

कैसे बचें गर्मी की चुभन से

1 min

कलिकाल में हनुमान जी की भक्ति का महत्व

हनुमान जी कलियुग के जाग्रत देव हैं जो भक्तों को बल, बुद्धि, विवेक प्रदान करके भक्तों की रक्षा करते हैं। हनुमान जी के स्मरण से रोग, शोक व कष्टों का निवारण होता है।

कलिकाल में हनुमान जी की भक्ति का महत्व

1 min

Read all stories from Uday India Hindi

Uday India Hindi Magazine Description:

Publisheruday india

CategoryNews

LanguageHindi

FrequencyFortnightly

Uday India is successfully running in the 12th year of its existence. It is not a run-of-the-mill publication. Uday India does not fall as a thud on your doorstep but enters as a whiff of fresh air into reading corridors of the country. The weekly is based on the staple of news and current affairs. It focuses on politics, security, youth affairs, health, women, net space, diplomacy, media, economy, education, sports, showcasing the slow and steady march of India towards the goal of becoming a global power in every sense of the term. A new feather in the cap is spiritualism that has lately permeated every aspect of human endeavour. The cover story every week is spun out of the most current happening. There are for sure pages for book review and technological advancements. Apart from these building blocks, there are incessant efforts to customize the magazine to the taste of the reader. Its quality commensurates with the prolific promise.

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
MAGZTER IN THE PRESS:View All