Cricket Today - Hindi - November 2016Add to Favorites

Get Cricket Today - Hindi along with 7,500+ other magazines & newspapers

Try FREE for 7 days

bookLatest and past issues of 7,500+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.

1 Year$99.99 $49.99 Save 50%

bookLatest and past issues of 7,500+ magazines & newspapersphoneDigital Access. Cancel Anytime.
(Or)

Get Cricket Today - Hindi

1 Year $4.99

Save 58%
book12 issues starting from June 2022 phoneDigital Access. Cancel Anytime.

Buy this issue $0.99

bookNovember 2016 issue phoneDigital Access.

Gift Cricket Today - Hindi

  • Magazine Details
  • In this issue

Magazine Description

In this issue

भारतीय क्रिकेट के लिहाजा से पिछला एक महीना कई मायने में ऐतिहासिक रहा है। भारतीय टीम ने 500 टेस्ट मैच खेलने का गौरव प्राप्त करके एलीट क्लब में प्रवेश करने के साथ ही आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में नंबर वन की पोजीशन को हासिल कर लिया है तो ऑफ स्पिनर रविचंद्रन अश्विन ने न्यूजीलैंड टीम के खिलाफ दमदार प्रदर्शन करते हुए एक बार फिर टेस्ट का नंबर वन गेंदबाज़ बनने का रुतबा हासिल कर लिया है। सच कहा जाये तो भारतीय टीम को न्यूजीलैंड के खिलाफ 3-0 की सीरीज विजय में अश्विन ने ऐसी जबर्दस्त भूमिका निभाई है कि अगर इसे अश्विन सीरीज कह दिया जाये तो कोई अतिश्योक्ति नहीं होगी। अश्विन साल 2000 के बाद 900 आईसीसी रैंकिंग अंक हासिल करने वाले गेंदबाजों मुथैया मुरलीधरन, ग्लेन मैक्ग्राथ, वर्नान फिलैंडर, डेल स्टेन और शॉन पोलाक की जमात का हिस्सा बन गये हैं। आज हालात ऐसे बन चले हैं कि विरोधी टीमों को सबसे पहले अश्विन नामक किले को भेदने के बारे में सोचना पड़ता है। बहरहाल, विराट कोहली की कप्तानी में टीम इंडिया ने न्यूजीलैंड का 3-0 से क्लीन स्वीप करके अपने सभी शुभचिंतकों को भरोसा दिलाया है कि टीम आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में अब लंबे वक्त तक अपनी बादशाहत कायम करने का माद्ïदा रखती है। जबकि परिस्थितियां भी हर लिहाज से अनुकूल हैं क्योंकि टीम को आने वाले वक्त में अपनी जमीं पर इंगलैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसी टीमों से टेस्ट सीरीज खेलनी है जिन्होंने कुछेक मौके छोड़ दिये जायें तो अधिकांश अवसरों पर मुंह की खाई है। हालांकि भारतीय क्रिकेट बोर्ड के लिये ये वक्त बेहद तनावपूर्ण चल रहा है। सच कहा जाये तो सुप्रीम कोर्ट बनाम बीसीसीआई की लड़ाई में हर तरफ से हार बोर्ड की ही नजर आ रही है लेकिन असली माजरा तो वक्त आने पर ही पता चलेगा क्योंकि वक्त ही सबसे बलवान होता है।

  • cancel anytimeCancel Anytime [ No Commitments ]
  • digital onlyDigital Only
RECENT STORIES FROM CRICKET TODAY - HINDIView All