Kendra Bharati - केन्द्र भारती - August 2016Add to Favorites

Get Kendra Bharati - केन्द्र भारती along with 5,000+ other magazines & newspapers

Try FREE for 7 days

bookLatest and past issues of 5,000+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.

1 Year$99.99 $49.99 Save 50%

bookLatest and past issues of 5,000+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.
(Or)

Get Kendra Bharati - केन्द्र भारती

1 Year$11.88 $1.99

Save 83%
book12 issues starting from June 2021 phoneDigital Access. Cancel Anytime.

Buy this issue $0.99

bookAugust 2016 issue phoneDigital Access.

Magzters 10th Anniversary Sale! Save 83% on annual subscriptions. Valid till June 22, 2021

Gift Kendra Bharati - केन्द्र भारती

  • Magazine Details
  • In this issue

Magazine Description

In this issue

भारत की सनातन परम्परा में प्रत्येक साधक की पहली चाह होती है - जगने की, जागरूक रहने की। यजुर्वेद में इसी चाह को शब्द दिए गए हैं - हम राष्ट्र में पुरोहित बन कर जागें - वयं राष्ट्रs जागृयाम पुरोहिताः। परिवार संसार का सबसे बड़ा विष्वविद्यालय है। सबसे बड़ा चिकित्सालय है। सबसे बड़ी पाठशाला है। इसका निर्माण गृहिणी करती है - गृहिणी गृहम् उच्यते। मनुस्मृति के इस कथन का वैदिक आधार है - जायेदस्तम् - जाया इत् अस्तम् = जाया ही घर है। नारी की सुरक्षा और सम्मान परिवार में संभव है। परिवार में हर सदस्य को अपने दोषों को दूर करने की छूट होती है - परितः (नि-) वारयति स्व दोषान् यस्मिन्। परिवार नामक संस्था को सुरक्षित रखने से ही भारत राष्ट्र सुरक्षित है।

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
RECENT STORIES FROM KENDRA BHARATI - केन्द्र भारतीView All