News Times Post Hindi - October 1, 2018Add to Favorites

Get News Times Post Hindi along with 8,000+ other magazines & newspapers

Try FREE for 7 days

bookLatest and past issues of 8,000+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.familyShare with 4 family members.

1 Year$99.99

bookLatest and past issues of 8,000+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.familyShare with 4 family members.

Gift Unlimited Reading Access

(Or)

Get News Times Post Hindi

Buy this issue $0.99

bookOctober 1, 2018 issue phoneDigital Access.

Subscription plans are currently unavailable for this magazine. If you are a Magzter GOLD user, you can read all the back issues with your subscription. If you are not a Magzter GOLD user, you can purchase the back issues and read them.

Gift News Times Post Hindi

  • Magazine Details
  • In this issue

Magazine Description

In this issue

सूबे में केसरिया सरकार को काबिज हुए डेढ़ साल का वक्त गुजर चुका है। जनता की आशा और अपेक्षा के सैलाब को मूल्यांकन के पुल पर कदमताल करते हुए पार उतरा है, वक्त का हर लम्हा। दरअसल हर गुजरता लम्हा अपने आप में आईना है। और आईने में विगत दस वर्षों से दुव्र्यवस्था के घोर अंधेरों में भटकती कानून-व्यवस्था का अक्स बहुत खूबसूरत नहीं उभर रहा है। आज भी उसमें आधी आबादी डरी-सहमी ही नजर आ रही है। अपराधी और शोहदे बाकायदा अस्मतरेजी कर वीडियो तक वायरल कर रहे हैं। लेकिन उसी आईने में पुलिस की गोली का शिकार बन रहे, जान बचा कर भाग रहे अपराधियों के अक्स भी उभर रहे हैं, जो पिछले दस वर्षों में कभी देखने को नहीं मिले। तो आइये देखते हैं एक योगी की हुकूमत में कानून का इकबाल कैसा होता है? क्या एक योगी की नुमाइन्दगी में महफूज, महसूस रही है सूबे की आधी आबादी! अपराधियों के लिए अब तक सफारी जोन बना सूबा, क्या अब आम अवाम के लिए सेफ है या आज भी हुकूमत का इकबाल दूर किसी पेड़ पर क्षत-विक्षत अवस्था में उल्टा टंगा नजर आ रहा है?

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
RECENT STORIES FROM NEWS TIMES POST HINDIView All